sulabh swatchh bharat

बुधवार, 20 सितंबर 2017

engineering-student-pawan-kumar-developed-smart-dustbin-run-by-sim-card

पवन कुमार-पवन का स्मार्ट डस्टबिन

14 सप्ताह पहले
स्वच्छ भारत को लेकर देश भर में कई तरह के अभियान ही चल रहे हैं, इससे जुड़े कुछ दिलचस्प इनोवेशन भी देखने में आ रहे हैं। दिल्ली से लगे यूपी के गाजियाबाद के बीटेक छात्र पवन कुमार का स्मार्ट डस्टबिन इस लिहाज से काफी चर्चा में है। हाल में पवन ने भाजपा सांसद व पार्टी के दिल्ली अध्यक्ष मनोज तिवारी को यह डस्टबिन दिखाया, जो उन्हें काफी पसंद आया। उन्होंने जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस आविष्कार के बारे में बताने का भरोसा दिया है। साथ ही, पवन को इसके लिए पूरी तैयारी रखने के लिए कहा है। पवन अभी कंप्यूटर साइंस से बीटेक कर रहे हैं। पहले ही साल में टेक सेवी पवन ने स्मार्ट डस्टबिन तैयार किया है। महज 8 हजार रुपए खर्च करके तैयार हुए इस डस...
cambodian-man-build-airplane-watching-youtube-video

यूट्यूब देखकर बना दिया जहाज

14 सप्ताह पहले
यूट्यूब पर मनोरंजक ही नहीं, बल्कि कई शिक्षाप्रद वीडियो भी होते हैं। विभिन्न विषयों की पढ़ाई से लेकर नृत्य तक सब कुछ यहां से सीखा जा सकता है। पर क्या कोई व्यक्ति यूट्यूब विडियो देखकर जहाज बनाना भी सीख सकता है। जी हां, यह संभव है और यह कर दिखाया है कंबोडिया के कार मकैनिक पेन लॉन्ग ने। उन्होंने यूट्यूब से सीखकर न सिर्फ एक जहाज बना डाला, बल्कि उड़ान भी भर ली। दिलचस्प यह भी कि पेन ने यह जहाज रीसाईकल्ड चीजों से बनाया है। उनका यह एक तरह से बचपन का सपना था, पर उन्हें डर था कि अगर किसी को इसके बारे में पता चल गया तो वे उनका मजाक बनाएंगे। पेन ने चुपचाप अपने बचाए हुए पैसे से जहाज बनाना शुरू किया। इसके लिए उन्होंने यूट्यूब पर जहाज बनाने से ...
nandini-k-r-gets-first-rank-in-civil-services-examination-of-upsc-2016

कामयाबी की टॉपर

15 सप्ताह पहले
भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) की अधिकारी नंदिनी के.आर. ने संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा, 2016 में पहली रैंक हासिल की है। नंदिनी अभी फरीदाबाद स्थित राष्ट्रीय सीमा-शुल्क, उत्पाद शुल्क एवं नारकोटिक्स अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं। नंदिनी मूल रूप से कर्नाटक के कोलार जिले की रहने वाली हैं। उन्होंने बताया कि आईएएस अधिकारी बनना हमेशा से उनका सपना था। उन्होंने कहा कि यह सपने के साकार होने जैसा है। यह उनका चौथा प्रयास था। 2014 की सिविल सेवा परीक्षा में भी वह सफल हुई थीं और उन्हें भारतीय राजस्व सेवा (सीमा शुल्क एवं केंद्रीय उत्पाद शुल्क) आवंटित किया गया था। नंदिनी के पिता सरकारी स्कूल में शिक्षक हैं और मां गृहिणी हैं। सिविल परीक्षा की तैयारी के बारे में नंदिनी बताती हैं कि उन्ह...
twinkle-khanna-making-a-movie -'padman'

महिला सशक्तिकरण की ट्विंकल 

15 सप्ताह पहले
फिल्म 'पैडमैन' के साथ फिल्म प्रोडक्शन में पहली बार कदम रख रहीं लेखिका और अभिनेत्री ट्विंकल खन्ना का कहना है कि उन्हें इस फिल्म से जुड़ने पर गर्व है। यह फिल्म मासिक धर्म जैसे विषय पर जागरुकता लाएगी। 'पैडमैन' अरुणाचलम मुरुगननथम के जीवन पर आधारित है। वह तमिलनाडु में 'पैडमैन' के नाम से लोकप्रिय हैं। मुरुगननथम महिलाओं को सस्ता सेनिटरी नैपकिन उपलब्ध कराने के लिए जाने जाते हैं। इस बारे में ट्विंकल ने कहा, 'फिल्म की शूटिंग सही ढंग से चल रही है। यह ऐसे विषय पर जागरुकता लाएगी, जिस पर बात करने से अब तक शर्मिंदगी महसूस की गई है और मैं इस फिल्म का हिस्सा बनकर खुश हूं।' फिल्म में ट्विंकल के पति और अभिनेता अक्षय कुमार प्रमुख भूमिका में हैं। वहीं राधिका आप्टे ...
anshu-jamsenpa-to-climb-everest-twice-a-week-set-a-new-record

अंशु जमसेनपा - हफ्ते में दो बार एवरेस्ट विजय

16 सप्ताह पहले
दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी माउंट एवरेस्ट पर फतह अब भारतीय महिलाओं के लिए असाधारण बात नहीं रही। पर जिस तरह उसने एक ही हफ्ते में दो बार माउंट एवरेस्ट पर चढ़कर नया कीर्तिमान रचा है, वह वाकई दंग कर देने वाली कामयाबी है। अब तक दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर कोई महिला इतनी जल्दी दोबारा नहीं पहुंची है। अरुणाचल प्रदेश की 37 वर्षीय अंशु जमसेनपा ने 16 और 21 मई को माउंट एवरेस्ट पर पहुंचीं। इससे पहले किसी महिला का माउंट एवरेस्ट पर दोबारा पहुंचने का गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सात दिनों का था। अंशु को इस बात का भी श्रेय है कि उन्होंने रेकॉर्ड 5वीं बार दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर फतह हासिल की। गौरतलब है कि इन दिनों हिमालय क्षेत्र में मौसम काफी...
rehana-amir-become-a-councilor-of-british-municipal-corporation

रेहाना अमीर - भारत की बेटी ब्रिटेन में पार्षद

16 सप्ताह पहले
विदेश जाकर कामयाबी पाना भारतीयों के लिए नई बात नहीं है। इसमें जो नई और अच्छी बात है, वह यह कि भारतीय मूल के लोग अब दुनिया भर में महज कारोबारी उद्यम के क्षेत्र में ही नाम नहीं कमा रहे हैं, बल्कि वहां की व्यवस्था और प्रशासन में भी अहम स्थान बना रहे हैं। अमेरिका, अफ्रीका से लेकर यूरोप के कई देशों में भारतीय मूल के लोग बजाप्ता चुनकर संसद और स्थानीय निकायों में पहुंच रहे हैं। ऐसी ही एक महिला हैं, रेहाना अमीर। 43 वर्षीय ब्रिटिश उद्यमी रेहाना ब्रिटेन में किसी नगर निगम वार्ड की पार्षद बनने वाली भारत में पैदा हुई पहली महिला बन गई हैं। चेन्नई में पैदा हुईं और पली-बढ़ी रेहाना अमीर ने सिटी ऑफ लंदन काउंटी के विंटरी वार्ड से निर्दलीय उम्मीदवार ...
Prabhakar-Present-his-Painting-in-Victoria-Parliament

प्रभाकर का कैनवास

17 सप्ताह पहले
केरल और चित्रकला का रिश्ता पुराना है। राजा रवि वर्मा से लेकर अब तक वहां कई मशहूर चित्रकार हुए हैं। अंतरराष्ट्रीय ख्याति के लिहाज से इस सिलसिले में नया नाम जुड़ गया है सेदुनाथ प्रभाकर का। प्रभाकर पहले ऐसे भारतीय हैं, जिन्हें मेलबोर्न स्थित विक्टोरिया पार्लियामेंट में अपनी पेंटिंग प्रदर्शित करने के लिए आमंत्रित किया गया है। ‘प्राइड ऑफ मेलबोर्न’ कही जाने वाली इस पेंटिंग प्रदर्शनी में ऑस्ट्रेलिया के 50 प्रसिद्ध चित्रकारों को अपनी कला शोकेस करने का अवसर दिया जाता है। प्रभाकर मेलबोर्न में ही बस गए हैं, इस लिहाज से उन्हें यह मौका मिला है। अलबत्ता, उनके भारतीय मूल के होने के कारण भारत में भी उन्हें मिले इस बड़े अवसर को लेकर ...
Vivek-Oberoi-Donates-Flats-to-Sukma-Martyrs-Families

फ्लैट देने का ‘विवेक’

17 सप्ताह पहले
अभिनेता विवेक ओबेरॉय सामाजिक कार्यों में शुरू से दिलचस्पी लेते रहे हैं। छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले में शहीद हुए जवानों के परिवारों को उन्होंने अपनी आवासीय परियोजना में 25 फ्लैट दान में दिए हैं। विवेक की कंपनी ‘कर्मा इन्फ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड’ ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) को इस बारे में लिखित रूप में जानकारी दी है। कंपनी ने कहा वह देश के विभिन्न ऑपरेशन्स में शहीद हुए जवानों के परिवार वालों को यह मदद देना चाहते हैं। सीआरपीएफ ने अपने ट्विटर हैंडल पर इसके लिए अभिनेता को धन्यवाद दिया है। अर्द्ध सैनिक बल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि चार फ्लैट शहीद जवानों के परिवारों को आवंटित भी किए जा चुके है...
Janardan-Bhatt-donates-One-Crore-to-National-Defence-Fund

जनार्दन भट्ट - दानवीर जनार्दन

18 सप्ताह पहले
भारत में दानवीरता को शुरू से उदारता का श्रेष्ठ लक्षण माना गया है। यही कारण है कि दान-पुण्य की परंपरा आज भी देश में कायम है। वैसे आमतौर पर फिल्मी हस्तियों और बड़े कारोबारियों द्वारा लाखों-करोड़ों रुपए की रकम दान देने की खबरें ज्यादा सुर्खियां बनती है। आम जीवन में जो भी दान-पुण्य होते हैं वे ज्यादातर पूजास्थलों और व्रत-त्योहारों के मौके पर ही देखे जाते हैं। ऐसे में अगर पता चले कि कोई साधारण बुजुर्ग अपनी जिंदगीभर की बचत दान कर रहा है, तो यह वाकई बड़ी बात लगेगी। पर ऐसा कर दिखाया है 84 साल के एक रिटायर्ड बुजुर्ग बैंककर्मी ने। उन्होंने अपने जीवनभर की बचत पूंजी में से एक करोड़ रुपए ‘नेशनल डिफेंस फंड’ को दान कर दिए। द...
Student-of-Rajalakshmi-Engineering-College-Chennai-Wins-Hackathon-2017

छात्रों ने जीता हैकेथॉन-2017

18 सप्ताह पहले
तकनीकी क्रांति के दौर के बावजूद अब भी कई ऐसी कठिनाइयां हैं, जो खास तौर पर बड़े संस्थानों या दफ्तरों में काम करने वाले लोगों को होती है। इसी तरह की एक अखिल भारतीय प्रतियोगिता हाल में मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय ने ‘स्मार्ट इंडियन हैकेथॉन-2017’ नाम से आयोजित की। इस प्रतियोगिता को जीता चेन्नै के राजलक्ष्मी इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों के एक समूह ने। इन छात्रों ने एक ऐसे सिस्टम की खोज की जिसमें इसरो जैसे संस्थान में किसी डॉक्यूमेंट को खोजने में शीघ्रता आएगी। इससे किसी भी डॉक्यूमेंट का संस्थान के भीतर बहुत आसानी से न सिर्फ पता लगाया जा सकता है, बल्कि इससे एक व्यवस्थित डाक्यूमेंटेशन में भी मदद म...
Sand-Artist-Sudarsan-Pattnaik-Wins-Gold-Medal-Moscow-Competition

सुदर्शन पटनायक - स्वर्णिम सुदर्शन

19 सप्ताह पहले
ओडिशा के अंतर्राष्ट्रीय स्तर के रेत कलाकार सुदर्शन पटनायक ने 10वें मास्को सैंड स्कल्पचर प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता है। बता दें कि यह चैंपियनशिप 22 अप्रैल से 28 अप्रैल के बीच रूस की राजधानी मास्को के कोलोमेन्सकोये में आयोजित की गई थी। इस प्रतियोगिता में पटनायक ने भारत की तरफ से हिस्सा लिया था। इस प्रतियोगिता में दुनिया भर से 25 प्रतियोगियों ने हिस्सा लिया था। पटनायक को यह अवार्ड एक समारोह के दौरान कार्यक्रम के मुख्य आयोजककर्ता पेवल मेनीकोव ने प्रदान किया। बता दें कि इस प्रतियोगिता में पटनायक ने गो ग्रीन संदेश के साथ भगवान गणेश की 10 फीट ऊंची प्रतिमा बनाई थी। पटनायक ने बताया कि इस साल रूस का स्लोगन गो ग्रीन था, इसीलिए हमने इस...
K Vishwanath-gets-Dadasaheb-Phalke-Award-2016

कसीनथुनी विश्वनाथ -सिनेमा के विश्वनाथ

19 सप्ताह पहले
मशहूर तेलुगु फिल्म निर्माता और अभिनेता कसीनथुनी विश्वनाथ को साल 2016 के प्रतिष्ठित दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है। सिनेमा के क्षेत्र में यह देश का सर्वोच्च पुरस्कार है। तमिल, तेलुगु और हिंदी फिल्मों के प्रमुख नाम  87 वर्षीय विश्वनाथ दादासाहेब फाल्के पुरस्कार सम्मान के रूप में एक स्वर्णकमल, 10 लाख रुपए, शाल और प्रशस्ति पत्र शामिल है।  के. विश्वनाथ की कुछ प्रमुख फिल्मों में ‘सरगम’, ‘कामचोर’, ‘संजोग’, ‘जाग उठा इंसान’ और ‘ईश्वर’ शामिल हैं।  वे ‘सप्तापदी’ और ‘शंकराभरणम’ जैसी राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म में भी काम कर ...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो