sulabh swatchh bharat

मंगलवार, 12 दिसंबर 2017

london-buses-will-now-run-from-coffee

अब कॉफी से चलेंगी लंदन की बसें

एक सप्ताह पहले
कॉफी से निकाले गए कचरे के तेल का इस्तेमाल कर लंदन की बसों को ऊर्जा दी जाने लगी है। परिवहन अधिकारियों ने यह जानकारी दी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कॉफी के कचरे से निकाले गए तेल को डीजल में मिलाकर जैव ईंधन तैयार किया गया है और इसका इस्तेमाल सार्वजनिक परिवहन के लिए ईंधन के रूप में किया जा रहा है। ऐसा अभी प्रयोग के तौर पर किया गया है। प्रयोग सफल रहा तो इस जैव ईंधन का इस्तेमाल धड़ल्ले से होने लगेगा। लंदन स्थित टेक्नॉलजी फर्म बायो-बीन लिमिटेड ने कहा है कि एक साल में एक बस को ऊर्जा प्रदान करने के लिए पर्याप्त कॉफी का उत्पादन किया गया है। ट्रांसपोर्ट फॉर लंदन (टीएफएल) परिवहन के दौरान धुआं उत्सर्जन को कम करने के लिए तेजी से जैव ई...
cat-statue-to-be-seen-in-france

फ्रांस में लगेगी बिल्ली की प्रतिमा

एक सप्ताह पहले
अंतरिक्ष में यात्रा करने वाली इस बिल्‍ली की यादों को सहेजने के लिए एक फंड अभियान चलाया गया। 18 अक्‍टूबर 1963 को फैलिकेट को एक रॉकेट में बैठाकर अंतरिक्ष में भेजा गया था। यह रॉकेट पृथ्‍वी से 157 किलोमीटर की ऊंचाई तक गया था। यहां बिल्‍ली को भारहीनता का अनुभव कराया गया। 15 मिनट बाद उसे सुरक्षित तरीके से स्‍पेस कैप्‍सूल की मदद से वापस धरती पर लाया गया। नीचे आने पर वह सही सलामत थी। इसके बाद उसी दशक में क्रमवार रूप से बंदर, चिंपाजी, कुत्‍ता आदि जानवरों को भी स्‍पेस में भेजा गया। फंड जुटाने वाली वेबसाइट के क्रिएटिव डायरेक्‍टर मैथ्‍यू सर्ज ने बताया कि छह महीने पहले हमें इस बिल्‍ली...
indian-companies-give-one-lakh-thirteen-thousand-jobs-in-the-us

भारतीय कंपनियों ने अमेरिका में 1.13 लाख नौकरियां दीं

3 सप्ताह पहले
भारतीय कंपनियों ने अमेरिका में 1,13,000 रोजगार के अवसरों का सृजन किया है और वहां करीब 18 अरब डॉलर का निवेश किया है। भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। ‘इंडियन रुट्स, अमेरिकन सॉयल शीर्षक’ वाली यह रिपोर्ट सीआईआई ने जारी की है। इसमें बताया गया कि भारतीय कंपनियों ने अमेरिका में कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व में 14.7 करोड़ डॉलर का योगदान दिया।  इसके अलावा भारतीय कंपनियों ने यहां शोध एवं विकास गतिविधियों पर 58.8 करोड डॉलर खर्च किए। इस वार्षिक रिपोर्ट में अमेरिका तथा प्यूर्टोरिको में कारोबार कर रही 100 भारतीय कंपनियों के निवेश और रोजगार सृजन का ब्योरा दिया गया है। करीब 50 राज्यों में...
women-issues-in-dhaka-lit-fest

ढाका लिट फेस्ट में महिलाओं के मुद्दे

3 सप्ताह पहले
इस महीने के आखिर में बांग्लादेश की राजधानी ढाका में आयोजित होने वाले साहित्य समागम 'ढाका लिट फेस्ट' में इस बार अभिव्यक्ति की आजादी और महिला-केंद्रित मुद्दे छाए रह सकते हैं। दरअसल, ये दोनों मुद्दे इस साल इस साहित्यिक कार्यक्रम की थीम हैं।  ढाका से महोत्सव के निदेशक के अनीस अहमद की ओर से मिले ईमेल में उन्होंने बताया कि अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर इस साल हमारा ध्यान फर्जी खबरों के घटनाक्रमों और साहित्यक चिंतन व आस्वादन पर सोशल मीडिया के असर पर होगा। हमारा महिला अमला इस बार लड़ाकू जेट विमान उड़ाने से लेकर विविध क्षेत्रों में नए कीर्तिमान स्थापित करने वाली महिलाओं पर केंद्रित 'हरस्टोरी' को इस साहित्य समागम...
tricolor-hoisted-in-brussels

ब्रसेल्स में फहराया तिरंगा

5 सप्ताह पहले
ब्रसेल्स में भारतीय समुदाय के संगठन 'आर्ट लाउंज 9' ने एटोनियम पर दिवाली समारोह का आयोजन किया। एटोनियम बेल्जियम की राजधानी और दुनिया के प्रतिष्ठित स्मारकों में से एक है। ब्रसेल्स शहर के प्रतिष्ठित स्मारक के ऊपर भारतीय तिरंगा फहराया गया। बेल्जियम, लक्जमबर्ग और यूरोपीय संघ के भारत के राजदूत गैत्री ईसर कुमार ने कहा कि भारत ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी में तेजी से प्रगति की है और परमाणु युग की उन्नति के स्मारक के ऊपर भारतीय ध्वज को फहराना भारत की उपलब्धियों का प्रतीक है। बेल्जियम के राजा और रानी भारत का दौरा करने वाले हैं। इस वर्ष भारत और बेल्जियम के बीच राजनयिक संबंधों के 70 साल भी पूरे हो रहे हैं।
twenty-million-people-watched-hawking-phd

हॉकिंग की पीएचडी को 20 लाख लोगों ने देखा

5 सप्ताह पहले
ब्रिटिश भौतिक शास्त्री और ब्रह्मांड विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग के पीएचडी शोधपत्र को सार्वजनिक किए जाने के कुछ ही दिनों में दुनिया भर में 20 लाख से ज्यादा लोगों ने देखा है। हॉकिंग का 1966 में किया गया यह शोध कार्य इतना लोकप्रिय हुआ कि इसे जारी करते ही कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की वेबसाइट का प्रकाशन अनुभाग ठप हो गया। करीब पांच लाख से ज्यादा लोगों ने 'ब्रह्मांड के विस्तार के लक्षण' शीर्षक वाले पृष्ठ को डाउनलोड करने का प्रयास किया।  विश्वविद्यालय के आर्थर स्मिथ ने इन आंकड़ो को 'अद्वितीय' बताया है। संचार विभाग के उप प्रमुख स्मिथ ने बताया, ‘स्मिथ का शोधपत्र अपोलो रिपॉजिटरी विश्वविद्यालय की अब तक की सबसे अधिक द...
the-solar-system-is-in-planet-nine

सौर मंडल में है प्लैनेट नाइन

6 सप्ताह पहले
नासा के वैज्ञानिकों ने कहा है कि प्लैनेट नाइन की अवधारणा वास्तविक है और संभव है कि वह पृथ्वी के द्रव्यमान से 19 गुना ज्यादा और वरुण (नेपट्यून) की तुलना में सूर्य से 20  गुना ज्यादा दूर हो। प्लैनेट नाइन या सौर मंडल का नौवां ग्रह सुपर अर्थ ग्रह हो सकता है, जिसके बारे में वैज्ञानिक बातें करते रहे हैं और जिसका द्रव्यमान पृथ्वी से ज्यादा है, लेकिन यूरेनस और नेपट्यून से काफी कम है। अमेरिका के कैलिफॉर्निया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी में प्लैनेटरी ऐस्ट्रोफिजिसिस्ट कंस्तनचीन बैटीगिन ने कहा कि  प्लैनेट नाइन के अस्तित्व का संकेत देने वाले अब 5 अलग-अलग व्याख्यात्मक प्रमाण हैं। उन्होंने कहा कि अगर आप इस व्याख्या को हटाते हैं औ...
cave-on-the-moon

चांद पर मिली गुफा

6 सप्ताह पहले
जापान के वैज्ञानिकों को चांद पर एक बहुत बड़ी गुफा का पता चला है। वैज्ञानिकों ने बताया कि इस गुफा में चंद्रमा पर जाने वाले एस्ट्रोनॉट रह सकते हैं। इससे वे खतरनाक विकिरण और तापमान में बदलाव से बच सकते हैं। जापान के एईएईएनई लूनर ऑर्बिटर से मिले आंकड़ो के अनुसार चांद पर मौजूद यह गुफा 3.5 अरब साल पहले भूगर्भ के अंदर हुई हलचल की वजह से बनी होगी। इस गुफा की लंबाई 50 किलोमीटर और चौड़ाई 100 मीटर है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह गुफा भूगर्भ से निकले लावे की वजह से तैयार हुई होगी। जापानी वैज्ञानिकों ने ये आंकड़े और नतीजे अमेरिकी पत्रिका जियोफिजिकल रिसर्च लेटर्स में प्रकाशित कराए हैं। जापानी वैज्ञानिक जुनिची हारुयामा ने कहा,...
antibiotic-resistant-bacteria-is-now-recognized-in-thirty-minutes

एंटीबायोटिक प्रतिरोधक बैक्टीरिया की पहचान अब 30 मिनट में

7 सप्ताह पहले
वैज्ञानिकों ने मूत्रमार्ग में संक्रमण को खत्म करने के लिए दी जाने वाली एंटीबायोटिक दवा को बेअसर करने वाले बैक्टीरिया का पता महज 30 मिनट से भी कम समय में लगाने का एक तरीका खोज निकाला है। इस जांच के लिए मरीजों को सिर्फ एक बार क्लीनिक जाने की जरूरत होगी और उन्हें उसी दौरान निदान और प्रभावी उपचार दिया जा सकेगा। कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में विकसित नए टेस्ट में एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बैक्टीरिया की पहचान की गई है, जो 3 दिनों के समय के इंतजार को 30 मिनट से भी कम समय में परिवर्तित कर सकता है और इससे सुपरबग बैक्टीरिया के प्रसार को भी कम करने में मदद मिल सकती है। शोधपत्र के सहलेखक नाथन शूप ने कहा, ‘अभी हम निर्धारित से अध...
nasa-mangal-odyssey-took-photos-of-phobos

नासा के मंगल ओडिसी ने फोबोस की तस्वीर ली

8 सप्ताह पहले
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अंतरिक्ष यान मार्स ओडिसी ने 16 सालों तक मंगल ग्रह का चक्कर लगाने के बाद पहली बार मंगल के चंद्रमा फोबोस की तस्वीरें कैमरे में कैद की है। 2001 में लॉन्च किए गए मार्स ओडिसी के द थर्मल एमिशन इमेजिंग सिस्टम (टीएचईएमआईएस) नामक कैमरे ने 29 सिंतबर को फोबोस की तस्वीरें लीं।  फोबोस अंडाकार आकृति का है और इसका औसत व्यास करीब 22 किलोमीटर है।  अन्य मंगल यान ने इससे पहले फोबोस की हाई-रिजोल्यूशन वाली तस्वीरें ली थीं, लेकिन वैज्ञानिकों को इंफ्रारेड संबंधी कोई जानकारी नहीं मिली। नासा ने एक बयान में कहा है कि थर्मल-इंफ्रारेड तरंगों के कई बैंडों ने सतह की खनिज संरचना और बनावट क...
richard-thayer-of-america-nobel-of-economics

अमेरिका के रिचर्ड थालेर को अर्थशास्त्र का नोबेल

8 सप्ताह पहले
स्वीडिश एकेडमी ने अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार देने के लिए अमेरिका के रिचर्ड थालेर के नाम का एलान करते हुए कहा, ‘कुल मिलाकर रिचर्ड थालेर ने अर्थशास्त्र और फैसले लेने के व्यक्तिगत मानसिक विश्लेषण के बीच पुल तैयार किया है।’ नोबेल पुरस्कार के तहत उन्हें 90 लाख स्वीडिश क्रोनर दिए जाएंगे। थालेर ने पुरस्कार जीतने पर खुशी का इजहार किया है। जब उनसे पूछा गया कि वह 90 लाख क्रोनर की धनराशि को कैसे खर्च करेंगे तो उन्होंने कहा, ‘उनके शोध का एक क्षेत्र मेंटल अकाउंटिंग भी है। इसीलिए मैं शिकागो के एक बढ़िया अर्थशास्त्री के रूप में आपके सवाल का जबाव नहीं दे पाऊंगा।’ उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा, ‘मेरी कोशि...
14-years-professor-in-england

इंग्लैंड में 14 साल का प्रोफेसर

9 सप्ताह पहले
मात्र 14 साल की उम्र में बच्चों को गलियों या ग्राउंड में खेलते देखना आम बात है, लेकिन किसी 14 साल के बच्चे को यूनिवर्सिटी जाते देखना और वहां जाकर अपने से बड़े बच्चों की क्लास लेना कुछ खास होने की कहानी बयां करता है। जी हां, वाकया इंग्लैंड की लीसेस्टर यूनिवर्सिटी का है जहां ईरानी मूल का 14 साल का मुस्लिम किशोर यूनिवर्सिटी में गणित का प्रोफेसर बन बच्चों की क्लास ले रहा है। इस मुस्लिम किशोर का नाम है याशा एस्ले, जो लीसेस्टर यूनिवर्सिटी में बतौर अतिथि शिक्षक के रूप में चयनित हुआ है। इतना ही नहीं, वह इस यूनिवर्सिटी में छात्रों को पढ़ाने के साथ यहां से अपनी डिग्री भी ले रहा है। यूनिवर्सिटी ने उसकी इस काबिलियत को देखते हुए उसे सबसे कम ...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो