sulabh swatchh bharat

मंगलवार, 18 जून 2019

Get-Money-from-A-Vending-Machine-to-Exchange-Plastics

कचरा दें, पैसे लें

111 सप्ताह पहले
केंद्र सरकार और नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) के सहयोग से एक स्टार्टअप कंपनी एनडीएमसी इलाके में ई-कचरा वेडिंग मशीन लगाने जा रही है। इस बाबत पुणे से दो मशीनें मंगाई गई हैं। इन मशीनों को इंडिया गेट और कनाट प्लेस के आठ ब्लॉकों में रखवाया गया है। मशीनों में सॉफ्टवेयर लगाया जा रहा है। एक सप्ताह में लग जाने वाले इस साफ्टवेयर के बाद प्लास्टिक की खाली बोतल डालने पर एक रुपए और बीयर की बोतल डालने पर दो रुपए मिलने शुरू हो जाएंगे। अंदेशा है कि इससे लोगों में जागरुकता के साथ उनकी आमदनी भी बढ़ेगी। लोग घरों में फेंके जाने वाले कचरे को इधर उधर न फेंककर सीधे वेडिंग...
NGT-Orders-for-Ganga-River-Pollution

गंगा को लेकर एनजीटी का आदेश

111 सप्ताह पहले
राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने  केंद्र्र से यह स्पष्ट करने को कहा कि गंगा नदी में निर्बाध जल आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए उसमें न्यूनतम पर्यावरण प्रवाह क्या होना चाहिए। शीर्ष पर्यावरण नियामक ने यह भी कहा कि जब तक पानी को अत्यधिक निकाले जाने और उच्च प्रदूषकों को उसमें बहा दिए जाने पर नियंत्रण नहीं लगाया जाता, तब तक गंगा को पूर्णरूपेण उसके असली रूप में वापस नहीं लाया जा सकेगा। ई-प्रवाह का संबंध मानवीय जीविका के अलावा ताजा पानी तथा संबंधित पारिस्थिति की बनाए रखने के लिए जरूरी जल प्रवाह की मात्रा, समय एवं गुणवत्ता से होता है। एनजीटी अध्यक्ष स्वतंत्र ...
Recharge-Metro-Smart-Card-Online-in-Home

घर बैठे करें मेट्रो कार्ड रीचार्ज

111 सप्ताह पहले
दिल्ली मेट्रो रेल निगम मेट्रो के ऐप में ऑनलाइन रीचार्ज की सुविधा देने जा रही है, जिसे पेटीएम द्वारा भी रिचार्ज किया जा सकेगा। इस कदम से यात्रियों को लंबी लाइनों से निजात मिलने की उम्मीद है। बता दें कि दिल्ली मेट्रो की ऐप में अब तक सिर्फ-मेट्रो के रूट और मेट्रो ट्रेन के समय का ही पता चलता था, लेकिन जल्द ही आप अपने घर बैठे इस ऐप की मदद से अपना स्मार्ट कार्ड  रीचार्ज कर सकेंगे। डीएमआरसी के निदेशक के मुताबिक दिल्ली मेट्रो की ऐप को अपग्रेड किया जा रहा है। इसमें कई और नई चीजों को जोड़ा जाएगा। इस ऐप के जरिए टोकन को भी ऑनलाइन खरीदा जा सकेगा। ऑनलाइन रीचार्ज की सुविधा मिलने के ऐलान के बाद से मेट्रो का रोजमर्रा प्रयोग करने वाले को काफ...
Small-Girl-meet-Modi-Dada-in-Surat

मोदी दादा से मिली बच्ची

111 सप्ताह पहले
गुजरात दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां अपने सुरक्षा प्रोटोकॉल को तोड़ते हुए अपने काफिले को बीच रास्ते में रोका और चार साल की एक बच्ची से मिले। सर्किट हाउस से किरन अस्पताल तक के रास्ते में मोदी की एक झलक पाने के लिए रास्ते के दोनों तरफ हजारों लोग इंतजार कर रहे थे तभी नैन्सी गोंदलिया नाम की बच्ची प्रधानमंत्री की कार की ओर बढ़ी। छोटी बच्ची को कार की तरफ बढ़ता देखकर प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगे एसपीजी कमांडो ने उसे रोकने का प्रयास किया। लेकिन सभी को चौंकाते हुए मोदी ने तत्काल अपना काफिला रोका और कमांडो से बच्ची को उनकी तरफ आने देने को कहा। मोदी ने बच्ची से कुछ बातचीत की, जिसके बाद उसके पिता उसे ले गये। पूरा घटनाक्रम ...
d0019ea9-0e50-437b-a907-bc4a83ee8667

धीरज रखेंगे, ज्यादा जीएंगे

126 सप्ताह पहले
इंडोनेशिया के रहने वाले एम्बा गोथो ने हाल ही में अपना 146वां जन्म दिन मनाया। उनसे जब पूछा गया कि उनकी लंबी उम्र का राज क्या है, तो उन्होंने बताया 'बस धैर्य’। एम्बा ने चार शादियां की और उनसे उनके कई बच्चे हुए, लेकिन उनकी सभी बीवियां और बच्चे गुजर चुके हैं। इसलिए उन्होंने अपना जन्म दिन पोते-पोतियों के संग मनाया। बताया जाता है कि एम्बा का जन्म 31 दिसंबर 1870 को हुआ था और वर्तमान में वह दुनिया के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति हैं। स्थानीय प्रशासन ने उनके जन्म से संबंधित कागजात को सही बताया है, लेकिन गिनिज बुक में नाम दर्ज करवाने के लिए भेजे जाने से पहले उनके दावों की निष्पक्ष जांच की जानी है। उनसे पहले फ्रांस के जीन कामेंट को सबसे ...
85f623c3-f918-4ed3-8e3f-a4d7af555b9e

बीजिंग में पर्यावरण पुलिस

126 सप्ताह पहले
जो खुले में गोश्त आदि भूनने, खुले में कचरा आदि जलाने की गतिविधियों पर लगाम लगाएगा। बीजिंग में रात वायु प्रदूषण के लिए आरेंज अलर्ट हटा लिया गया। इसके तहत वाहन प्रतिबंध तथा कारखाना उत्पादन रोक दिया जाता है तथा निर्माण कार्य बंद करवा दिए जाते हैं। महानगर में प्रदूषण के चार स्तर हैं जिनमें सबसे चिंताजनक रेड अलर्ट है। इसके बाद क्रमश: आरेंज, येलो और ब्लू अलर्ट हैं। आरेंज अलर्ट तब लागू किया जाता है जब लगातार तीन दिन तक वायु गुणवत्ता सूचकांक 200 से अधिक रहने का पूर्वानुमान व्यक्त किया जाता है।
d72411d3-8ef4-4f4f-b418-933bd31ba4b7

ग्रीन होशियारपुर

126 सप्ताह पहले
। जिले में एनजीओ के स्तर पर तो पौधरोपण हो ही रहा है, लेकिन वन विभाग भी लोगों को पौधरोपण के लिए प्रेरित कर रहा है। इसके लिए बाकायदा वन विभाग की नर्सरी में लोगों को पौधे उपलब्ध करवाए जा रहे है। होशियारपुर डिविजन के फारेस्ट आफिसर एसएस सहोता ने बताया कि 2016-17 में 'ग्रीन इंडिया ‘ मिशन व 'पनकैंपा’ मिशन के तहत होशियारपुर डिविजन में कुल 4 लाख 71 हजार पौधे किए गए। प्रदेश सरकार की ओर से अभी कोई ऐसा प्रोजेक्ट शुरू नहीं किया गया है। 2016-17 का लक्ष्य पूरा कर लिया गया है और अब रोपित हुए इन पौधों की देखभाल का काम चल रहा है। पौधरोपण कर वन विभाग पर्यावरण सरंक्षण में तो काम कर ही रहा है। शहर के सभी पार्कों में डस्टबिन लगाए ...
af5a8845-eb97-4333-ab95-80e5cf7d69a9

सुधार तो हुआ पर दुनिया हमसे बहुत आगे

133 सप्ताह पहले
डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) और लैंसेट की रिपोर्ट के आधार पर प्रकाशित आंकड़ों के मुताबिक पूरे देश में हर साल करीब 45 हजार महिलाओं की मृत्यु प्रसव के दौरान हो जाती है। यह आंकड़ा निश्चित रूप से भयावह है। पूरे विश्व में प्रसव के दौरान होने वाली कुल मौतों का 15 प्रतिशत मौतें भारत में होती हैं। इसके बावजूद भारत उन चुनिंदा देशों में शामिल है जिन्होंने सहस्राब्दी विकास लक्ष्य (एमजीडी) प्राप्त कर लिया है। वर्ष 1990, 1995, 2000, 2005, 2010 और 2015 में भारत का मातृ मृत्यु अनुपात क्रमश: 556, 471,...
f4ba7d2b-a7e6-424c-a2b0-4a44a34ad989

पटरी पर स्वच्छता का पाठ

133 सप्ताह पहले
नई दिल्ली। स्वच्छ भारत अभियान के समर्थन में दिल्ली मेट्रो (डीएमआरसी) भी आगे आई। उसने स्वच्छता के लिए कदम बढ़ाते हुए 'स्वच्छ मेट्रो’  कैंपेन की शुरुआत की। लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से डीएमआरसी ने 2 से 7 अक्टूबर तक स्वच्छ मेट्रो कैंपेन चलाया। इस अभियान के तहत दिल्ली मेट्रो के कर्मचारियों को स्वच्छता को बढ़ावा देने की शपथ दिलाई गई। इसके अलावा दिल्ली मेट्रो स्लोगन लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें स्वच्छता पर केंद्रित हिंदी और अंग्रेजी में स्लोगन म...
490968af-fd50-4d39-89b8-b08f541ed0a2

ग्रामीण भारत ने दिखाया रास्ता

133 सप्ताह पहले
मध्य प्रदेश के रतनपुर गांव की महिलाओं को सवेरे जगने की आदत थी। यह आदत मजबूरी की थी ताकि किसी के जगने से पहले वे खेतों में जाकर शौच क्रिया से निवृत हो सकें। एक दिन अचानक गांव की कुछ महिलाओं को आत्मबोध हुआ और उनमें से 10 महिलाओं के बीच घर के पास ही शौचालय बनाने पर आपसी सहमति बनी। उनलोगों ने गड्ढे खोदे और सभी को पुराने बेडशिट एवं साडि़य़ों से चारों ओर से घेर दिया ताकि निजता बनी रहे। उनकी मेहनत रंग लाई। स्थानीय प्रशासकों की नज़र उन पर पड़ी जिन्होंने शौच मुक्त समिति गठित करने के लिए प्रोत्साहित किया था। एक स्थानीय गैर सरकारी संगठन युवा फोरम के साथ मिलकर समिति ने खुले में शौच जाने के खिलाफ अभियान चलाया।...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो