sulabh swatchh bharat

शनिवार, 25 नवंबर 2017

ज्ञानेश्वर येवतकर - साइकिल से विश्व भ्रमण

भारतीय समाज सेवी गांधी के विचारों को पूरे विश्व में प्रसारित करने के लिए साइकिल अभियान पर निकला

26 साल का एक भारतीय समाज सेवी पूरे विश्व में शांति बहाली के लिए साइकिल यात्रा पर निकला है। इस समाजसेवी का मुख्य उद्देश्य दुनियाभर के कई स्कूलों के बच्चों के बीच महात्मा गांधी की शिक्षाओं को फैलाना है। बता दें कि महाराष्ट्र के वर्धा में सेवागढ़ आश्रम के रहने वाले ज्ञानेश्वर येवतकर ने कहा कि उन्होंने अब तक 8,642 किलोमीटर से 70,000 किलोमीटर की अपना वैश्विक साइकिल चालन अभियान पूरा कर लिया है।
उन्होंने बताया कि 2 अक्टूबर, 2019 को गांधी जी की 150वीं जयंती पर उनका अभियान पाकिस्तान में पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मैंने पिछले आठ महीनों में भारत-चीन सीमा और आसियान क्षेत्र में कई जगहों की यात्रा की है। इन जगहों पर मुझे अच्छे लोग मिले, जिन्होंने मेरे विचारों और गांधी जी के उपदेशों के बारे में उनसे विचार साझा करने के अवसर प्रदान किए।
अकेले साइकिल अभियान के दौरे पर जाना सबसे चुनौतीपूर्ण है, लेकिन ऐसे क्षण मुझे हमेशा पसंद रहे हैं, क्योंकि शिक्षकों ने मुझे स्कूलों या उनके घरों में रहने की जगह दी थी। येवतकर ने कहा कि मेरा यह मिशन थाईलैंड और मलेशिया के सिख गुरुद्वारों द्वारा भी आयोजित किया गया है। मैं उनके साथ गांधीजी का संदेश साझा कर रहा हूं, जो हमारे जैसे बहुत से लोगों को प्रेरित करता है। येवतकर ने कहा कि सेवाग्राम आश्रम ऐसी जगह है, जहां गांधी जी ने 1942 में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ 'भारत छोड़ो' अभियान शुरू किया था। येवतकर कहते हैं कि वह एक दिन में 120 किलोमीटर की दूरी तय करते हैं और लगभग पांच स्कूलों में बच्चों को गांधी जी के विचारों के बारे में बताते हैं। वह अपनी मूल भाषा में लोगों से बात करने के लिए गूगल अनुवादक का उपयोग करते हैं। येवतकर ने कहा कि वह अगले हफ्ते सिंगापुर के बाद इंडोनेशिया जाने की तैयारी कर रहे हैं। इसके बाद वह ताइवान, चीन और जापान की यात्रा करेंगे। नवंबर में उनका जापान से अमेरिका जाने का कार्यक्रम है। उसके बाद उन्हें अफ्रीका और मध्य-पूर्व दिशा में यात्रा करनी है। 



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो