sulabh swatchh bharat

बुधवार, 20 सितंबर 2017

सोनल बबेरवाल - सोनल को कल्पना चावला स्कॉलरशिप

आईसीयू और कॉर्क इंस्टीट् यूट द्वारा शुरू किया गया पहला कल्पना चावला स्कॉलरशिप सोनल बबेरवाल को

महाराष्ट्र में अमरावती की रहने वाली सोनल बबेरवाल को पहला कल्पना चावला स्कॉलरशिप पाने का यश हासिल हुआ है। इंटरनेशनल स्पेस यूनिवर्सिटी (आईसीयू) के साथ मिलकर आयरलैंड के कॉर्क इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ने यह स्कॉलरशिप शुरू की है। गौरतलब है कि भारतीय मूल की अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला का एक फरवरी, 2003 को स्पेस शटल कोलंबिया में अंतरिक्ष से लौटने के वक्त हुई दुर्घटना में निधन हो गया था। स्कॉलरशिप से जुड़ी घोषणा में कहा गया है कि यह ग्लोबल स्पेस कम्युनिटी और मार्केट में भारत की नेतृत्वकारी भूमिका को बल देने के लिए शुरू किया गया है। इस बड़े मकसद से शुरू की गई इस स्कॉलरशिप को पाने वाली सोनल बबेरवाल अमरावती के आर.एल.टी कॉलेज ऑफ साइंस और सिपना कॉलेज ऑप इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी की छात्रा रह चुकी हैं। उसकी दिलचस्पी रोबोटिक और स्पेस में जमा मलबे सहित पर्यावरण से जुड़े क्षेत्रों में है। स्कॉलरशिप के संस्थापकों में से एक माइकल पॉटर के मुताबिक, ‘अंतरिक्ष विज्ञान और उससे जुड़ी गतिविधियों में भारत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक अहम भूमिका निभाता रहेगा।’ उन्होंने यह भी कहा कि कल्पना चावला कभी मर नहीं सकतीं। वह हमारे दिल और दिमाग में इस अहसास के साथ बस गई है कि हम कड़ी मेहनत के साथ अपने सपनों को सच कर सकते हैं। निसंदेह ऐसे कई सपने सच करने की उम्मीद सोनल से भी है, जिसे कल्पना के नाम से शुरू हुई प्रतिष्ठित स्कॉलरशिप के लिए चुना गया है।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो