sulabh swatchh bharat

सोमवार, 18 जून 2018

para-swimmer-created-history

कंचनमाला पांडे - पैरा स्विमर ने रचा इतिहास

25 सप्ताह पहले
कंचनमाला पांडे का नाम हाल में सुर्खियों में तब आया जब उसने मैक्सिको में वर्ल्ड पैरा स्विमिंग चैंपियनशिप में इतिहास रच दिया। नागपुर की कंचनमाला इस चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारत की पहली तैराक हैं। कंचनमाला ने एस-11 वर्ग के 200 मीटर मेडले इवेंट में शीर्ष स्थान हासिल किया। आज कंचनमाला देश भर में बच्चों के बीच घूम रही हैं और बता रही हैं कि अभाव और मुश्किलों के बावजूद अगर कोई प्रण कर ले तो सफलता पा सकता है। इसके लिए वह खुद अपना उदाहरण देती है और अपने संघर्ष के बारे में कई दिलचस्प बातें शेयर करती है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) में कार्यरत कंचनमाला को वर्ल्ड पैरा स्विमिंग चैंपियनशिप में मेडल जीतने की उम्मीद जरूर थी, लेकि...
gravel-of-new-jersey

गुरबीर सिंह ग्रेवाल - न्यू जर्सी के ग्रेवाल

25 सप्ताह पहले
अमेरिका के न्यू जर्सी प्रांत में प्रमुख सिख-अमेरिकी वकील गुरबीर सिंह ग्रेवाल को अगले अटार्नी जनरल के तौर पर नामित किया गया है। ग्रेवाल सरकारी वकील हैं जो पहले न्यूयॉर्क और न्यू जर्सी में बतौर सहायक अमेरिकी अटार्नी सेवा दे चुके हैं। न्यू जर्सी के निर्वाचित गवर्नर फिल मर्फी ने ग्रेवाल को अटर्नी जनरल के लिए नामित किया गया था। इस नामांकन के साथ ग्रेवाल पहले ऐसे सिख-अमेरिकी होंगे जो राज्य में अटार्नी जनरल की कमान संभालेंगे। ग्रेवाल ने कहा कि उन्होंने उस देश को वापस लौटाने के लिए सेवा देने का फैसला किया है, जिसने उन्हें और दूसरे प्रवासी परिवारों को बहुत कुछ दिया है। उन्होंने कहा, 'मैं लोगों को यह भी दिखाना चाहता था कि मैं और मेरे ...
junde-ki-jung

जुंदे की जंग

27 सप्ताह पहले
सीरिया के 16 वर्षीय किशोर मुहम्मद अल जुंदे को इस साल के अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। जुंदे को यह पुरस्कार सीरियाई बाल शरणार्थियों के अधिकारों को सुनिश्चित करने के प्रयासों के लिए दिया गया। बता दें कि दुनियाभर में बाल अधिकारों की पैरवी के लिए गठित किड्स राइट्स संगठन को गठित किया गया है। यह संगठन 2005 से लगातार हर साल किसी बच्चे को अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार से सम्मानित करता है। हमेशा युद्ध से पीड़ित रहने वाले सीरिया से पलायन कर जुंदे अपने परिवार के साथ लेबनान में रहते हैं। वहां वह एक शरणार्थी शिविर में स्कूल चलाते हैं। इस स्कूल में करीब 200 बच्चों को शिक्षा मुहैया कराई जा रही है। जुंदे को यह...
hemprabha-geeta

हेमप्रभा की गीता

27 सप्ताह पहले
कागजों और पत्थरों पर लिखी भगवद्गीता तो आपने बहुत देखी होगी, लेकिन कपड़े पर बुनी हुए गीता के बारे में जानकर आपको भी आश्चर्य होगा। जी हां असम की एक महिला बुनकर ने कपड़े पर अंग्रेजी और संस्कृत में गीता बुन कर इतिहास रच दिया है। हेमप्रभा असम के डिब्रूगढ़ में रहती है और उनका काम कपड़ों की बुनाई-सिलाई करना है। हालांकि हेमप्रभा ने कपड़े पर संस्कृत में गीता की 500 चौपाईयां और अंग्रेजी में एक पाठ को बुना है। हेमप्रभा ने पिछले साल दिसंबर में यह काम शुरू किया था, जो अब तक जारी है। ऐसा नहीं है कि हेमप्रभा ने पहली बार कोई पद कपड़े बुना हो। इससे पहले भी हेमप्रभा ने शंकरदेव गुणमाला के छह पदों को 17 इंच चौड़े और 80 फीट लंबे मूंगा ...
golden-glow-of-chanu

सैखोम मीराबाई चानू - चानू की सुनहरी चमक

28 सप्ताह पहले
अमेरिका के अनाहाइम शहर में चल रही वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में भारत की सैखोम मीराबाई चानू ने स्वर्णिम सफलता हासिल की है। महिलाओं के 48 किलो भार वर्ग में हिस्सा लेते हुए चानू ने रिकॉर्ड कुल 194 किग्रा का भार उठाया है। वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में भारत को 22 साल बाद स्वर्ण पदक हासिल हुआ है। इससे पहले इस चैंपियनशिप में भारत की ओर से ओलंपिक पदक विजेता कर्णम मल्लेश्वरी ने 1994 और 1995 में स्वर्णिम सफलता हासिल की थी। मीराबाई की इस सफलता पर उन्हें राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, खेल मंत्री और कई दिग्गजों ने बधाई दी है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक ट्वीट में लिखा, ‘वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने के लिए बध...
first-transporter

गंगा कुमारी - पहली किन्नर सिपाही

28 सप्ताह पहले
राजस्थान के जालौर की रहने वाली गंगा कुमारी की मेहनत आखिरकार रंग लाई। लंबे संघर्ष के बाद राजस्थान हाई कोर्ट के निर्देश पर गंगा कुमारी को राजस्थान पुलिस में कांस्टेबल के रूप में नियुक्त किया गया है। वह राज्य की पहली ऐसी किन्नर हैं, जिन्होंने पुलिस फोर्स ज्वाइन किया है। साल तक केस लड़ना पड़ा, तब जाकर सफलता मिली। हाई कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस विभाग ने गंगा कुमारी को कांस्टेबल के रूप में नियुक्त किया। पुलिस विभाग ने उनके जेंडर के कारण उन्हें नौकरी पर रखने से इनकार कर दिया था। जस्टिस दिनेश मेहता ने इस मामले को 'लैंगिक भेदभाव' करार देते हुए छह सप्ताह के अंदर नियुक्ति देने का आदेश दिया था। राजस्थान के जालौर...
golden-mary

मैरी कॉम - स्वर्णिम मैरी

30 सप्ताह पहले
प्रत्येक मेडल मैरी कॉम के संघर्ष की कहानी को बयान करता है। हालांकि हाल ही में उन्होंने एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में उत्तर कोरिया की मुक्केबाज को 5-0 से मात देकर पांचवी बार स्वर्ण पदक जीता है। मल्टीपल वर्ल्ड चैम्पियन और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मैरी कॉम ने वियतनामी शहर हो ची मिन्ह में अपने करियर का 5वां स्वर्ण पदक जीत कर मुक्केबाजी के क्षेत्र में इतिहास रच दिया है। हालांकि एक साक्षात्कार में मैरी कॉम ने कहा कि यह पदक मेरे लिए बहुत खास है, मैंने अब तक जितने भी पदक जीते हैं, वह मेरे संघर्ष की कहानी को बयान करते हैं। उन्होंने कहा कि मुझे इस पदक की उम्मीद थी, क्योंकि यह मुझे मेरे सांसद बनने के बाद मिला है। इससे मेरी प्रतिष्...
power-of-education

शक्ति - शिक्षा की शक्ति

30 सप्ताह पहले
तमिलनाडु के खानाबदोश नारिकुरुवार समुदाय का शक्ति भले ही इस बदलती दुनिया की हलचल से दूर हो, लेकिन अब यह देश के कई लोगों के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत बन गया है। नारिकुरुवार के एक लड़के ने ध्वजधारक के रूप में न केवल ख्याति अर्जित की है, बल्कि बच्चों को दिए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय शांति पुरस्कार के लिए भी इस वर्ष नामित हुआ है। इस सूची शामिल किए गए 169 बच्चों में शक्ति सबसे छोटे हैं।  बता दें कि तमिलनाडु में नारिकुरुवार खानाबदोश समुदाय के लिए आजीविका का एकमात्र साधन सड़कों पर माला बेचना या उससे भी बदतर भीख मांगना था। आठ साल की उम्र में शिक्षक के गलत व्यवहार के कारण शक्ति ने स्कूल छोड़ दिया था और अपने परिवार की जीविका चलाने ...
the-bullet-train-top-logo

चक्रधर आला - बुलेट ट्रेन का आला लोगो

32 सप्ताह पहले
पिछले कुछ समय से भारत में बुलेट प्रोजेक्ट की हलचल मची हुई है। अहमदाबाद में प्रोजेक्ट की नींव भी रखी जा चुकी है और अब बुलेट प्रोजेक्ट को उसका लोगो भी मिल गया है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद के 27 साल के एक छात्र चक्रधर आला को बुलेट ट्रेन का लोगो बनाने का श्रेय मिला है। बुलेट ट्रेन का लोगो चुनने के लिए एक प्रतियोगिता आयोजित की गई थी, जिसमें आला का लोगो अव्वल नंबर पर आया। ग्राफिक डिजाइन के दूसरे साल के पोस्ट ग्रेजुएट छात्र चक्रधर आला ने इस साल अप्रैल में हुए कॉम्पटिशन के तहत लोगो की डिजाइन की थी। आला ने अपने लोगो में इंजन पर चीते का डिजाइन बनाया है। आला ने बताया कि उन्होंने लोगो में चीते को इसीलिए चुना क्योंकि चीता...
sheikh-of-community-policing

शेख आरिफ हुसैन - कम्यूनिटी पुलिसिंग के शेख

32 सप्ताह पहले
छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में कम्यूनिटी पुलिसिंग के लिए जिले के तत्कालीन एसपी शेख आरिफ हुसैन को इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ चीफ ऑफ पुलिस (आईएसीपी) के प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय अवार्ड से नवाजा गया है। आईपीएस शेख आरिफ हुसैन ने कैलिफोर्निया में विश्वभर से आए पुलिस अधिकारियों को सामुदायिक पुलिसिंग में खुद के प्रयोग बताए। इस उपलब्धि पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने हुसैन को बधाई दी है।  न्यू ओरलेंस पुलिस डिपार्टमेंट द्वारा अमेरिका के कैलिफोर्निया में आयोजित सम्मान समारोह में आरिफ को आईएसीपी अवार्ड से सम्मानित किया। आरिफ ने बालोद में पदस्थ रहने के दौरान मिशन जीव दया, ई रक्षा व पूर्ण शक्ति नाम के तीन कार्यक्रम चलाए। कम्यूनिटी पुलिसिंग ...
britain-youngest-millionaire

अक्षय रुपरेलिया - ब्रिटेन का सबसे युवा करोड़पति

32 सप्ताह पहले
भारतीय अपनी प्रतिभा से पूरी दुनिया में सफलता के झंडे गाड़ रहे हैं। ऐसे ही ब्रिटेन में रहने वाले एक भारतीय मूल के युवा ने सिर्फ 16 महीने में करोड़ों रुपए की कंपनी खड़ी कर सभी को चौंका दिया है। अपनी इस कामयाबी के बलबूते यह भारतीय मूल का किशोर ब्रिटेन का सबसे युवा करोड़पति बन गया है।19 साल का अक्षय रुपरेलिया अपनी ऑनलाइन एस्टेट एजेंसी के जरिए प्रॉपर्टी बेचकर इतने कम समय में करोड़पति बन गए हैं। हैरानी की बात है कि अक्षय अभी स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं और पढ़ाई के दौरान ही वह अब तक 10 करोड़ पाउंड की प्रॉपर्टीज बेच चुके हैं। दरअसल, अक्षय ने एक वेबसाइट बनाकर कमीशन पर प्रॉपर्टीज बेचना शुरू किया था। जहां अन्य एजेंट घर बिकवाने के कई हजार पा...
name-choti-respect-big

छोटी कुमारी सिंह - नाम ‘छोटी’, सम्मान बड़ा

33 सप्ताह पहले
समाज के अंतिम पायदान पर माने जाने वाले मुसहर समाज के लोगों की मदद करने वाली बिहार के भोजपुर जिले की 20 वर्षीय छोटी कुमारी सिंह को स्विट्जरलैंड स्थित वीमेंस वर्ल्ड समिट फाउंडेशन ने ग्रामीण परिवेश में महिलाओं द्वारा किए जाने वाले रचनात्मक कार्यों की श्रेणी में सम्मानित किया है। दिलचस्प है कि छोटी खुद सवर्ण जाति से आती हैं। बावजूद इसके उन्होंने वर्ष 2014 में अपने गांव रतनपुर में मुसहर समुदाय के लोगों को शिक्षा देना और सामाजिक स्तर पर उनकी सहायता करनी शुरू करने का साहसिक फैसला लिया। उन्हें इसकी प्रेरणा आध्यात्मिक और मानवतावादी माता अमृतानंदमयी देवी (अम्मा) के प्रतिष्ठित अमृतानंदमयी मठ द्वारा संचालित एक कार्यक्रम में शामिल होने के बा...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो