sulabh swatchh bharat

रविवार, 16 जून 2019

app-of-genius-upgrade

कुंदन कुमार - प्रतिभा उन्नयन का एेप्प

46 सप्ताह पहले
बिहार के नक्सल प्रभावित जिले बांका में इन दिनों एक एेप्प के कारण शिक्षा को लेकर तेजी से जागरुकता बढ़ रही है। इस एेप्प को शुरू करने का श्रेय जिलाधिकारी कुंदन कुमार को है। शिक्षा के इस अभियान से 56 चुनिंदा शिक्षक के अलावा आईआईटी के पूर्व छात्र जुड़े हैं, जो इस एेप्प को सुचारु रूप से चलाने के लिए 24 घंटे तैनात रहते हैं। ‘बांका उन्नयन’ नाम के इस एेप्प के जरिए छात्र 10वीं, 12वीं, एसएससी, बैंक पीओ व आईआईटी-जी की तैयारी कर रहे हैं। इससे जहां बच्चों को उनके सवालों के जवाब मिल रहे हैं, वहीं वे सामूहिक चर्चा में शरीक होकर भी अपना ज्ञान बढ़ा रहे हैं। कुमार की पहल पर तैयार हुआ यह एेप्प हिंदी व अंग्रेजी दोनों भाषाओं में है...
divyang-band

करण जौहर - दिव्यांगों का बैंड

46 सप्ताह पहले
बॉलीवुड के जाने-माने फिल्म निर्माता-निर्देशक करण जौहर ने कुछ समय पहले मुंबई में एक बैंड लॉन्च किया है। इस बैंड की खास बात यह है कि यह 6 बच्चों का बैंड है और ये सभी बच्चे अलग-अलग रूप से दिव्यांग हैं। इस बैंड का नाम उन्होंने ‘6 पैक बैंड 2.0’ रखा है। करन जौहर इससे पहले 2016 में भी एक अलग तरह के बैंड को लॉन्च करने को लेकर चर्चा में आए थे। तब उन्होंने 'हम हैं हैप्पी' नाम से इंडिया के पहले ट्रांसजेंडर बैंड को लॉन्च किया था। इस बैंड का मकसद गानों के जरिए सामाजिक जागरूकता फैलाने का है।  इस बार करण ने जो बैंड लॉन्च किया है उसका मकसद खासतौर पर बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाना है। इसमें तीन लड़के और तीन लड़कियां...
golden-girl-hema

हिमा दास - गोल्डन गर्ल हिमा

47 सप्ताह पहले
असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने ऐलान किया है कि स्टार एथलीट हिमा दास को राज्य का खेल दूत नियुक्त किया जाएगा। फिनलैंड के टेंपेयर में आईएएएफ विश्व अंडर-20 चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचने वाली हिमा राज्य की पहली खेल दूत होंगी। हिमा 400 मीटर फाइनल में खिताब के साथ आईएएएफ विश्व अंडर 20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला हैं।  18 वर्षीय हिमा ने 51.46 सेकेंड के समय के साथ स्वर्ण पदक जीता था। इसके साथ ही वह भाला फेंक के स्टार खिलाड़ी नीरज चोपड़ा की सूची में शामिल हो गईं, जिन्होंने 2016 में पिछली प्रतियोगिता में विश्व रिकॉर्ड प्रयास के साथ स्वर्ण पदक जीता था। हालांकि वह इस प्रत...
new-vision-of-success

नानूराम राव - सफलता की नई ‘दृष्टि’

47 सप्ताह पहले
विश्वास और मेहनत से कोई कार्य असंभव नहीं रह जाता है। राजस्थान में चुरू के लोढ़सर गांव के रहने वाले एक नेत्रहीन युवा ने आईएएस की प्री परीक्षा पास कर इस सबक को एक बार फिर सही साबित किया है। सार्वजनिक निर्माण विभाग में बेलदार पद पर कार्यरत टीकूराम के नेत्रहीन बेटे नानूराम राव अपनी सफलता पर तो खुश है, पर उसे जीवन में और आगे जाना है, और सफल होना है।  राव ने बताया कि मन में विश्वास, मेहनत और लगन से ही कठिन से कठिन लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। वह अपने पिता के सपने को पूरा करने के लिए आईएएस परीक्षा की तैयारी कर रहा है। नानूराम को पूरा भरोसा है कि वह इस बार आईएएस-मेंस परीक्षा पास करके अपने पिता के सपने का साकार करेगा। र...
faiz-against-plastic

फैज मोहम्मद - प्लास्टिक के खिलाफ फैज

48 सप्ताह पहले
प्लास्टिक कचरा आज दुनिया में पर्यावरण के लिए सबसे बड़ा खतरा है। कई देश इस दिशा में कड़े कानून बनाकर पहल तो कर रहे हैं पर यह चुनौती तब तक बनी रहेगी जब तक लोग प्लास्टिक के खिलाफ अभियान में सक्रिय हिस्सेदारी नहीं लेंगे। हाल में दुबई में एक भारतीय मूल का बच्चा इसी मुद्दे पर अपनी जागरूकता दिखाने के लिए चर्चा में आया है। दुबई में भारतीय मूल के 10 वर्षीय फैज मोहम्मद को पर्यावरण को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए सम्मानित भी किया गया है।  फैज को दुबई नगर पालिका ने ‘युवा स्थिरता राजदूत’ के तौर पर सम्मानित किया है। इस बारे में फैज बताते हैं कि उसकी एक जागरूक पहल उसे इस तरह चर्चा में ला देगी, ऐसा उसने सोचा भी नहीं था। फ...
farewell-to-the-record-nails

श्रीधर चिल्लाल - कीर्तिमान के नाखून की विदाई

48 सप्ताह पहले
दुनिया में सबसे लंबे नाखूनों के लिए रिकॉर्ड दर्ज कराने वाले भारत के श्रीधर चिल्लाल ने 66 वर्षों के बाद अपने नाखून कटवा लिए इन्हीं नाखूनों की वजह से उनका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दो साल पहले दर्ज हुआ था। उनके एक अंगूठे के नाखून की लंबाई 197.8 सेंटीमीटर थी जबकि सभी नाखूनों की संयुक्त लंबाई 909.6 सेंटीमीटर। सबसे लंबे नाखूनों के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराने वाले 82 वर्षीय चिल्लाल ने 1952 के बाद अपने बाएं हाथ के नाखून नहीं काटे। उनका नाखून टाइम्स स्क्वायर में 'बिलीव इट और नॉट म्यूजियम' में काटा गया, जहां इसके लिए बकायदा एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। चिल्लाल ने दो वर्ष पहले ही ‘एक हाथ में...
ramayana-in-urdu

डॉ. माही तलत सिद्दीकी - उर्दू में रामायण

49 सप्ताह पहले
उत्तर प्रदेश के कानपुर की रहने वाली डॉ. माही तलत सिद्दीकी ने रामायण का उर्दू में अनुवाद किया है। डॉ. माही का कहना है वो अपने इस प्रोजक्ट पर काफी वक्त से काम कर रही थीं और आज जब उन्होंने इसे पूरा कर लिया है तो काफी अच्छा महसूस कर रही हैं। तमाम दूसरी मजहबी किताबों की तरह रामायण भी लोगों को भाईचारे और शांति से रहने को कहती है और रामायण को पढ़ते हुए उन्होंने बहुत सुकून महसूस किया।  डॉ. माही के परिचित और आसपास के लोग इसे एक अच्छी पहल बता रहे हैं। लोगों का कहना है कि माही ने आपसी सद्भाव का एक नमूना सबसे सामने पेश किया है। पूरी रामायण का उर्दू में अनुवाद करने पर डॉ. माही को बधाइयां भी मिल रही हैं। डॉ. माही पेशे से शिक्षिका ...
promptness-of-the-judge

संजय करोल - जज साहब की मुस्तैदी

49 सप्ताह पहले
हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में बारिश के बाद जल संकट का कोहराम कुछ थम जरूर गया है, क्योंकि वहां जल स्तर 28.4 एमएलडी (मिलियन लीटर प्रति दिन) तक पहुंच गया है। पर वहां पानी की आपूर्ति को लेकर अब भी कई तरह की शिकायतें बनी हुई हैं। यही वजह है कि शिमला का जल संकट अब भी चर्चा में है। इस संकट की गंभीरता का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि हिमाचल हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश संजय करोल अपनी तरफ से इसे दूर करने और इसके लिए सुचारु व्यवस्था बनाने के लिए न्यायिक के साथ व्यक्तिगत सक्रियता दिखा रहे हैं।  हाल ही में उन्होंने आधी रात तक शिमला की सड़कों पर घूमकर पेयजल संकट का निरीक्षण किया। लोगों को हो रही परेशानियों...
desi-superman

मनोज कुमार सैनी - देसी सुपरमैन

50 सप्ताह पहले
हॉलीवुड फिल्मों से लेकर कॉमिक्स की दुनिया तक सुपरमैन को सबसे शक्तिशाली माना जाता है। वह आखिरी वक्त पर आकर लोगों की जान बचा लेता है। सभी उसे मसीहा मानते हैं। सुपरमैन के पास वो सभी शक्तियां हैं, जो किसी के पास नहीं। भारत में भी एक शख्स ऐसा है, जिसे लोग सुपरमैन मानते हैं। इस देसी सुपरमैन की कहानी भी कॉमिक्स और फिल्मों के सुपरमैन से मिलती-जुलती है। लेकिन इनके पास कोई सुपर पॉवर नहीं है और न ही कोई फैंसी सूट।  ये है उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में रहने वाला मनोज कुमार सैनी, जिसे लोग सुपरहीरो मान रहे हैं। मनोज कुमार सैनी फलों की दुकान लगाते हैं, पर अब  उनकी पहचान देसी सुपरमैन के रूप में ज्यादा है। मनोज मुजफ्फरनगर के भोप...
four-divisions-crossed-the-english-channel

चार दिव्यांगों ने पार किया इंग्लिश चैनल

50 सप्ताह पहले
एक बार मंजिल तय करने का निश्च्य कर लिया तब फिर किसी तरह की बाधा राह में रोड़ा नहीं बन सकती। इस बात को साबित किया है भारत के विभिन्न  राज्यों  के चार दिव्यांगों ने। इन चारों ने इंग्लिाश चैनल को पार करने का निर्णय लिया और 36 किलोमीटर लंबा इंग्लिश चैनल 12 घंटे 26 मिनट में पार करने का रिकॉर्ड बनाया।  कई महीनों से ट्रेनिंग ले रहे इन चार तैराकों की टीम में मध्य प्रदेश के सत्येंद्र सिंह लोहिया, राजस्थान के जगदीशचंद्र तैली, महाराष्ट्र के चेतन राउत और बंगाल के रिमो शाह शामिल हैं। इंग्लिश चैनल पार करने वाली इस पहली एशियाई टीम में शामिल चारों तैराकों के लिए यह रिकॉर्ड कायम करना आसान नहीं था। किसी के पास पैसों की दिक्क...
loss-of-absence

सुदीक्षा - अभाव की हार

51 सप्ताह पहले
यूपी में दादरी के आमका रोड पर चाय बेचने वाले की बेटी अब अमेरिका में पढ़ाई करेगी। जी हां, चाय की दुकान चलाने वाले जितेंद्र भाटी की बेटी को सुदीक्षा को अमेरिका के प्रतिष्ठित बॉबसन कॉलेज में पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिली है। हाल ही में 12वीं में 98 फीसदी लाकर जिले में टॉप करने वाली सुदीक्षा ने इस मुकाम के लिए बहुत मेहनत की है। परिवार की आर्थिक स्थिति और सामाजिक रूढ़ियों को तोड़कर सुदीक्षा ने न सिर्फ अपनी पढ़ाई जारी रखी, बल्कि अब अमेरिका में पढ़ने का अपना सपना भी पूरा करने जा रही हैं।  बता दे कि अमेरिका की बॉबसन कॉलेज ने सुदीक्षा को 4 साल के कोर्स के लिए 3.8 करोड़ की स्कॉलरशिप दी है। सुदीक्षा ने बताया कि पढ़ाई करने के लिए घर पर उतने पैसे नहीं थे। 2011 में शिव नाडर द्वारा संचालित ...
true-predicted-cat

सच निकली बिल्ली की भविष्यवाणी

51 सप्ताह पहले
जिस तरह पिछले फीफा वर्ल्ड कप में ऑक्टोपस पॉल ने जीत की भविष्यवाणियां की थी ठीक वैसे ही इस बार फीफा वर्ल्ड कप में एचिलेस नाम की बिल्ली भविष्यवाणी कर रही है। इस साल पहले मैच में बिल्ली की भविष्यवाणी बिलकुल सही हुई। फीफा वर्ल्ड कप 2018 में पहला मैच रूस और सऊदी अरब के बीच खेला गया, जिसमें रूस ने अरब को 5-0 से हरा दिया। दोनों ही टीमें इस साल की सबसे कमजोर टीम मानी जा रही हैं। वैसे पिछले दो सालों में रूस का प्रदर्शन काफी खराब रहा है। 2016 से अब तक रूस ने 19 मैच खेले, लेकिन उसे सिर्फ 6 जीत में ही जीत मिली।  वर्ल्ड रैंकिंग में रूस 70वें नंबर पर है तो वहीं सउदी अरब 67वें नंबर पर है। ओल्ड इंपेरियल सारिस्ट कैपिटल के प्रेस सेंटर...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो