sulabh swatchh bharat

गुरुवार, 21 जून 2018

the-imagination-of-being-completed-top

कल्पना कुमारी - पूरी हुई टॉप होने की ‘कल्पना’

एक दिन पहले
सीबीएसई द्वारा आयोजित नीट-2018 में बिहार की बेटी कल्पना कुमारी ऑल इंडिया टॉपर बनी है। कल्पना को बायोलॉजी में 360 में 360, केमिस्ट्री में 140 और फिजिक्स में 171 अंक मिले हैं। कल्पना बिहार के शिवहर जिले की रहने वाली है और उसने नवोदय विद्यालय शिवहर से दसवीं तथा बिहार बोर्ड से बारहवीं की परीक्षा पास की है। उसके पिता राकेश मिश्रा शिक्षा विभाग के अधिकारी हैं। कल्पना के पिता की पोस्टिंग सीतामढ़ी जिले में है। कल्पना ने दिल्ली में रहकर परीक्षा की तैयारी की। नीट में इस वर्ष 13,26,725 स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी थी। सीबीएसई एमबीबीएस/बीडीएस में एडमिशन के लिए यह परीक्षा आयोजित करता है।  कल्पना ने 720 में से 691 अंक (99.99 परसेंटाइल) ह...
youngest-writer

अयान गोगोई गोहैन - सबसे कम उम्र का लेखक

2 दिन पहले
चार वर्ष की उम्र में जहां बच्चे ककहरा सीख ही रहे होते हैं, वहीं उत्तर पूर्वी भारत के एक बच्चे ने इस उम्र में अपने नाम एक बड़ा कीर्तिमान कर लिया है। इस नन्हीं सी उम्र में जो इस बच्चे ने कारनामा कर दिखाया है उसकी चर्चा सिर्फ देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी हो रही है। दरअसल, असम के उत्तरी लखीमपुर जिले के रहने वाले चार वर्षीय अयान गोगोई गोहैन ने इतनी कम उम्र में भारत का सबसे कम उम्र का लेखक होने का कीर्तिमान अपने नाम कर लिया है। यह खिताब उसकी किताब ‘हनीकॉम्ब’ के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड ने दिया है। इंडिया बुक आफ रिकार्ड वह संस्था है जो देश में असाधारण प्रतिभा और उपलब्धियां प्राप्त करने वाले लोगों का नाम अपन...
keshadan-for-cancer-victims

कैंसर पीड़ितों के लिए केशदान

एक सप्ताह पहले
कैंसर से पीड़ित मरीज कीमोथेरेपी के दौरान अपने बालों को खो देते हैं। ऐसे में पीड़ित लोग समाज में जाने से कतराते हैं। उनकी इस समस्या को दूर करने के लिए ‘हेयर फॉर होप’ नामक संस्था ने एक कदम उठाया है। यह संस्था इन लोगों के लिए बाल दान करने की अपील कर रही है।  संस्था ऐसा करके लोगों को थोड़ी सी खुशी प्रदान करना चाहती है। यह पहली ऐसी संस्था है, जिसने कैंसर पीड़ितों के लिए बाल दान करने की पहल की है। हाल में ही नगालैंड के दीमापुर के लाइटहाउस चर्च में कैंसर रोगियों के बाल दान समारोह आयोजित किया गया,  जिसमें लगभग 30 लोगों ने विशेष रूप से बाल दान किए। हेयर फॉर होप इंडिया की तरफ से उत्तर-पूर्वी भारत में यह अपने प...
freshmans-badge

मंजू देवी - हौसले का बिल्ला

एक सप्ताह पहले
अकसर रेलवे स्टेशन पर आपने पुरुष कुलियों को देखा होगा, जो भारी-भारी बैग भी आसानी से उठा लेते हैं। लेकिन जयपुर को पहली महिला कुली मिली है, जिनका नाम मंजू देवी है। उनकी जिंदगी काफी संघर्षमय है। पुरुष कुलियों के साथ बैठकर वो यात्रियों का इंतजार करती है। हर कोई उन्हें कुली के रूप में देखकर हैरान रह जाता है। मंजू देवी घर की अकेली कमाने वाली है।  पति की मौत के बाद वो मजबूरी में यह काम कर रही है। बच्चों के लिए उन्होंने कुली बनने का फैसला लिया। न तो उन्हें इस काम से शर्म आती है और न ही मुसाफिरों के वजनी सामान उठाने में उन्हें कोई तकलीफ महसूस होती है। उनके पति भी कुली थे। मंजू ने पति का बिल्ला नंबर-15 लेकर काम करना शुरू कर दिय...
divyang-made-topper

अनुष्का पांडा - दिव्यांग बनी टॉपर

2 सप्ताह पहले
सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा में गुरुग्राम के सनसिटी स्कूल की छात्रा अनुष्का पांडा ने 97.8 फीसदी अंकों के साथ देश में दिव्यांग श्रेणी में टॉप किया है। देश भर में टॉप करने पर अनुष्का ने कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं कि मेरे कठिन मेहनत का पुरस्कार मिला है। यह मेरे लिए वास्तव में एक बड़ा क्षण है। मैं रिजल्टल आने से पहले काफी नर्वस थी।’ अनुष्का को रीढ़ की बीमारी स्पाइनल मस्कुलर एट्रॉपी है। यह ऐसी अनुवांशिक बीमारी है, जिससे रीढ़ की हड्डी की मोटर नर्व कोशिकाएं प्रभावित होती हैं। इससे रोगी को चलने-फिरने समेत दूसरी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। व्हीलचेयर पर आश्रित होने के बावजूद 14 साल की अनुष्का ने यह सफलता हासिल की है। अपनी सफल...
tea-school

डी प्रकाश राव - चाय बेचकर चला रहे स्कूल

2 सप्ताह पहले
ओडिशा के कटक में चाय बेचने का काम करने वाले डी. प्रकाश राव अपने कार्य और लगन से सबको प्रेरणा दे रहे हैं। राव चाय बेचने के साथ-साथ स्कूल भी चलाते हैं। उनके स्कूल में झोपड़ियों में रहने वाले बच्चे पढ़ते हैं। उनके इस कार्य की तारीफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यक्रम ‘मन की बात’ में की थी। पीएम ने कहा, ‘आप जानकर हैरान हो जाएंगे, उन्होंने 70 से अधिक बच्चों के जीवन में उजाला भरा है। उन्होंने ‘आशा-आश्वासन’ नाम का स्कूल खोला है।’ इसके अलावा राव अस्पताल में मरीजों की मदद भी करते हैं। उन्होंने बताया कि वह अपनी आय का आधा हिस्सा इस स्कूल पर खर्च करते हैं। बातचीत के क्रम में राव बताते हैं, ‘...
asha-honour-bung-bhushan-award

आशा को बंग भूषण सम्मान

3 सप्ताह पहले
हाल में पश्चिम बंगाल सरकार के सर्वोच्च नागरिक सम्मान बंग विभूषण और बंग भूषण से 11 हस्तियों को सम्मानित किया गया। यह सम्मान वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिया। इन हस्तियों में सबसे बड़ा नाम प्रसिद्ध पार्श्वगायिका आशा भोंसले का है। दिलचस्प है कि एक लंबे दौर तक लता और आशा के गीत हिंदी के साथ बांग्ला फिल्मों के भी हिट होने की गारंटी माने जाते थे। कोलकाता के नजरुल मंच पर मुख्यमंत्री ने पार्श्वगायिका आशा भोंसले सहित अन्य हस्तियों को सम्मानित किया। आशा भोंसले को बंग विभूषण से सम्मानित किया गया।  इस मौके पर ममता बनर्जी ने कहा कि सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर ने बांग्ला में अनेक गाने गाए हैं। राज्य सरकार उन्हें भी बंग विभूष...
the-glory-of-sikh-turban-in-new-york

गुरसोच कौर - न्यूयॉर्क में सिख पगड़ी की शान

3 सप्ताह पहले
न्यूयॉर्क पुलिस डिपार्टमेंट में पहली बार एक पगड़ीधारी सिख महिला अफसर की नियुक्ति की गई है। गुरसोच कौर की नियुक्ति पुलिस डिपार्टमेंट में सहायक पुलिस अफसर (एपीओ) के रूप में हुई है। वह हाल में ही न्यूयॉर्क पुलिस अकादमी से ग्रेजुएट हुई हैं। गुरसोच कौर का उद्देश्य पुलिस डिपार्टमेंट से जुड़कर दूसरे लोगों को कानून व्यवस्था लागू करने के लिए प्रेरित करना है। इसके साथ ही वह चाहती हैं कि इसके जरिए लोगों के बीच सिख धर्म की समझ भी बढ़ सके। सिख ऑफिसर्स असोसिएशन ने ट्वीट करते हुए कहा कि हम पहली पगड़ी वाली महिला सिख सहायक पुलिस अफसर का न्यू यॉर्क पुलिस डिपार्टमेंट में स्वागत करने में गर्व महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें गुरसोच कौर पर गर्...
golden-shuttle-of-divyang-dm

सुहास एलवाई - दिव्यांग डीएम का गोल्डन शटल

4 सप्ताह पहले
यूपी कैडर के तेज तर्रार आईएएस अफसर और इलाहाबाद के डीएम सुहास एलवाई ने तुर्की में चल रही बैडमिंटन प्रतियोगिता में दोहरा खिताब हासिल कर एक बार फिर अपने जनपद का नाम रौशन किया है। उन्होंने टर्किश पैरा बैडमिंटन द्वारा आयोजित एनेस कप अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में सिंगल और डबल मुकाबले का खिताब अपने नाम किया। इस टूर्नामेंट में भारतीय पैरा शटलरों ने कुल छह पदक जीते।  इससे पहले सुहास बीजिंग में हुई पैरा एशियन गेम्स में भारत की तरफ से एशियन खिताब भी जीत चुके हैं। उनका कहना है कि अपने शौक व जूनून को पूरा करने के लिए लोगों को वक्त जरूर निकालना चाहिए और अगर पूरी मेहनत व लगन से कोई कोशिश की जाए, तो शारीरिक कमजोरी के बावजूद मंजिल तक...
tallent-to-the-title

विजयकुमार रागवी - टैलेंट को खिताब

5 सप्ताह पहले
भारत की बेटियां आज सिर्फ अपने देश में ही विभिन्न क्षेत्रों में नाम नहीं कर रही हैं, बल्कि वे अपनी कामयाबी के झंडे विदेशी धरती पर भी लहरा रही हैं। चेन्नई में जन्मी 18 वर्षीय छात्रा विजयकुमार रागवी ने सिंगापुर में ए स्टार टेलेंट सर्च अवार्ड जीता है। रागवी को यह अवार्ड आनुवांशिक हृदय रोग ‘हाइपर ट्रोफिक कार्डियोमायोपैथी’ पर विशेष मॉडल बनाने के लिए दिया गया है।  611 प्रतिभागियों के बीच पहला स्थान प्राप्त करने वाली रागवी को इस अवार्ड के तहत नकद इनाम, ट्रॉफी और प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। सिंगापुर में ‘ए स्टार टैलेंट सर्च’ की शुरुआत 2006 में की गई थी, ताकि विज्ञान के क्षे...
promotional-red-of-flowers

शेख सलमान व मोहम्मद नूह सिद्दिकी - फुलंब्री के होनहार लाल

5 सप्ताह पहले
महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के एक छोटे से गांव माली के ऐसे किसान के बेटे ने यूपीएससी की परीक्षा पास की है, जिसका परिवार महज दो एकड़ जमीन पर खेती करके गुजारा करता है। उसका घर खेत पर ही बना हुआ है। फुलंब्री तहसील से तीन किलोमीटर दूर एक गांव के शेख सलमान पटेल ने यूपीएससी परीक्षा में 339 वां स्थान हासिल किया है। वैसे फुलंब्री इन दिनों यूपीएससी में सलमान के साथ एक और लड़के की कामयाबी का जश्न मना रहा है। यहीं के मोहम्मद नूह सिद्दिकी ने भी इस बार यूपीएससी में कामयाबी का परचम लहराया है। आजादी के बाद 70 वर्षों के इतिहास में यह क्षेत्र पहली बार इस तरह की कामयाबी का जश्म मना रहा है। सिद्दिकी ने परीक्षा में 326वां रैंक हासिल किया है। सलमान ...
state-short-term-big

पवन कुमार चामलिंग - राज्य छोटा कार्यकाल बड़ा

6 सप्ताह पहले
देश के एक छोटे से राज्य के मुख्यमंत्री रहते हुए पवन चामलिंग लगातार 23 साल 4 महीने और 17 दिन से मुख्यमंत्री की कुर्सी पर हैं। सबसे लंबे समय तक सीएम पद पर रहने का यह नया रिकॉर्ड है। इससे पहले ये रिकॉर्ड पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री और सीपीएम के नेता दिवंगत ज्योति बसु के नाम था, लेकिन 28 अप्रैल 2018 के बाद यह रिकॉर्ड चामलिंग के नाम दर्ज हो गया है। अभी उनका कार्यकाल मई 2019 तक है।  चामलिंग का जन्म 22 सितंबर, 1950 को सिक्किम के एक छोटे और बेहद पिछड़े गांव यंगयंग में हुआ था। 1972 में राजनीति में आने से पहले वह किसान और प्रथम श्रेणी के ठेकेदार रह चुके हैं। चामलिंग 1973 में सक्रिय राजनीति से जुड़े गए थे। अपने राजनीतिक कॅरियर ...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो