sulabh swatchh bharat

बुधवार, 20 सितंबर 2017

कविता देवी - कुश्ती की देवी

पहली भारतीय महिला रेसलर कविता देवी ने डब्ल्यूडब्ल्यूई में रचा इतिहास

कविता देवी भारत की पूर्व पाॅवरलिफ्टर और दक्षिण एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक विजेता रही हैं। लेकिन आज कविता विश्व कुश्ती मनोरंजन (डब्ल्यूडब्ल्यूई) में हिस्सा लेने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गई हैं। उन्हें माई यंग क्लासिक में प्रतिस्पर्धा करने के लिए चुना गया है, जो महिलाओं के लिए पहली बार आयोजित किया गया डब्ल्यूडब्ल्यूई टूर्नामेंट है।
कविता देवी हरियाणा की रहने वाली हैं। वे पंजाब स्थित कुश्ती पदोन्नति और प्रशिक्षण अकादमी में पूर्व डब्ल्यूडब्ल्यूई चैंपियन द ग्रेट खली से प्रशिक्षण प्राप्त कर चुकी हैं। इस साल अप्रैल में डब्ल्यूडब्ल्यूई दुबई में हिस्सा लेने के बाद से कविता चर्चा में आ गईं। कविता देवी दसवीं में निपुण कबड्डी खिलाड़ी थीं। 2016 में उन्होंने दक्षिण एशियाई खेलों में 75 किलो वजनी भारोत्तोलन डिवीजन में स्वर्ण जीता था। रिंग के अंदर देवी ने सिर-कैविंग राउंड हाउस किक का उपयोग करके जीत हासिल की थी।
हरियाणा से सशस्त्र सीमा बल कांस्टेबल के रूप में काम करने वाली कविता देवी को एक वायरल वीडियो के बाद काफी प्रसिद्धि मिली। वह सलवार कमीज में द ग्रेट खली के कॉन्टिनेंटल रेसलिंग एंटरटेनमेंट (सीडब्ल्यूई) में ‘बी बी बुल बुल’ नाम की एक महिला पहलवान को कुश्ती में हराया था। माई यंग क्लासिक एक एकल टूर्नामेंट होगा, जिसमें दुनिया भर से 32 शीर्ष महिला प्रतियोगी हिस्सा लेंगी।
कविता देवी ने एक साक्षात्कार में कहा कि मैं डब्ल्यूडब्ल्यूई द्वारा आयोजित महिला टूर्नामेंट में प्रतिस्पर्धा करने वाली पहली भारतीय महिला होने पर गौरवान्वित महसूस कर रही हूं। मैं इस मंच का उपयोग अन्य भारतीय महिलाओं को प्रेरित करने और भारत का गौरव बढ़ाने के लिए करूंगी। यह टूर्नामेंट फ्लोरिडा के ऑरलैंडो  में 13 और 14 जुलाई को होगा। 



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो