sulabh swatchh bharat

गुरुवार, 24 अगस्त 2017

कचरा दें, पैसे लें

सरकार और नई दिल्ली नगरपालिका परिषद क ेसहयोग से एक स्टार्टअप कंपनी एनडीएमसी इलाके में ई- कचरा वेडिंग मशीन लगाने जा रही है।

केंद्र सरकार और नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) के सहयोग से एक स्टार्टअप कंपनी एनडीएमसी इलाके में ई-कचरा वेडिंग मशीन लगाने जा रही है। इस बाबत पुणे से दो मशीनें मंगाई गई हैं। इन मशीनों को इंडिया गेट और कनाट प्लेस के आठ ब्लॉकों में रखवाया गया है। मशीनों में सॉफ्टवेयर लगाया जा रहा है।

एक सप्ताह में लग जाने वाले इस साफ्टवेयर के बाद प्लास्टिक की खाली बोतल डालने पर एक रुपए और बीयर की बोतल डालने पर दो रुपए मिलने शुरू हो जाएंगे। अंदेशा है कि इससे लोगों में जागरुकता के साथ उनकी आमदनी भी बढ़ेगी। लोग घरों में फेंके जाने वाले कचरे को इधर उधर न फेंककर सीधे वेडिंग मशीन के पास ले जाएंगे और फिर उन्हें बदले में पैसे मिलेंगे। ओखला में कचरे से बिजली बनाने वाला संयंत्र शुरू किया गया है। राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण के सभी निर्दिष्ट मानकों को पूरा कर शुरू हुए इस संयंत्र का केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड

और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अधिकारियों के संयुक्त निरीक्षण दल ने रिपोर्ट एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ को दे दिया है। पीठ ने कहा है कि कचरे से बिजली बनाने वाले ओखला संयंत्र के बारे में संयुक्त जांच रिपोर्ट पेश की गई है।



Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो