sulabh swatchh bharat

शनिवार, 21 अक्टूबर 2017

If-you-do-not-do-toilet-you-will-celebrate-diwali-maiden

शौचालय नहीं तो दिवाली मायके में मनाएंगी बहुएं

3 दिन पहले
ससुराल में शौचालय नहीं तो घर की लक्ष्मी ससुराल की जगह मायके में दिवाली मनाएगी। शौचालय नहीं होने से तंग मध्यप्रदेश के शहडोल जिले की महिलाओं ने पतियों के विरुद्ध आंदोलन का शंखनाद कर दिया। पतियों स साफतौर पर कह दिया गया है कि पहले घर मे शौचालय बनवाओ इसके बाद ही वो ससुराल में दिवाली मनाएंगी, नहीं तो गांव की बहुएं इस बार अपने-अपने मायके में त्योहार मनाएंगी। मध्य प्रदेश के शहडोल जिले के बिजहा गांव में शौचालय के लिए महिलाओं के इस आंदोलन ने अपना परिणाम भी दिखाना शुरू कर दिया है। गांव की अधिकांश महिलाएं अपना ससुराल छोड़ मायके चली गईं। वहीं लगभग एक दर्जन जाने की तैयारी में हैं। गांव की बहुओं ने चिट्ठी लिख इस समस्या से जनप्रति...
go-to-the-toilet-and-get-a-reward

शौचालय जाइए और इनाम पाइए

3 दिन पहले
खुले में शौच से कानपुर को मुक्त करने के लिए नगर निगम ने अनूठी पहल की है। अब उन लोगों को इनाम दिया जाएगा जो सार्वजनिक व सामुदायिक शौचालयों में जाएंगे। इनाम की राशि 2100 से 11000 रुपए निर्धारित की गई है। अलग-अलग आयु वर्ग के लोगों के लिए अलग-अलग पुरस्कार होंगे। महिलाओं और पुरुषों के लिए एक समान पुरस्कार रखे गए हैं। ये पुरस्कार खुले में शौच करने वालों को जागरूक करने के लिए होंगे। शौचालयों पर लोगों का स्वागत बैंड बाजे के साथ किया जाएगा ताकि ऐसा लगे कि खुले में शौच से मुक्ति के लिए उत्सव का माहौल है।  नगर निगम खुले में शौच करने वालों को रोकने के लिए हर रोज नए फंडे अपना रहा है। इसका व्यापक असर भी पड़ा है। शहर के 40 हॉट स्पॉ...
jaipur-third-place-in-toilets-construction

जयपुर शौचालय निर्माण में तीसरे स्थान पर

एक सप्ताह पहले
'स्वच्छ भारत अभियान' की भावना को साकार कर 'सुहावणो जैपुर' की परिकल्पना के साथ कदमताल करते हुए जयपुर जिला पूरे देश में इस अभियान की शुरुआत से अब तक व्यक्तिगत शौचालयों के निर्माण की दृष्टि से तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। जहां तक राज्य स्तर की बात है, जयपुर गत वित्तीय वर्ष में भी सबसे अधिक शौचालय का निर्माण कर प्रदेश में पहले स्थान पर था, चालू वर्ष में भी अब तक की उपलब्धि के आधार पर वह प्रदेश के सभी जिलों से आगे है। जिला कलक्टर सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत वर्ष 2013-14 में हुई थी, पूरे भारत में तब से लेकर अब तक कुल व्यक्तिगत शौचालय निर्माण की उपलब्धि को देखा जाए तो इसमें जयपुर जिला...
cleanliness-mission-successful-in-survey

सर्वे में स्वच्छता मिशन सफल

एक सप्ताह पहले
स्वच्छ भारत मिशन के तीन सालों में शौचालय निर्माण के कुछ विरोधाभासी आंकड़े और खबरें भी आई हैं। खासतौर पर शौचालय निर्माण और उसके इस्तेमाल को लेकर सवाल उठाए जाते रहे हैं। क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया (क्यूसीआई) ने ग्रामीण इलाकों में एक व्यापक सर्वेक्षण के जरिये देखना चाहा कि सेवा दायरे और गुणवत्ता के लिहाज से किए गए वादे से कितना मेल खाती है। क्यूसीआई प्रमाणन (एक्रीडेशन) की एक राष्ट्रीय संस्था है, जिसने साफ-सफाई का मूल्यांकन अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर किया है। क्यूसीआई के सर्वेक्षण का नाम है, स्वच्छ सर्वेक्षण (ग्रामीण)- 2017। इसके अंतर्गत 700 जिलों के 140,000 घरों का जायजा लिया गया है। सर्वेक्षण में शामिल हर घर की जियो-टैगिंग (भौग...
pm-modi-invites-anushka-sharma-for-cleanliness-programme

अनुष्का को स्वच्छता अभियान से जुड़ने का न्योता

3 सप्ताह पहले
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अभिनेत्री-फिल्म निर्माता अनुष्का शर्मा और मलयालम फिल्मों के अभिनेता मोहनलाल को सरकार के 'स्वच्छता ही सेवा' अभियान से जुड़ने का निमंत्रण भेजा है। प्रधानमंत्री ने अनुष्का के लिए कहा कि उनकी उपस्थिति अन्य लोगों को भी इस अभियान से जुड़ने के लिए प्रेरित करेगी। अनुष्का 'स्वच्छ भारत अभियान' का भी हिस्सा हैं। उन्होंने मोदी को उनके 67वें जन्मदिन पर बधाई दी और लिखा, ‘जन्मदिन मुबारक हो पीएम मोदी जी। 'स्वच्छता ही सेवा' अभियान से जुड़ने का निमंत्रण देने के लिए धन्यवाद सर।’  अनुष्का ने प्रधानमंत्री से मिले एक पत्र को साझा भी किया जिसमें लिखा गया है, ‘आने वाले द...
aicte-major-initiative-for-cleanliness

स्वच्छता के लिए एआईसीटीई की बड़ी पहल

3 सप्ताह पहले
स्वच्छ भारत अभियान सिर्फ एक कार्यक्रम मात्र नहीं है, यह तो एक तरह का आचरण परिवर्तन का मिशन है। जन सहभागिता से चलने वाले इस अभियान का दायरा 2014 के 42 प्रतिशत के मुकाबले बढ़कर 62 प्रतिशत हो गया है। जन जागरूकता का ये अभियान अब कॉलेजों के कैंपस में भी चलाने की पहल की गई है। ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन यानी एआईसीटीई ने अपने संस्थानों को यत्र-तत्र-सर्वत्र थूकने के आचरण को हतोत्साहित करने के लिए अभियान शुरू किया है। यत्र-तत्र-सर्वत्र न थूकें जहां-तहां थूकना एक बुरी आदत तो है ही, ये कई बीमारियों के फैलने का कारण भी बनता है। इसी...
pollution-level-decreased-in-navi-mumbai

नवी मुंबई में प्रदूषण का स्तर घटा

4 सप्ताह पहले
देश भर में स्वच्छता को लेकर चल रही कोशिशों के कुछ बेहद अहम नतीजे सामने आने लगे हैं। इस तरह का एक नतीजा नवी मुंबई महा नगरपालिका क्षेत्र में प्रदूषण में कमी के रूप में सामने आई है। आर्थिक वर्ष 2015-16 की तुलना में आर्थिक वर्ष 2016-17 में नवी मुंबई शहर के पर्यावरण में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। उम्मीद है कि नए वित्तीय वर्ष में भी इस पूरे क्षेत्र में स्वच्छता की दृष्टि से सुधार का सिलसिला जारी रहेगा। इसी के साथ मनपा क्षेत्र में दैनिक कचरे के संकलन में भी करीब 4.50 प्रतिशत वृद्धि होने की जानकारी मिली है। इस दौरान शहर की आबादी में भी 1.4 प्रतिशत की वृद्धि हो चुकी है। आर्थिक वर्ष 2015-16 में 695 मेट्रिक टन कचरे को संकल...
students-drop-down-food-for-toilet

शौचालय के लिए छात्रा ने त्यागा अन्न

5 सप्ताह पहले
मध्यप्रदेश के बीना जिले की छात्रा तारा ने 4 दिनों तक सिर्फ इसीलिए खाना नहीं खाया, क्योंकि उसके घर में शौचालय नहीं था। उसे शौच के लिए बाहर जाना पड़ता था। परिवार गरीब है, इसीलिए पहले तो शौचालय निर्माण में खर्च से डरकर पिता महेश बंसल उसकी बात की अनदेखी करते रहे, लेकिन जब बेटी ने शौचालय बनने पर ही खाना खाने की जिद की तो परिवार ने आनन फानन में शौचालय का निर्माण शुरू करा दिया। तारा के बड़े भाई रामकुमार बंसल ने बताया कि तीन भाइयों के बीच तारा उनकी इकलौती बहन है। उसकी जिद को पूरा करने के लिए शौचालय निर्माण कार्य शुरू करा दिया है।  तारा का कहना है कि घर में शौचालय नहीं है। बाहर खेतों में जाओ तो सुबह शाम लड़कों की घूरती हु...
toilets-to-be-constructed-than-come-daughter-in-law

शौचालय बनवाया तो आई बिंदणी

5 सप्ताह पहले
बाड़मेर जिला प्रशासन ने अक्षय कुमार की सुपरहिट फिल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा से प्रभावित होकर स्वच्छ भारत अभियान को प्रमोट करने के लिए एक नई टैगलाइन बनाया है, अगर आप अपनी पत्नी के साथ रहना चाहते है तो पहले घर में शौचालय बनाएं।  बाड़मेर जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मदन लाल नेहरू ने कहा कि टॉयलेट एक प्रेम कथा एक वास्तविक कहानी पर आधारित फिल्म है, जिसमें एक औरत ने शादी के तुरंत बाद ही ससुराल में शौचालय नहीं होने पर घर छोड़ दिया। फिल्म में खुले में शौच की आदत को खत्म करने और स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया है। फिल्म में इस बात को दिखाया गया है कि औरतों को खुले में शौच के लिए जाना पसंद नहीं है और उन्हें इस समस्या प...
cleanliness-worker-created-by-cisf

सीआईएसएफ ने बनाए स्वच्छता कार्यकर्ता

5 सप्ताह पहले
केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की देश भर में स्थित इकाइयों द्वारा चलाए,जा रहे सघन स्वच्छ भारत अभियान के अंर्तगत विगत माह में कई उल्लेखनीय कार्य किए गए। अगस्त माह में दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में स्कूली बच्चों अध्यापकों, स्कूल, कार्मियों में सफाई के प्रति जागरुकता पैदा करने हेतु सीआईएसएफ की नुक्कड़ टीम ने विभिन्न स्कूलों में 5,000 बच्चों में स्वच्छता संदेश का प्रचार एवं प्रसार किया। इसमें बच्चों को स्वच्छ भारत शपथ भी दिलाई गई।  स्वच्छ भारत अभियान के तहत, स्कूली बच्चों अध्यापकों, स्कूल, कार्मियों में सफाई/स्वच्छता कार्यक्रमों को बढ़ावा देने वाले इस तरह के अभियान से प्रधानमंत्री द्वारा संकल्पित स्वच्छ भारत बनाने का सपना साका...
 two-visually-impaired-elderly-cleaner-messenger

दो दृष्टिहीन बुजुर्ग बने ‘स्वच्छता दूत’

7 सप्ताह पहले
स्वच्छता आज देश में एक एेसे मिशन का नाम है, जिससे न सिर्फ सरकार जुड़ी है बल्कि लोग भी स्वत: प्रेरणा से इस मिशन में जुड़ रहे हैं। स्वच्छता को लेकर स्वत: प्रेरणा की एेसी ही एक मिसाल कायम की है राजस्थान के उदयपुर जिले के दो ग्रामीण बुजुर्गों ने। दयाराम (दयालू) 72 साल के हैं और भगवती लाल 56 साल के। दोनों दुनिया देख नहीं सकते, लेकिन लोगों को वातावरण स्वच्छ दिखे, बहू-बेटियों को शर्मिंदगी महसूस न हो, इसीलिए पैसे नहीं होने और देख नहीं पाने के बावजूद खुद से गड्‌ढे खोदकर और मजदूरी कर घर में शौचालय बना दिया।  गौरतलब है कि शौचालय नहीं होने से दोनों के घरों की बहू-बेटियों को सुबह होने से पहले अंधेरे में ही एक किमी दूर तक जान...
rath-will-wake-up-cleanliness-of-villages

गांवों में स्वच्छता की अलख जगाएगा रथ

7 सप्ताह पहले
उत्तर प्रदेश के रायबरेली में स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत स्वच्छता की अलख जगाने के लिए स्वच्छता रथ गांव-गांव घूमेगा। यहां जिलाधिकारी अभय सिंह और बछरावां विधायक रामनरेश रावत ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर स्वच्छता रथ को रवाना किया। यह स्वच्छता रथ गांव-गांव जाकर स्वच्छता संदेश प्रसारित करेगा। ग्रामीण तथा नगरीय क्षेत्र के नागरिकों को खुले में शौच से होने वाली बीमारियों के प्रति जागरूक करते हुए शौचालय निर्माण से प्रेरित किया जाएगा।  रावत ने कहा कि मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री ने जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत का संकल्प लेकर सरकारी योजनाएं बनाई है। खुले में शौच से मुक्ति के लिए सबको पहल कर...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो