sulabh swatchh bharat

सोमवार, 11 दिसंबर 2017

how-to-wash-the-toilet-feedback

कैसा लगा शौचालय? खुलकर दे सकेंगे फीडबैक

3 दिन पहले
सार्वजनिक शौचालयों में फैली गंदगी देखकर अक्सर लोगों को गुस्सा आने लगता है, लेकिन समस्या तब आती है जब लोग इसकी शिकायत कहीं नहीं कर पाते, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। आम लोग शौचालयों पर भी फीडबैक दे पाएंगे। केंद्रीय आवास और शहरी मंत्रालय ने ऐसे उपकरणों के लिए निगम ने इंडियन टेलीफोन इंडस्ट्री ज (आईटीआई) को चुना है। वहीं आईटीआई को ऐसे उपकरण बनाने के लिए ऑर्डर भी दे दिया गया है। ये उपकरण सार्वजनिक शौचालयों में लगाए जाएंगे और लोग इन उपकरणों पर लगे बटनों को दबाकर शौचालयों के बारे में फीडबैक दे पाएंगे। इस योजना के तहत काम करने के लिए दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने  अपने शौचालयों में सिटिजन फीडबैक उपकरण लगाने का फैसला किया है। इन उपकरणों के ...
i-will-not-go-to-school

मैं स्कूल नहीं जाऊंगी...

3 दिन पहले
जहां सोच वहां शौचालय ... स्वच्छता अभियान के विज्ञापन वाले इस वाक्य को यवतमाल में चौथी क्लास में पढ़ने वाली एक छोटी बच्ची ने चरितार्थ कर दिखाया है। स्कूल के स्वच्छता अभियान में पूछे गए एक सवाल ने उसे इतना आहात किया कि उसने पिता से कह दिया कि जब तक घर में शौचालय नहीं बनेगा वो स्कूल नहीं जाएगी। मजबूरन पिता को शौचालय बनवाना पड़ा। अब श्वेता न सिर्फ वापस स्कूल जाने लगी है, बल्कि जिले में स्वच्छता अभियान का चेहरा बनकर सामने आई है। 10  साल की श्वेता रंगारी  यवतमाल के जिला परिषद के स्कूल में कक्षा चौथी की छात्रा है। स्कूल में स्वच्छता अभियान के तहत सभी बच्चों से कुछ सवालों के जवाब पूछे गए थे... इनमें हाथ धोने से लेकर, उबला...
sanitation-of-cleanliness

स्वच्छता का साेभन

2 सप्ताह पहले
किन्नरों का जीवन हर लिहाज से काफी मुश्किलों भरा होता है। उन्हें हमेशा शिक्षा, रोजगार, चिकित्सा सेवाओं आदि जैसे क्षेत्रों में भेदभाव और समस्याओं का सामना करना पड़ता है। शौचालय की बुनियादी पहुंच किन्नर समुदाय द्वारा सामना की जाने वाली कई समस्याओं में से एक है।  किन्नरों के लिए अक्सर सार्वजनिक शौचालयों में प्रवेश करना मुश्किल होता है और अक्सर उन्हें इन शौचालयों में शौच करने से रोक दिया जाता है। हालांकि अप्रैल 2017 में इस समुदाय को केंद्र के एक निर्देश के साथ राहत मिली कि किन्नरों को अपनी पसंद के अनुसार पुरुषों या महिलाओं किसी का शौचालय उपयोग करने की अनुमति है। अब किन्नर समुदाय के लिए अलग शौचालय शुरू करने की एक नई और महा...
women-kitchen-break-toilets

महिलाएं किचेन तोड़ बनवा रहीं शौचालय

2 सप्ताह पहले
बिहार में शौचालय निर्माण को लेकर महिलाओं ने अनूठी पहल की है। सीतामढ़ी जिले की एक पंचायत में महिलाएं घरों में शौचालय निर्माण को लेकर जागरुकता की मिसाल बन गई हैं। आलम यह है कि बिहार के इस जिले में महिलाएं शौचालय निर्माण को लेकर इतनी प्रतिबद्ध हैं कि उन्होंने कई मामलों में घर की रसोई तक को तोड़कर शौचालय निर्माण की पहल की है। गौरतलब है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सात निश्चय में एक है, सभी के लिए शौचालय निर्माण। इसके तहत चलाए जा रहे जागरुकता अभियान का असर ही है कि सीतामढ़ी के चोरौत उत्तरी पंचायत में कई महिलाओं ने रसोईघर और कमरे तुड़वा कर शौचालय बनवाने की पहल की है। उन्होंने शौचालय बगैर घरों में रहने से इनकार कर दिया है। बिहार की इन महिलाओं की पहल की हर तरफ सराहना हो रही है...
clean-room-like-toilet-room

‘ड्राइंग रूम की तरह स्वच्छ हो शौचालय’

2 सप्ताह पहले
महात्मा गांधी ने आजादी हासिल करने के अपने अहिंसक आंदोलन की समूची अवधि के दौरान स्वच्छता के अपने संदेश को जीवंत बनाए रखा। नोआखाली नरसंहार के बाद अहिंसा के अपने विचार और व्यवहार की अग्निपरीक्षा की घड़ी में गांधी जी ने अपने इस संदेश को जन-जन तक पहुंचाने का कोई अवसर नहीं गंवाया कि स्वच्छता और अहिंसा एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।    एक दिन नोआखाली के गड़बड़ी वाले इलाकों में अपने शांति अभियान के दौरान उन्होंने पाया कि कच्ची सड़क पर कूड़ा और गंदगी इसलिए फैला दी गई है, ताकि वह हिंसाग्रस्त इलाके के लोगों तक शांति का संदेश न पहुंचा पाएं। गांधी जी इससे जरा भी विचलित नहीं हुए और उन्होंने इसे उस कार्य करने का एक सुनहरा अवसर म...
tours-of-toiletts-in-germany

जर्मनी में करें टॉयलेट्स की सैर

3 सप्ताह पहले
बर्लिन घूमने आया कोई सैलानी क्या टॉयलेट्स की सैर करना चाहेगा? आप अपनी तरफ से भले न कहें, पर ऐसा हो रहा है। बर्लिन में एक टूर टॉयलेट्स की सैर के लिए होता है और यह खूब पसंद किया जा रहा है, क्योंकि अनोखे टॉयलेट्स की सैर भी अनोखी है। आपको कैसा टॉयलेट पसंद है? एक ऐसा टॉयलेट जो 19वीं सदी में बनाया गया। उसकी तकनीक और उसके साफ सफाई का तरीका भी पुराना है, लेकिन आज भी चल रहा है... या फिर जापान में बना एक ऐसा आधुनिक और ऑटोमेटिक टॉयलेट जिसकी कीमत एक छोटी कार जितनी है? बर्लिन में आप सब देख सकते हैं। बर्लिन घूमने आने वाले जो सैलानी मशहूर जगहों के साथ साथ कुछ अलग देखना चाहते हैं, उनके लिए एक टूर गाइड ने अनोखा आइडिया निकाला है। यह...
public-lavatories-of-petrol-pumps

पेट्रोल पंपों के शौचालय हुए सार्वजनिक

3 सप्ताह पहले
स्वच्छता पर गंभीर रुख अपनाते हुए नवी मुंबई महानगरपालिका ने एक अनिवार्य और सख्त कदम उठाने का फैसला किया। मनपा ने कहा है कि उस क्षेत्र के सभी पेट्रोल पम्पों पर मौजूद शौचालय का उपयोग आम लोग भी कर पाएंगे। मनपा ने सभी पम्प मालिकों को इस सम्बंध में आवश्यक निर्देश देते हुए कहा है कि वे शौचालय अब सार्वजनिक शौचालय की तरह इस्तेमाल किए जाएंगे। समझा जाता है कि इस फैसले से आम लोगों को राहत मिलेगी। राह चलते लोग जो टॉयलेट की खोज में परेशान रहते थे, उन्हें ज्यादा भटकना नहीं पड़ेगा।  मनपा ने यह निर्णय स्वच्छ भारत अभियान को मजबूत करने के लिए लिया। वैसे इस संबंध में पेट्रोलियम मंत्रालय ने देश भर के पेट्रोल पम्पों को यह आदेश जारी किया ह...
no-toilet-no-bride

'शौचालय नहीं, तो दुल्हन नहीं'

5 सप्ताह पहले
' मैंने सीख लिया था कि शौचालय की जरुरत को कैसे घंटों तक रोके रखना है, क्योंकि बचपन से ही मुझे एक ही नियम सिखाया गया था - या तो मैं खुले में शौच के लिए तड़के जा सकती हूं, या रात हो जाने के बाद... लेकिन अब मेरा भाग्य बदल गया है... हाल ही में मेरे माता-पिता ने घर में शौचालय बनवा लिया है... अब मैं तय करती हूं कि मुझे शौच के लिए कब जाना है... मैं जब चाहूं, तब शौच के लिए जा सकती हूं... यह बहुत अच्छा लगता है... मैंने कभी नहीं सोचा था, घर में शौचालय बन जाने से जीवन कितना सरल हो जाएगा... '  यह कहना है, 18-वर्षीय एक लड़की का, जो उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में रहती है, जहां की पंचायत ने हाल ही में एक आदेश पारित किया है - शौचालय नहीं, तो दुल्हन नहीं... हाल ही में रिलीज हुई अक्ष...
electricity-water-closure-for-homes-not-toilets

शौचालय न बनवाने पर घरों का बिजली-पानी बंद

5 सप्ताह पहले
आंध्र प्रदेश खम्मम जिला प्रशासन ने के नेलाकोंडपल्ली मंडल के राजेश्वरपुरम गांव में कई घरों का बिजली-पानी बंद कर दिया है। क्योंकि इन घरों में अब तक शौचालय की सुविधा नहीं है। सरकार ने स्वच्छ ग्रामीण मिशन के तहत पूरे जिले को खुले में शौच से मुक्त करावाने के लिए 2,500 शौचालय बनाने की स्वीकृति दी थी। इसके लिए हर परिवार के लिए 12-12 हजार रुपए की राशि भी स्वीकृत की गई। शौचालय निर्माण का कार्य पूरा करने के लिए 14 नवंबर तक की समय सीमा तय की गई। लेकिन इस समय सीमा के नजदीक आ जाने के बावजूद अब तक कई गांवों में लोगों ने शौचालय नहीं बनवाए, समय सीमा समाप्त होने के पहले लक्ष्य को पूरा करने के उद्देश्य से प्रशासन ने बिजली और पानी की सेवा बंद...
all-of-the-responsibility-of-clean-air

स्वच्छ हवा की जिम्मेदारी सभी की

5 सप्ताह पहले
सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में पटाखों की बिक्री पर लगाए गए प्रतिबंध को सही तरीके से लागू नहीं करने पर चिंता व्यक्त करते हुए उद्योग संगठन एसोचैम ने कहा कि स्वच्छ पर्यावरण सुनिश्चित करना केंद्र, राज्य सरकारों, नागरिक समाज और लोगों की सबकी जिम्मेदारी है, यह जिम्मेदारी अकेले शीर्ष अदालत की नहीं है।  एसोचैम के महासचिव डीएस रावत के मुताबिक, ‘हालांकि व्यापारियों और निर्माताओं का आर्थिक हित शामिल था, लेकिन एक बार जब सर्वोच्च न्यायालय ने पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया, तो इस आदेश का पालन समूचे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में करवाने की जिम्मेदारी केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय, दि...
elderly-woman-did-long-struggle-for-cleanliness

स्वच्छता के लिए बुजुर्ग महिला ने किया लंबा संघर्ष

7 सप्ताह पहले
स्वच्छता मिशन और स्वच्छता ही सेवा जैसे अभियान में कानपुर के सरवनखेड़ा ब्लाक के कीरतपुर की रूपरानी ने नई इबारत लिखी है। प्रशासनिक अफसरों की अनसुनी पर कोर्ट तक लड़ाई लड़कर आखिर घर में शौचालय बनवाने में सफलता हासिल कर वह मिसाल बन गई हैं। कीरतपुर की 60 वर्षीय रूपरानी के पति का निधन काफी पहले हो चुका है। घर में शौचालय बनवाने के लिए ग्राम पंचायत में मांग उठाई। यहां हल नहीं निकला तो डीएम को पत्र लिखकर गुहार लगायी। प्रशासनिक अमले में अनसुनी पर उन्होंने स्थाई कोर्ट में अर्जी लगाई और पक्ष में फैसला आया। हालांकि कोर्ट के आदेश पर तीन माह में शौचालय नहीं बना तो रूपरानी ने मीडिया की मदद ली।  इसके बाद प्रशासन की तंद्रा टूटी तो ...
If-you-do-not-have-toilet-you-will-not-get-salaries

घर में शौचालय नहीं तो नहीं मिलेगा वेतन

7 सप्ताह पहले
अगर आप किसी सरकारी विभाग में नौकरी कर रहे हैं और आपके घर में शौचालय नहीं बना है तो आपका वेतन रुक सकता है। इसीलिए बिना हीलाहवाली किए 15 दिनों के भीतर अपने घर में शौचालय का निर्माण करा लें और उसके उपयोग का प्रमाण पत्र अपने विभाग के आला अफसर को उपलब्ध करा दें अन्यथा आपका वेतन रोक दिया जाएगा।  स्वच्छ भारत मिशन को बढ़ावा देने के लिए डीएम ने सभी सरकारी विभागों में कार्यरत कर्मचारियों को अपने खुद के संसाधन से शौचालय का निर्माण कराए जाने के निर्देश दिए हैं। डीएम ने सभी कर्मचारियों से 30 अक्तूबर तक शौचालय निर्माण का प्रमाणपत्र भी मांगा है।  जिलाधिकारी जेबी सिंह ने बताया कि संज्ञान में आया है कि सरकारी विभाग...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो