sulabh swatchh bharat

शनिवार, 25 नवंबर 2017

naughty-sachin

सचिन तेंदुलकर - शरारती सचिन

9 सप्ताह पहले
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने इस बात का खुलासा किया है कि वे किस क्षेत्र में बेहतर स्कोर नहीं कर पाए। क्रिकेट में रनों का  पहाड़ खड़ा करने वाले सचिन तेंदुलकर ने  यह खुलासा अपने बचपन की एक तस्वीर को सोशल मीडिया पर साझा करते हुए किया।  तस्वीर में छोटे सचिन किताब और कलम से लैस हैं। तस्वीर को देख कर कोई सहज ही इस बात  का अनुमान लगा सकता है कि वे बचपन में पढ़ाकू थे। लेकिन ऐसा है नहीं। सचिन ने खुद ही इस  बात का खुलासा करते हुए लिखा है इस क्षेत्र में  कभी भी अच्छा स्कोर नहीं बना पाए।  उन्होंने लिखा है, मैं इस क्षेत्र में कभी भी अच्छा स्कोर नहीं था। प्रोफेसर पिता की संतान सचिन बचपन में बेहद शरारती थ...
young-pilot

मंसूर अनीस - नन्हा पायलट

9 सप्ताह पहले
9वीं में पढ़ने वाला भारतीय छात्र मंसूर अनीस सबसे कम उम्र का पायलट बन गया है। मंसूर को पिछले सप्ताह कनाडा की एविएशन अकादमी से सिंगल इंजन फ्लाइट उड़ाने का सर्टिफिकेट मिला है। मंसूर दुबई के शरजाह में  पढ़ता है। मंसूर को पॉयलट का सर्टिफिकेट देने से पहले फ्लाइ्ंग टेस्ट भी कराया गया, जिसमें वह पास हो गया। बताया जा रहा है कि मंसूर रेडियो कॉम्युनिकेशन टेस्ट भी पास कर चुका है और इसमें उसे 96 परसेंट अंक हासिल हुए हैं। कनाडा में विमान उड़ाने के लिए जो योग्यता चाहिए होती है उसे मंसूर ने इतनी कम उम्र में ही पूरी कर ली है। मंसूर को टेस्ट के लिए जब फ्लाइट दी गई तो उसने सफलतापूर्वक उसे उड़ाकर दिखा दिया। इसके बाद एएए एविएशन फ्...
pillai-of-singapore

जे वाई पिल्लई - सिंगापुर के पिल्लई

10 सप्ताह पहले
भारतीय मूल के जानेमाने नौकरशाह जे वाई पिल्लई को सिंगापुर के कार्यवाहक राष्ट्रपति के तौर पर नियुक्त किया गया है। 83 वर्षीय पिल्लई ने टोनी टैन केंग याम की जगह लिया, जिनका राष्ट्रपति के तौर पर छह साल का कार्यकाल पूरा हो गया है। राष्ट्रपति सलाहकार परिषद के अध्य‍क्ष पिल्लई तब तक राष्ट्रपति पद पर बने रहेंगे, जब तक नामांकन वाले दिन या 23 सितंबर को चुनाव वाले दिन के बाद कोई उम्मीदवार निर्वाचित नहीं हो जाता। स्ट्रेट्स टाइम्स के अनुसार, राष्ट्रपति कार्यालय खाली होने पर संसद के सभापति के बाद राष्ट्रपति सलाहकार परिषद के अध्यक्ष को इसकी जिम्मेदारी सौंपी जाती है। कहा जा रहा है कि 1991 में जब से राष्ट्रपति चयन की प्...
aamir-khan-donates-25-lakhs-flood-victims-in-bihar

आमिर खान - दरियादिल आमिर

10 सप्ताह पहले
एक बार फिर आमिर खान ने दरियादिली दिखाई है। आमिर ने बिहार में बाढ़ राहत और पुनर्वास के लिए 25 लाख रुपए दान किए। आमिर खान की प्रोडक्शन कंपनी ने डाक के जरिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए चेक भेजा।  गौरतलब है कि बिहार के 19 जिले भीषण बाढ़ की मार झेल रहे हैं। नेपाल की तरफ से आई बाढ़ ने जबरदस्त तबाही मचाई है। बाढ़ की वजह से जानमाल का नुकसान हुआ और वहीं 500 सौ से अधिक लोग इसके शिकार हुए हैं।   ऐसा पहली बार नहीं है जब आमिर ने राहत के लिए पैसे दिए हों। इससे पहले हाल ही में असम और गुजरात के लिए भी आमिर ने 25 लाख रुपए दिए थे। गौरतलब है कि आमिर खान की फिल्म ‘सीक्रेट सुपरस्टार...
jalwa-of-juniors

आर्यमन सिंह - जूनियर का जलवा

12 सप्ताह पहले
10 वर्षीय गोल्फर आर्यमन सिंह ने गोल्फ टूर्नामेंट के इस सीजन में अपने ही पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। आर्यमन ने भारतीय गोल्फ संघ-पश्चिम जोन 2017 की पहली पांच दौरे के माध्यम से अपने आगे के रास्ते तेज कर दिए हैं, जिससे उन्होंने अपने ही कई क्षेत्रीय और राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। बता दें कि आर्यमान पिछले चार वर्षों से क्षेत्रीय स्तर पर अपराजित रहे हैं और उन्होंने प्रत्येक टूर्नामेंट खेला है। उनकी जीत की लकीर 1266 दिन की है, जो कि पूरे भारत में जूनियर गोल्फ के इतिहास में सबसे लंबी लकीर है। उन्होंने केंसविले गोल्फ कोर्स अहमदाबाद में अपना पहला टूर्नांमेंट जीता था। उसके बाद आर्यमन ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा और उन्हों...
indian-marconi

थॉमस कैलाश - भारतीय मारकोनी

12 सप्ताह पहले
अमेरिकी मारकोनी सोसाइटी ने आधुनिक संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए भारतीय मूल के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर थॉमस कैलाश को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड देने की घोषणा की है। मारकोनी सोसाइटी ने कहा कि कैलाश छठे वैज्ञानिक हैं, जिन्हें उनके शोध योगदानों के लिए लाइफ टाइम अचीवेंट अवार्ड से सम्मानित किया जा रहा है, जो पिछले छह दशकों से आधुनिक संचार प्रौद्योगिकियों को उन्नत कर रहे हैं। 82 वर्षीय कैलाश को 2009 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था, वर्तमान में कैलाश स्टैनफोर्ड में इंजीनियरिंग के एमेरिटस प्रोफेसर हैं।  रेडियो का आविष्कार करने वाले नोबेल पुरस्कार विजेता गुग्लेल्मो मारकोनी (1...
akbar-saheb-gave-martyrdom-to-martyrs-through-art

अकबर साहेब - चित्रकार का सलाम

13 सप्ताह पहले
दुबई में रहने वाले एक भारतीय चित्रकार ने सेना के जवानों की कठिनाईयों और त्यागों को चित्रित किया है। ये कलाकृतियां स्वतंत्रता दिवस से पहले भारतीय सेना की कठिनाइयों और त्यागों से प्रेरित हैं।  बता दें कि कलाकार अकबर साहेब कर्नाटक के रहने वाले हैं। अकबर साहेब ने 2015 में प्रधानमंत्री मोदी की संयुक्त अरब अमीरात यात्रा के दौरान अपनी बनाई हुए कई कलाकृतियां भेंट की थी। इतना ही नहीं साहेब एकमात्र ऐसे कलाकार हैं जिन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की किताब, ‘मन की बात’ में चित्रों के माध्यम से जगह बनाई है।  साहेब कहते हैं कि देश की सेवा करते समय इन सिपाहियों को कई तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। पाकिस...
sitaram-kedilaya-hiking-of-village-india

सीताराम केदिलाया - अनोखा पदयात्री

13 सप्ताह पहले
भारत के ज्यादातर आबादी गांवों में बसती है। आज भी दूर दराज के गांवों में सभी मूलभूत जरूरतें मुहैया नहीं हैं। इसी बात को ध्यान में रख कर सीताराम केदिलाया ने भारत परिक्रमा पदयात्रा की शुरुआत की और उसके सफल समापन के बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। केदिलाया ने 9 अगस्त 2012 को कन्याकुमारी से भारत परिक्रमा यात्रा की शुरुआत की थी और इस वर्ष 9 जुलाई को कन्याकुमारी में यात्रा पूरी की। केदिलाया ने कहा कि इस यात्रा के दौरान वह सीधे 9000 गांवों तक पहुंचे । उन्होंने कहा कि इस यात्रा के दौरान उन्हें लाखों किसानों और ग्रामीण युवाओं से बातचीत करने का मौका मिला। वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने केदिलाया के प्रयासों की सराहना...
dikshita-brick-cool-store

दीक्षिता खुल्लर - दीक्षिता का ‘ब्रिक कूल स्टोर’

15 सप्ताह पहले
17 साल की दीक्षिता खुल्लर ने एक ऐसा कोल्ड स्टोरेज  बनाया है, जो न केवल काफी सस्ता है, बल्कि उसके जरिए सब्जियां लंबे वक्त तक ताजी रहती हैं। दीक्षिता दिल्ली के वसंत विहार के जीडी गोयनका स्कूल  की 12वीं कक्षा की छात्रा हैं। दीक्षिता ने इसके लिए उसने इंटरनेट की मदद ली और कई लोगों से इस बारे में बात की। दीक्षिता को पता चला कि अफ्रीका के एक देश नाइजीरिया में फल और सब्जियों को उसने इसे भारतीय परिस्थिति के अनुसार नया रूप दिया और इस तकनीक को नाम दिया ‘ब्रिक कूल स्टोर’। इसमें ईंटों की दो दीवारें बनाई जाती हैं। जिनके बीच में जगह खाली छोड़ी जाती है और उस खाली जगह में बालू भरी होती है। दीवारों की ऊंचाई तीन से चार फीट की ह...
record-of-every-day-coming-school

भार्गव मोदी - हर दिन स्कूल आने का कीर्तिमान

15 सप्ताह पहले
आमतौर पर छोटे बच्चे स्कूल जाने में आनाकानी करते हैं। वे अक्सर स्कूल न जाने के लिए रोज कोई न कोई बहाना बनाते हैं, लेकिन सूरत के पीआर खाटीवाला में पढ़ने वाला एक बच्चा भार्गव मोदी ने सीनियर केजी से लेकर 12वीं कक्षा तक एक भी छुट्टी न लेकर रिकॉर्ड बना दिया है। वह लगातार 2906 दिनों तक स्कूल में उपस्थित रहा है। पिछले 14 साल से भार्गव ने एक भी दिन स्कूल मिस नहीं किया है। इससे पहले यह रिकॉर्ड भार्गव के ही बड़े भाई वत्सल के नाम पर था, जो लगातार 2537 दिनों तक स्कूल गया था। दिलचस्प है कि एक बार उसकी स्कूल बस का एक्सीडेंट हो गया था। चेहरे पर चोटें आने के बावजूद डॉक्टर के पास जाने के बजाय भार्गव और उसका भाई सीधे स्कूल गए थे। बातचीत के दौरा...
unicef-appointed-lilly-singh-as-global-goodwill-ambassador

लिली सिंह : सद्भावना की लिली

16 सप्ताह पहले
यूनिसेफ ने भारतीय मूल की कनाडाई यूट्यूब स्टार लिली सिंह को अपना वैश्विक सद्भावना राजदूत नियुक्त किया है। बता दें कि लिली यूनिसेफ द्वारा युवाओं के लिए चलाए जा रहे एक कार्यक्रम ‘यूथ फॉर चेंज’ के समर्थन के लिए राष्ट्रीय राजधानी में मौजूद थीं। इस कार्यक्रम के दौरान ही उन्हें यूनिसेफ द्वारा ग्लोबल सद्भावना राजदूत नियुक्त किया गया। यूट्यूब पर लिली को 'सुपर वूमन' के नाम से जाना जाता है। वह अपनी कुछ हिंदी वीडियो के साथ यूट्यूब पर आती हैं और वह अपने वीडियो, ब्लॉगों और चैनल के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा हिंदी को बढ़ावा दे रहीं हैं। इसके लिए वह अपने इंग्लिश ब्लॉग, वीडियो और चैनल में उपशीर्षक हिंदी में ही डालने का अधिकतर प्रयास करती हैं, जिससे उनके चैनल की पहुंच ज्याद...
harmanpreet-kaur-explosive-batsman-of-women's-cricket-team

हरमनप्रीत कौर: हर मन में बसी हरमन

16 सप्ताह पहले
पंजाब की हरमनप्रीत कौर ने महिला विश्वकप के सेमी फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 115 गेंदो में 171 रन की नाबाद पारी खेलकर भारत को फाइनल में पहुंचा दिया, लेकिन वह इस टूर्नामेंट के दौरान सबसे ज्यादा छक्का लगाने के रिकॉर्ड से चूक गईं। वह इस टूर्नामेंट में 11 छक्के लगा कर दूसरे स्थान पर रहीं। इस टूर्नामेंट में हरमनप्रीत ने 359 रन बनाए और उनका औसत 61 रन के आसपास का रहा। इतना ही नहीं हरमनप्रीत ने इस टूर्नामेंट में 33 चौके भी लगाए। हरमनप्रीत कौर का यहां तक का सफर आसान नहीं था। जब वह बड़ी हुईं और खेल में अपनी रुचि को जाहिर किया तो उनके पिता ने उन्हें हॉकी स्टीक थमा दी थी, क्योंकि वहां कोई लड़की क्रिकेट नहीं खेलती थी। लेकिन हरमन के क्रिकेट के प्रति लगन को देख कर उन्हें क्रिकेट खेलने...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो