sulabh swatchh bharat

शनिवार, 19 अगस्त 2017

dr-pathak-inaugurated-sulabh-toilets-in-gargi-college

डॉ. पाठक ने किया सुलभ शौचालय का उद्घाटन

एक सप्ताह पहले
अक्सर देखा जाता है कि लोग वादा करके भूल जाते हैं, लेकिन सुलभ ने अपने वादे को पूरा किया है। इसके लिए पूरा महाविद्यालय परिवार डॉ. पाठक और सुलभ का अभारी है। यह बातें गार्गी कॉलेज की प्राचार्या प्रोमिला कुमार ने सुलभ शौचालय के उद्घाटन समारोह में कहीं। कॉलेज परिसर में नवनिर्मित सुलभ शौचालय का उदघाटन सुलभ प्रणेता डॉ. विन्देश्वर पाठक ने किया। इस अवसर पर उन्होंने वृक्षारोपण भी किया। इसके पहले कॉलेज की प्राचार्या  प्रोमिला कुमार ने पुष्पगुच्छ और शॉल देकर डॉ. पाठक का स्वागत किया।  उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए डॉ. पाठक ने कहा कि जो भी व्यक्ति शौचालय की बात कहेगा वह महान हो जाएगा। उन्होंने कहा कि आज के दौर में शौ...
dr-pathak-honors-indian-affairs-social-reformer-of-the-year -2017

डॉ. पाठक को ‘इंडियन अफेयर्स सोशल ​रिफॉर्मर ऑफ द ईयर-2017’ सम्मान

एक सप्ताह पहले
मुंबई में आयोजित एक समारोह में सुलभ प्रणेता डॉ. विन्देश्वर पाठक को ‘इं​िडयन अफेयर्स सोशल ​िरफॉर्मर ऑफ द ईयर-2017’ सम्मान से विभूषित किया गया। उन्हें यह सम्मान मुंबई के कोलाबा से विधायक राज पुरोहित के कर कमलों द्वारा प्रदान किया गया। यह पुरस्कार समारोह इंडिया लीडरशिप कॉन्क्लेव और इंडियन अफेयर्स लीडरशिप अवार्ड का एक हिस्सा है। इस समारोह का यह 8वां संस्करण था, जिसे नेटवर्क 7 मीडिया समूह द्वारा आयोजित किया गया था। 
facility-of-drinking-water-and-toilets-in-metro

मेट्रो में पेयजल और शौचालय की सुविधा

2 सप्ताह पहले
लखनऊ मेट्रो भारत की पहली ऐसी मेट्रो होगी जो सभी 21 स्टेशनों पर यात्रियों को स्वच्छ पीने का पानी पिलाएगी और वो भी मुफ्त। इसके साथ ही लखनऊ मेट्रो सभी स्टेशनों पर आधुनिक शौचालयों की सुविधा भी नि:शुल्क मुहैया कराएगी, लेकिन इन सारी सुविधाओं का लाभ वो ही ले पाएंगे, जिनके पास मेट्रो का टिकट होगा। लखनऊ मेट्रो रेल कार्पोरेशन ने यात्रियों की सुविधा का विशेष ध्यान दे रही है। स्टेशन पर एक स्टॉल पर ठंडा और प्योरिफाइड पानी दिया जाएगा। मेट्रो रेल कार्पोरेशन लखनऊ से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि हर टॉयलेट में 3-3 सीटें महिलाओं और पुरुषों के लिए होंगी और एक सीट दिव्यांगों के लिए। यह सुविधाएं केवल उन्हीं लोगों के लिए होंगी जिन्होंने टोकन या गो-स्मार्ट कार्ट से भुगतान किया होगा। यात्री टिकट खरीद...
10-sulabh-toilets-open-in-varanasi

10 सुलभ शौचालय का लोकार्पण

2 सप्ताह पहले
वाराणसी के महापौर रामगोपाल मोहले ने नदेसर स्थित मलिन बस्ती में जायका के तहत नवनिर्मित सुलभ शौचालय का लोकार्पण किया। इसी के साथ ही कमच्छा मस्जिद, मलदहिया कूड़ाघर, सेंट्रल हिंदू ब्यॉयज स्कूल, सुंदरपुर प्राइमरी स्कूल, नाटीइमली धूपचंडी, औरंगाबाद सोनिया, सुंदरपुर नटबस्ती, राजाबाजार नदेसर, नगर निगम आफिस परिसर के समीप स्थित शौचालयों का भी शुभारम्भ किया।  इस मौके पर महापौर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से खुले में शौचमुक्त अभियान के तहत शौचालयों का निर्माण प्रगति पर है और इस संदर्भ में निर्धारित लक्ष्य को शीघ्र ही लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने नगर निगम और जायका के अधिकारियों से कहा कि वे शौचालयों के इस्तेमाल के लिए लोगों को जागरूक ...
vizianagaram -istrict-of-andhra-pradesh-presented-in-cleanliness-drive

‘स्वच्छता’ का विजयानगरम 

4 सप्ताह पहले
आंध्र प्रदेश में विजयानगरम जिला सबसे पिछड़े जिलों में शुमार है लेकिन ‘स्वच्छ भारत’ कार्यक्रम के मामले में इसने अपना झंडा काफी ऊंचा फहराया है। 10 से 14 मार्च के बीच जिला प्रशासन ने यहां सौ घंटों के भीतर 10,000 शौचालयों का निर्माण करवाया। इस काम में ग्रामवासियों, स्थानीय नेता, अधिकारियों और गैरसरकारी संगठनों की सहायता ली गई। 71 ग्राम पंचायतों को व्यापक स्वच्छता अभियान के तहत लाकर उन्हें खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) घोषित किया जा चुका है। खुले में शौच से मुक्त के अंतर्गत शौचालयों का निर्माण उनकी उपलब्धि है। प्रधानमंत्री का ध्यान इस उपलब्धि पर गया। 25 जून को प्रसारित ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने इसका उल्लेख किया था। अब 15 अगस्त तक 50,000 और 2...
bihar-women-engaged-in-cleanliness-campaign

स्वच्छता मुहिम में जुटीं महिलाएं

5 सप्ताह पहले
बिहार के मधुबनी जिले में स्वच्छता की राह में अब कोई बाधा नहीं, क्योंकि महिलाएं इस बात का प्रण ले चुकी हैं ले चुकी हैं कि घर-घर में शौचालय बनेगा। इसका असर यह हुआ कि 60 घरों में शौचालय का निर्माण हो गया। कुछ और घर इस राह पर हैं। जी हां, स्वच्छ भारत के सपने को साकार कर स्वस्थ समाज के निर्माण में में जुटीं हैं भारत माता स्वयं सहायता समूह की महिलाएं। खुले में शौच से मुक्ति की दिशा में रहिका प्रखंड के भौआड़ा व राजनगर के मंगरौनी सहित आसपास के गांवों में समूह की महिलाओं के प्रयास का व्यापक असर दिख रहा है। तेरह महिलाओं वाले इस समूह की सहेली रेणुका देवी के नेतृत्व में चलाए जा रहे जागरुकता अभियान से प्रेरित करीब 60 लोगों ने अपने घरों...
minister-upendra-tiwari-cleared-the-drain-in-uttar-pradesh

मंत्री जी ने की नाली की सफाई

5 सप्ताह पहले
शपथ ग्रहण के बाद पहली बार दफ्तर पहुंचे प्रदेश के राज्यमंत्री उपेंद्र तिवारी ने हाथों में झाड़ू लेकर सफाई की थी। यह घटना तो बीते दिनों की बात है।  अब वही मंत्री महोदय कांशीराम आवासीय कालोनी में सफाई अभियान की शुरूआत करते हुए खुद नाली की सफाई में जुट गए। स्वच्छता के प्रति उत्तर प्रदेश के पर्यावरण राज्य मंत्री उपेंद्र तिवारी का जज्बा वाकई सबके लिए एक मिसाल की तरह है।  उपेंद्र तिवारी ने सफाई के इस अभियान में अधिक से अधिक संख्या में लोगों से जुड़ने का आह्वान किया था। उन्होंने सफाई कार्य हेतु सामूहिक प्रयासों की जरूरत पर जोर दिया और कहा कि शहर की मलिन बस्तियों में सफाई के लिए अधिकारी, जनप्रतिनिधियों और जागरूक समाजसेवी...
100%-of-toilets-built-in-Malana-village

मलान गांव में शत-प्रतिशत शौचालय बन गए

6 सप्ताह पहले
पिथौरागढ़ के विकासखंड के मलान गांव में शत-प्रतिशत शौचालय बन गए हैं। गांव में टायल्स वाले रास्ते, सोलर लाइट और धारे का पुनर्निर्माण भी किया गया है। ब्लॉक प्रमुख अंजू लुंठी ने मलान, पाली, उखड़ीसेरी और सुवालेख गांवों के भ्रमण के दौरान गांवों में चल रहे विकास कार्यों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि मलान गांव को निर्मल ग्राम पुरस्कार दिलाने के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा। इस दौरान उन्होंने ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य को सम्मानित भी किया।  ब्लॉक प्रमुख ने कहा कि गांवों के विकास की दिशा में लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। कुछ प्रधान इसमें रुचि ले रहे हैं। स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरूकता लाया जाना बेहद जरूरी है। कहा कि अब खुले में शौच की प्रथा को पूरी तरह समाप्त किया...
salman-khan-becomes-brand-ambassador-of-clean-mumbai-campaign

गीले कचरे पर ​सेमिनार

6 सप्ताह पहले
मुंबई को खुले में शौच मुक्त करने और स्वच्छ रखने और कचरा प्रबंधन के अभियान को तेज किया जा रहा है। हालांकि एक बड़ी आबादी वाले इस शहर में इस लक्ष्य को पाने में अनेक दिक्कतें आ रही हैं, लेकिन प्रशासन को उम्मीद है कि अगर लोगों ने सहयोग दिया तो स्वच्छ भारत रैंकिंग मुंबई के स्तर में सुधार होगा। प्रशासन का कहना है कि नियमों के मुताबिक, पांच सौ मीटर के दायरे में टॉयलेट होने पर शहर को खुले में शौच से मुक्त किया जा सकता है। इस दिशा में नए टॉयलेट के साथ-साथ मोबाइल टॉयलेट और कम्युनिटी टॉयलेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं। वैसे हर 30 व्यक्ति पर एक टॉयलेट होना चाहिए, लेकिन अभी 200 लोगों पर एक टॉयलेट है।  प्रशासन इस बात से परेशान है कि &nbs...
community-toilets-will-be-built-in-every-village

हर गांव में बनेंगे सामुदायिक शौचालय

7 सप्ताह पहले
मध्य प्रदेश के गांवों में अब नगर निगम की तर्ज पर बने सामुदायिक शौचालय नजर आएंगे, इसकी शुरुआत प्रदेश के 9 जिलों से की जा रही है। इन जिलों में 148 सामुदायिक शौचालयों का निर्माण किया जाएगा, जिसकी अनुमानित लागत 2 करोड़ 96 लाख आंकी जा रही है। प्रदेश के जबलपुर संभाग से सिर्फ नरसिंहपुर-सिवनी जिले को शामिल किया गया जिसकी 6 पंचायतों में सामुदायिक शौचालय बनाएं जाएंगे। 9 जिलों में सफल प्रयोग के बाद और अन्य जिलों में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण शुरू किया जाएगा। हालांकि इसके लिए जिलों को प्रस्ताव भेजना होगा। केंद्र सरकार के निर्देश पर तैयार हुए प्रस्ताव के तहत सामुदायिक शौचालय में महिला-पुरुष के लिए अलग-अलग प्रसाधन कक्ष, स्रान, मूत्रालय, हा...
dc-and-sp-cleaning-the-road-for-increased-awareness

डीसी व एसपी ने थामी झाड़ू

7 सप्ताह पहले
झारखंड के गुमला जिले में समाहरणालय जाने वाले मार्ग का नजारा कुछ और ही था। जिले के उपायुक्त श्रवण साय व एसपी चंदन झा हाथों में झाड़ू लिए परिसर और सड़क की सफाई में जुटे थे। इस सफाई अभियान में जिला और पुलिस प्रशासन के कई अधिकारी, कर्मचारी व पुलिस के जवान भी शामिल हुए। केंद्र सरकार के स्वच्छता अभियान के शिथिल पड़े कार्य को उपायुक्त व एसपी ने सफाई अभियान में शामिल होकर गति प्रदान करने का काम किया। समाहरणालय परिसर, समाहारणालय जाने वाला मार्ग व उपायुक्त के आवासीय परिसर की साफ-सफाई की गई। इस दौरान कचरे को एक जगह जमा किया गया। उपायुक्त ने कहा कि अपने आसपास के वातावरण को साफ व स्वच्छ रखना हम सबकी जिम्मेवारी है। साफ-सफाई से तन और मन दोनों स...
break-house-for-make-toilets-in-chhattisgarh

पक्का मकान तोड़कर बनवाया शौचालय

9 सप्ताह पहले
देश में महज स्वच्छता अभियान शुरू करने का ही नहीं, बल्कि उसे एक नए जनांदोलन की शक्ल देने के पीछे सबसे बड़ी प्रेरणा का नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है। प्रधानमंत्री बनते ही 2014 में उन्होंने देशवासियों से शौचालय बनवाने और साफ-सफाई पर ध्यान देने की अपील की थी। इसके बाद से प्रधानमंत्री मोदी न जाने कितनी बार अलग-अलग मंचों से लोगों को सफाई के लिए प्रेरित करते रहे हैं। उनकी इस अपील पर कई गरीब लोगों ने ऐसे काम किए जो किसी भी समाज के लिए मिसाल है। छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के एक गांव में रहने वाले लोहार पर स्वच्छता अपील का इतना असर हुआ कि उसने अपना पक्का घर तोड़कर शौचालय बनवाया है। फिलहाल वह झोपड़ी में रहने को मजबूर है, लेकिन उसे इस बात क...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो