sulabh swatchh bharat

बुधवार, 15 अगस्त 2018

twenty-million-people-watched-hawking-phd

हॉकिंग की पीएचडी को 20 लाख लोगों ने देखा

40 सप्ताह पहले
ब्रिटिश भौतिक शास्त्री और ब्रह्मांड विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग के पीएचडी शोधपत्र को सार्वजनिक किए जाने के कुछ ही दिनों में दुनिया भर में 20 लाख से ज्यादा लोगों ने देखा है। हॉकिंग का 1966 में किया गया यह शोध कार्य इतना लोकप्रिय हुआ कि इसे जारी करते ही कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की वेबसाइट का प्रकाशन अनुभाग ठप हो गया। करीब पांच लाख से ज्यादा लोगों ने 'ब्रह्मांड के विस्तार के लक्षण' शीर्षक वाले पृष्ठ को डाउनलोड करने का प्रयास किया।  विश्वविद्यालय के आर्थर स्मिथ ने इन आंकड़ो को 'अद्वितीय' बताया है। संचार विभाग के उप प्रमुख स्मिथ ने बताया, ‘स्मिथ का शोधपत्र अपोलो रिपॉजिटरी विश्वविद्यालय की अब तक की सबसे अधिक द...
the-solar-system-is-in-planet-nine

सौर मंडल में है प्लैनेट नाइन

41 सप्ताह पहले
नासा के वैज्ञानिकों ने कहा है कि प्लैनेट नाइन की अवधारणा वास्तविक है और संभव है कि वह पृथ्वी के द्रव्यमान से 19 गुना ज्यादा और वरुण (नेपट्यून) की तुलना में सूर्य से 20  गुना ज्यादा दूर हो। प्लैनेट नाइन या सौर मंडल का नौवां ग्रह सुपर अर्थ ग्रह हो सकता है, जिसके बारे में वैज्ञानिक बातें करते रहे हैं और जिसका द्रव्यमान पृथ्वी से ज्यादा है, लेकिन यूरेनस और नेपट्यून से काफी कम है। अमेरिका के कैलिफॉर्निया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी में प्लैनेटरी ऐस्ट्रोफिजिसिस्ट कंस्तनचीन बैटीगिन ने कहा कि  प्लैनेट नाइन के अस्तित्व का संकेत देने वाले अब 5 अलग-अलग व्याख्यात्मक प्रमाण हैं। उन्होंने कहा कि अगर आप इस व्याख्या को हटाते हैं औ...
cave-on-the-moon

चांद पर मिली गुफा

41 सप्ताह पहले
जापान के वैज्ञानिकों को चांद पर एक बहुत बड़ी गुफा का पता चला है। वैज्ञानिकों ने बताया कि इस गुफा में चंद्रमा पर जाने वाले एस्ट्रोनॉट रह सकते हैं। इससे वे खतरनाक विकिरण और तापमान में बदलाव से बच सकते हैं। जापान के एईएईएनई लूनर ऑर्बिटर से मिले आंकड़ो के अनुसार चांद पर मौजूद यह गुफा 3.5 अरब साल पहले भूगर्भ के अंदर हुई हलचल की वजह से बनी होगी। इस गुफा की लंबाई 50 किलोमीटर और चौड़ाई 100 मीटर है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह गुफा भूगर्भ से निकले लावे की वजह से तैयार हुई होगी। जापानी वैज्ञानिकों ने ये आंकड़े और नतीजे अमेरिकी पत्रिका जियोफिजिकल रिसर्च लेटर्स में प्रकाशित कराए हैं। जापानी वैज्ञानिक जुनिची हारुयामा ने कहा,...
antibiotic-resistant-bacteria-is-now-recognized-in-thirty-minutes

एंटीबायोटिक प्रतिरोधक बैक्टीरिया की पहचान अब 30 मिनट में

42 सप्ताह पहले
वैज्ञानिकों ने मूत्रमार्ग में संक्रमण को खत्म करने के लिए दी जाने वाली एंटीबायोटिक दवा को बेअसर करने वाले बैक्टीरिया का पता महज 30 मिनट से भी कम समय में लगाने का एक तरीका खोज निकाला है। इस जांच के लिए मरीजों को सिर्फ एक बार क्लीनिक जाने की जरूरत होगी और उन्हें उसी दौरान निदान और प्रभावी उपचार दिया जा सकेगा। कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में विकसित नए टेस्ट में एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बैक्टीरिया की पहचान की गई है, जो 3 दिनों के समय के इंतजार को 30 मिनट से भी कम समय में परिवर्तित कर सकता है और इससे सुपरबग बैक्टीरिया के प्रसार को भी कम करने में मदद मिल सकती है। शोधपत्र के सहलेखक नाथन शूप ने कहा, ‘अभी हम निर्धारित से अध...
nasa-mangal-odyssey-took-photos-of-phobos

नासा के मंगल ओडिसी ने फोबोस की तस्वीर ली

43 सप्ताह पहले
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अंतरिक्ष यान मार्स ओडिसी ने 16 सालों तक मंगल ग्रह का चक्कर लगाने के बाद पहली बार मंगल के चंद्रमा फोबोस की तस्वीरें कैमरे में कैद की है। 2001 में लॉन्च किए गए मार्स ओडिसी के द थर्मल एमिशन इमेजिंग सिस्टम (टीएचईएमआईएस) नामक कैमरे ने 29 सिंतबर को फोबोस की तस्वीरें लीं।  फोबोस अंडाकार आकृति का है और इसका औसत व्यास करीब 22 किलोमीटर है।  अन्य मंगल यान ने इससे पहले फोबोस की हाई-रिजोल्यूशन वाली तस्वीरें ली थीं, लेकिन वैज्ञानिकों को इंफ्रारेड संबंधी कोई जानकारी नहीं मिली। नासा ने एक बयान में कहा है कि थर्मल-इंफ्रारेड तरंगों के कई बैंडों ने सतह की खनिज संरचना और बनावट क...
richard-thayer-of-america-nobel-of-economics

अमेरिका के रिचर्ड थालेर को अर्थशास्त्र का नोबेल

43 सप्ताह पहले
स्वीडिश एकेडमी ने अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार देने के लिए अमेरिका के रिचर्ड थालेर के नाम का एलान करते हुए कहा, ‘कुल मिलाकर रिचर्ड थालेर ने अर्थशास्त्र और फैसले लेने के व्यक्तिगत मानसिक विश्लेषण के बीच पुल तैयार किया है।’ नोबेल पुरस्कार के तहत उन्हें 90 लाख स्वीडिश क्रोनर दिए जाएंगे। थालेर ने पुरस्कार जीतने पर खुशी का इजहार किया है। जब उनसे पूछा गया कि वह 90 लाख क्रोनर की धनराशि को कैसे खर्च करेंगे तो उन्होंने कहा, ‘उनके शोध का एक क्षेत्र मेंटल अकाउंटिंग भी है। इसीलिए मैं शिकागो के एक बढ़िया अर्थशास्त्री के रूप में आपके सवाल का जबाव नहीं दे पाऊंगा।’ उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा, ‘मेरी कोशि...
14-years-professor-in-england

इंग्लैंड में 14 साल का प्रोफेसर

44 सप्ताह पहले
मात्र 14 साल की उम्र में बच्चों को गलियों या ग्राउंड में खेलते देखना आम बात है, लेकिन किसी 14 साल के बच्चे को यूनिवर्सिटी जाते देखना और वहां जाकर अपने से बड़े बच्चों की क्लास लेना कुछ खास होने की कहानी बयां करता है। जी हां, वाकया इंग्लैंड की लीसेस्टर यूनिवर्सिटी का है जहां ईरानी मूल का 14 साल का मुस्लिम किशोर यूनिवर्सिटी में गणित का प्रोफेसर बन बच्चों की क्लास ले रहा है। इस मुस्लिम किशोर का नाम है याशा एस्ले, जो लीसेस्टर यूनिवर्सिटी में बतौर अतिथि शिक्षक के रूप में चयनित हुआ है। इतना ही नहीं, वह इस यूनिवर्सिटी में छात्रों को पढ़ाने के साथ यहां से अपनी डिग्री भी ले रहा है। यूनिवर्सिटी ने उसकी इस काबिलियत को देखते हुए उसे सबसे कम ...
map-of-23-countries-made-a-map

23 देशों की आबादी का नक्शा बनाया

46 सप्ताह पहले
दुनिया के हर कोने में इंटरनेट का विस्तार करने के लिए फेसबुक ने कहा है कि उसने सरकार के जनसंख्या के आंकड़ो के संयोजन के साथ उपग्रहों से मिली जानकारी को जुटाकर 23 देशों की मानव आबादी का एक डाटा नक्शा तैयार किया है। फेसबुक के रणनीतिक नवाचार साझेदारी और सोर्सिंग के प्रमुख जेना लेविस ने कहा कि मैपिंग तकनीक पृथ्वी के किसी भी देश के पांच मीटर के दायरे के किसी भी मानव निर्मित संरचनाओं का पता लगा सकती है।  फेसबुक इस डाटा का इस्तेमाल मानव आबादी को समझने के लिए करेगी जो यह निधार्रित करने में मदद करेगा कि इंटरनेट सेवा किस तरीके की हो--जमीन पर आधारित हो, या हवा में या फिर अंतरिक्ष में-इसके इस्तेमाल से उन ग्राहकों तक पहुंच बनाई जा स...
wild-tiger-will-show-in-kazakhstan-after-70-years

कजाकिस्तान में 70 साल बाद दिखेंगे जंगली बाघ

46 सप्ताह पहले
कजाकिस्तान में करीब 70 साल बाद जंगली बाघ फिर नजर आएंगे। कुछ समय पहले ये विलुप्त हो गए थे। 'द गार्जियन' की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व वन्यजीव कोष (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) की ओर से मिले समर्थन के तहत काम करने वाली परियोजना के अनुसार, इली-बलखश क्षेत्र में इन जंगली बाघों को फिर देखा जाएगा।  इस परियोजना में एक नए प्राकृतिक रिजर्व क्षेत्र विकसित करने और वन को पूर्वावस्था में लाने की योजना भी शामिल है। यह वनक्षेत्र पशुओं का ऐतिहासिक पनाहगाह रहा है। अगर यह परियोजना सफल रही, तो कजाकिस्तान वनक्षेत्र मं  जंगली बाघों को वापस लाने में सफलता हासिल करने वाला ऐसा पहला देश बन जाएगा।  शिकार और आवासीय क्षेत्र प्रभावित ...
big-black-hole-found-in-galaxy

आकाशगंगा में मिला बड़ा ब्लैक होल

47 सप्ताह पहले
आकाशगंगा के केंद्र के पास एक बड़ा सा ब्लैक होल पाया गया है। हमारे सूर्य से लगभग एक लाख गुना बड़ा यह ब्लैक होल एक जहरीली गैस के बादल से घिरा हुआ पाया गया है। यदि इसकी पुष्टि हो जाती है तो यह आकाशगंगा में पाया जाने वाला दूसरा सबसे बड़ा ब्लैक होल होगा। इससे बड़ा ब्लैकहोल सैगीटेरियस ए है, जो कि तारामंडल के बिल्कुल केंद्र में स्थित है। जापान की कीओ यूनिवर्सिटी के अंतरिक्षयात्री चिली में अल्मा टेलीस्कोप का इस्तेमाल करके गैसों के एक बादल का अध्ययन कर रहे थे और उसकी गैसों की गति को समझने का प्रयास कर रहे थे। उन्होंने पाया कि दीर्घवृत्ताकार बादल के अणु बेहद तीव्र गुरूत्वीय बलों द्वारा खींचे जा रहे थे। यह बादल आकाशगंगा के केंद्र से...
antarctica-hot-caves-hope-for-new-living-world

अंटार्कटिका की गर्म गुफाओं में नए जीव जगत की उम्मीद

47 सप्ताह पहले
वैज्ञानिकों का मनना है कि अंटार्कटिका ग्लेशियरों के भीतर गर्म गुफाओं में जीव जन्तुओं और वनस्पतिओं की रहस्मयी दुनिया हो सकती है। ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी (एएनयू) की ओर से किए गए अध्ययन में पाया गया कि अंटार्कटिका के रोस द्वीप में सक्रिय ज्वालामुखी माउंट इरेबस के इर्द गिर्द के क्षेत्र में झरनों के बहाव ने बड़ी गुफा का जाल बना दिया है। शोधकर्ताओं ने कहा कि इन गुफाओं से मिले मृदा के नमूनों के अध्ययन से इसमें शैवाल, मॉस और छोटे जन्तुओं के अंश पाए गए। एएनयू फेनर स्कूल ऑफ इंन्वॉयरमेंट एंड सोसाइटी के सी फ्रासर ने कहा, ‘गुफाएं अंदर बेहद गर्म हो सकती हैं। कुछ गुफाओं में तापमान 25 डिग्री सेल्सियस तक भी हो सकता है। आप वहां टी शर्...
saturn-ring-will-also-be-near-mars

मंगल ग्रह के पास भी होगी शनि जैसी रिंग

49 सप्ताह पहले
मंगल ग्रह का सबसे बड़ा उपग्रह फोबोस धीरे-धीरे ग्रह की ओर बढ़ रहा है और 10 से 20 लाख वर्षो में यह ग्रह के काफी करीब पहुंच जाएगा। ग्रह के करीब पहुंचने पर यह शनि, बृहस्पति, यूरेनस और नेप्च्यून की तरह मंगल के चारों तरफ एक छल्ले का रूप अख्तियार कर लेगा। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के भारतीय मूल के वैज्ञानिक तुषार मित्तल और बेंजामिन ब्लैक के अनुसार इस अध्ययन का मकसद यह जानना था कि कोई चंद्रमा जब अपने ग्रह के करीब जाता है तो क्या होता है। ब्लैक ने बताया कि पृथ्वी का उपग्रह (चंद्रमा) हर साल कुछ सेंटीमीटर पृथ्वी से दूर जा रहा है, वहीं फोबोस हर साल मंगल की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में संभावना है कि या तो फोबोस मंगल से टकरा जाने या टूटकर बिख...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो