sulabh swatchh bharat

शनिवार, 19 अगस्त 2017

कनाडा @ 150 वर्ष

सुंदरता और संपन्नता में दुनिया के अनूठे देश कनाडा ने अपनी स्थापना के 150 वर्ष पूरे कर लिए हैं 

क्षेत्रफल के नजरिए से रूस के बाद दुनिया के दूसरे सबसे बड़े देश कनाडा ने अपनी स्थापना के 150 वर्ष पूरे कर लिए हैं। कनाडा समृद्ध देश तो है ही, साथ ही काफी खूबसूरत और शांतिप्रिय भी है। यहां एक ओर लाखों मील में फैला बर्फीला संसार है तो दूसरी ओर हैं लंबे-चौड़े समुद्री तट। बीच में कहीं हरे-भरे घास के मैदान हैं तो कहीं सदाबहार जंगल, मरुस्थल, लंबी-चौड़ी नदियां और झीलें भी हैं। कुल मिलाकर कनाडा ऐसा समृद्ध, खूबसूरत और शांतिप्रिय देश है जहां आप बार-बार जाना पसंद करेंगे। ध्यान रखने लायक यह है कि कनाडा जाकर ही आप विश्व के सबसे बड़े जलप्रपात नियाग्रा के अद्भुत, अलौकिक और विकराल रूप को देख पाएंगे।

भारत से कनाडा का एक खास रिश्ता है। कनाडा में पंजाब की झलक साफ दिखती है। भारत और कनाडा का यह रिश्ता काफी पुराना है। हर साल भारत से करीब 30,000 लोग यहां जाकर बसते हैं। वैसे कनाडा बहु संस्कृतियों वाला देश है। यही कारण है कि शताब्दियों से लोग यहां रह रहे हैं और उनकी अलग संस्कृति की झलक साफ तौर पर अनेक जगहों पर देखी जा सकती है। इसके बावजूद कनाडा इतिहास की दृष्टि से नया देश है, क्योंकि इसकी खोज 1867 में हुई थी, जब यूरोप से ब्रिटिश और फ्रांसीसी यहां आए। इसके बाद ही यहां का उत्थान आरंभ हुआ। इन दोनों ने मिल-जुलकर कनाडा को नया स्वरूप दिया और तब से इसने तेजी से तरक्की की राह पकड़ी। देश के ज्यादातर भू-भाग अब भी विकसित नहीं हैं और आबादी नाममात्र है। जो आबादी है वह कुछ ही हिस्सों में सिमटी हुई है। इसका बड़ा कारण देश के एक बड़े हिस्से का पूरी तरह हिमाच्छादित रहना है। यहां लंबे समय तक सर्दियां होती हैं और यही हिमाच्छादित भूभाग इस देश को ‘विंटर टूरिज्म’ के लिए स्वर्ग के रूप में सामने लाता है।

पूरा कनाडा घूमना और उसका लुत्फ उठा पाना संभव नहीं है, इसीलिए ज्यादातर लोग पूर्वी कनाडा की सैर पर जाते हैं। पूर्वी कनाडा को मैरीटाइम और अटलांटिक प्रदेश दोनों नामों से जाना जाता है। न्यू ब‌र्न्सविक, प्रिंस एडवर्ड आईलैंड, नोवा स्कोटिया और न्यूफाउंडलैंड इसी में आते हैं। यहां एक से बढ़कर एक समुद्र तट हैं, जहां आप खुशगवार समय बिता सकते हैं। ये तट दुनिया के सर्वाधिक खूबसूरत समुद्र तटों में शुमार हैं। इसके साथ ही यहां आप सेल्टिक संगीत और कला का आनंद ले सकते हैं और मनपसंद समुद्री भोजन का लुत्फ भी। इसी हिस्से में आकर्षक बंदरगाह शहर हेलीफैक्स है जो विश्व का सबसे सुंदर प्राकृतिक बंदरगाह है। 

जब आप क्यूबेक पहुंचेंगे तो आपको हर तरफ फ्रांसीसी संस्कृति की झलक स्पष्ट रूप से दिखेगी। इस प्रांत को सेंट लाॅरेंस नदी दो हिस्सों में बांटती है। इस नदी से क्यूबेक शहर का सुंदर दृश्य दिखता है। यह नदी अपने आप में पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है। नदी की स्वच्छ जलधारा के बीच आप नौकायन का आनंद ले सकते हैं। क्यूबेक का प्रसिद्ध शहर मांट्रियल है जहां आप सालभर होने वाले सांस्कृतिक आयोजनों में शामिल होकर उनका लुत्फ उठा सकते हैं।

पूरब से बढ़ते हुए आप केंद्रीय कनाडा में स्थित ओंटारियो जा सकते हैं, जो कनाडा के संघीय सरकार का मुख्यालय है। यह कनाडा के अर्थतंत्र को भी नियंत्रित करता है और काफी हद तक कनाडा की संस्कृति का केंद्रबिंदु भी है। कनाडा के इसी भाग में वहां के सर्वाधिक उद्योग धंधे हैं और आबादी के लिहाज से भी यह सर्वाधिक घना है। देश का सबसे बड़ा और दुनिया के सबसे खूबसूरत शहरों में से एक टोरंटो ओंटारियो में ही स्थित है। शहर में सीएन टावर देखने लायक है जिसमें लिफ्ट की मदद से आप 58 सेकेंड में टावर के ऊपर जा सकते हैं। टावर के ऊपरी भाग से समुद्र और शहर को देखना अलग अनुभव है जो दिल में रच-बस जाता है। टोरंटो, अंग्रेजी के माध्यम से मनोरंजन चाहने वालों के लिए लंदन और न्यूयाॅर्क के बाद तीसरा सबसे बड़ा केंद्र है। कनाडा की राजधानी ओटावा भी इसी प्रांत में है, जहां संसद भवन अपनी आभा से सबको मोह लेता है। कनाडा आने के बाद संसद भवन अवश्य देखना चाहिए। यहां से आप नियाग्रा के रास्ते में वाइन के लिए मशहूर वाइनयार्ड होते हुए विख्यात नियाग्रा जलप्रपात देखने जा सकते हैं।

बात नियाग्रा की करें तो कनाडा और अमेरिका को अलग करने वाले नियाग्रा को देखे बिना पर्यटन अधूरा है, जहां हर साल 1 करोड़ 20 लाख लोग सबसे बड़े जलप्रपात देखने आते हैं। नियाग्रा नदी पर स्थित यह जलप्रपात अमेरिका से होकर ओंटारियो के इस भाग की ओर मुखातिब होकर गिरता है। लगभग 12,000 साल पुरानी इस नदी पर स्थित यह जलप्रपात कितना बड़ा है इसका अंदाजा इस बात से भी लगा सकते हैं कि इसकी एक जलधारा 1,060 फुट के दायरे में 176 फीट की ऊंचाई से गिरती है। इससे एक सेकेंड के भीतर डेढ़ लाख गैलन पानी गिरता है। इसी की एक और जलधारा 2,600 फुट के दायरे में 167 फुट की ऊंचाई से गिरती है जिसे हॉर्स के नाम से जाना जाता है। इस जलधारा में प्रति सेकेंड 6 लाख गैलन पानी गिरता है जो इसकी विशालता का परिचय देता है।

नियाग्रा की लोकप्रियता और यहां के पर्यटकों की संख्या ने आज यहां नियाग्रा शहर बसा दिया है, जहां आपको हर तरह के मनोरंजन के साधन मिल जाएंगे। शहर में ठहरने से लेकर जरूरी सभी आवश्यक सुविधाएं और अत्याधुनिक संचार व्यवस्था मुहैया है। आप चाहें तो जहां पर यह जलप्रपात गिरता है उससे आगे फेरी में बैठकर सैर भी कर सकते हैं।

इस तरह मना 150 साल का जश्न

बारिश की फुहारों के बीच कनाडा के लोगों ने एक जुलाई को देश का 150वां स्थापना दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने देशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि विभिन्नताओं की वजह से आज कनाडा मजबूत बना है। विभिन्नता ही इसकी असली पहचान है। इस मौके पर देशभर में योग एवं एरोबिक के माध्यम से अनूठे अंदाज में जश्न मनाया गया। कई स्थानों पर आतिशबाजी एवं रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए, जिसमें देशवासियों का उत्साह देखते ही बना। आयरिश रॉक बैंड ‘यू2’ के बोनो के गीत ‘जब दूसरे दीवार बनवाते हैं तो आप अपने दरवाजे खोलते हैं, जब कोई लोगों को बांटने की बातें करता है तो आप अपने हाथ आगे बढ़ाते हैं,जब आप आगे चलते हैं तो लोग आपका अनुसरण करते हैं’, ने इस मौके को यादगार बना दिया।

इस अवसर पर ब्रिटेन के शाही परिवार की ओर से प्रिंस चार्ल्स और उनकी पत्नी कैमिला पार्कर ने कनाडा पहुंचकर वहां के लोगों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। चार्ल्स इस मौके पर ट्रूडो के साथ मंच पर मौजूद थे। प्रिंस चार्ल्स ने कहा, ‘विश्वभर में कनाडा मानवाधिकार के चैम्पियन, शांतिदूत, पर्यावरण एवं प्राकृतिक संसाधनों के प्रति जिम्मेदार और विभिन्नता में एकता के एक मजबूत स्तंभ के रूप में स्थापित हुआ है।’

इस मौके पर ट्रूडो ने कहा,  हमें इस बात से कोई लेना-देना नहीं है कि आप कहां से हैं, आपका धर्म क्या है अथवा आप किसे प्यार करते हैं? कनाडा में आप सभी का स्वागत है। कनाडा विभिन्नताओं के बावजूद नहीं बल्कि विभिन्नताओं के कारण मजबूत बना है। इसको ऐसे ही और मजबूती प्रदान करते रहिए। 



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो