sulabh swatchh bharat

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

bollywoods-greta-garbo

सुचित्रा सेन - बॉलीवुड की ग्रेटा गार्बो

24 सप्ताह पहले
अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री सुचित्रा सेन को याद करते हुए जीते-जी लीजेंड बन गए देवानंद की फिल्म ‘गाइड’ का एक डायलॉग याद आता है। इस फिल्म में देवानंद अपने अंदाज में कहते हैं, ‘ये जिंदगी भी एक नशा है दोस्त, जब चढ़ता है तो पूछो न क्या आलम होता है।’ उनका यह डायलॉग सिल्वर स्क्रीन की जिंदगी पर भी बिल्कुल फिट बैठता है। यहां जब एक्टर-एक्ट्रेस की शोहरत का खुमार चढ़ता है तो सातवें आसमान पर होता है, लेकिन जब उतरता है तो उन्हें लोगों की निगाहों से इतनी दूर ले जाता है कि वो खुद को भी पहचानने से इनकार कर देते हैं। कुछ साल पहले जब अपने जमाने की मशहूर एक्ट्रेस सुचित्रा सेन के अस्पताल में भर्ती होने की खबर आई तो ए...
kitaab-in-bangkok-film-fest

बैंकाक फिल्म फेस्ट में ‘किताब’

25 सप्ताह पहले
कमलेश मिश्र निर्देशित टॉम ऑल्टर की आखिरी फिल्म किताब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगातार सराही जा रही है। हाल ही में यह फिल्म बैंकाक के 9 फिल्म फेस्ट में दिखाई गई। इस अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह के छठे संस्करण में दुनिया भर की 9 फाइनलिस्ट फिल्मों में किताब भी शामिल थी। इस फिल्म को कॉम्पटिशन कैटेगॉरी में ‘द बेस्ट शॉर्ट फिल्म’ (इन साउंड डिजाइन) का अवॉर्ड मिला। इसके अलावा किताब - ‘द बेस्ट शॉर्ट फिल्म’ (व्यूअर्स च्वाइस) रही। इस समरोह में किताब इकलौती फिल्म रही जिसकी स्क्रीनिंग दर्शकों की मांग पर दो बार हुई। फिल्म की पहली स्क्रीनिंग 30 मई 2018 को तय थी पर दर्शकों की मांग पर इसे समापन समारोह पर क्लोजिंग फिल्म के तौर पर...
do-not-insist-on-going-today

आज जाने की जिद न करो...

26 सप्ताह पहले
संगीत की दुनिया की यह खासियत है कि कई बार कोई आवाज अपने दौर से इतनी आगे निकल जाती है कि वह न सिर्फ अपने गानेवाले को अमर बना देती है, बल्कि कामयाबी और शोहरत की बड़ी मिसाल भी बन जाती है। जब 70 के दशक में फरीदा खानम ने, ‘आज जाने की जिद न करो’, को पहली बार गाया, तो पूरे भारतीय उपमहाद्वीप के संगीत प्रेमी मंत्रमुग्ध रह गए। वैसे यह भी एक हैरत की बात है कि फरीदा खानम का नाम तो सबकी जुबान पर चढ़ गया, लेकिन इसके रचयिता फैयाज हाशमी को लगभग भुला दिया गया। हाशमी वही शख्स थे, जिन्होंने पंकज मलिक की गाई मशहूर गजल, ‘ये मौसम, ये हंसना हंसाना’ लिखी थी। उनके ही लिखे गीत 'तस्वीर तेरी दिल मेरा बहला न सकेगी', ने तलत मह...
dutta-sahib-of-the-principles

उसूलों के पक्के दत्त साहब

27 सप्ताह पहले
सुनील दत्त को पहचान भले ही एक अभिनेता के तौर पर मिली हो, लेकिन उन्हें सिर्फ एक अभिनेता के तौर पर देखना, उनकी शख्सियत के इस दूसरे सबसे बड़े आयाम को नजरअंदाज करना होगा। अब के पाकिस्तान स्थित पंजाब के झेलम जिले के खुर्द गांव में 6 जून 1929 को सुनील दत्त का जन्म हुआ था। वो वहां के एक जमींदार परिवार से थे। लेकिन बंटवारे के बाद अपनी जमीन-जायदाद छोड़ भारत आना पड़ा था। पिता का साया तो बचपन में ही उठ गया था। हिंदुस्तान की सरजमीं पर एक रिफ्यूजी की पहचान के साथ मुफलिसी में उनके जीवन का संघर्ष शुरू हुआ। पाकिस्तान से आकर उन्होंने हरियाणा के यमुनानगर के मंडोली गांव में शरण ली थी। इसके बाद उनका परिवार लखनऊ गया और सुनील दत्त लखनऊ से बंबई चले गए...
durga-khote-the-way-to-the-room

दुर्गा खोटे ने खोली राह

28 सप्ताह पहले
सिनेमा न जाने कितने ही कलाकारों, निर्देशकों, लेखकों की कहानियां अपने अंदर समेटे हुए है। कई कहानियां अनकही और अनसुनी होती हैं। ऐसी ही एक कहानी है, अभिनेत्री दुर्गा खोटे की, जिन्होंने उस दौर में फिल्मों में काम करना शुरू किया जब प्रतिष्ठित परिवार की औरतें फिल्मों में काम नहीं करती थीं। दरअसल, भारतीय सिनेमा जगत में दुर्गा खोटे को एक ऐसी अभिनेत्री के रूप में याद किया जाता है, जिन्होंने महिलाओं और युवतियों को फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का मार्ग प्रशस्त किया। दुर्गा खोटे जिस समय फिल्मों में आईं, उन दिनों फिल्मों में काम करने से पहले पुरुष ही स्त्री पात्र का भी अभिनय किया करते थे। दुर्गा खोटे ने फिल्मों में काम करने का फैसला किया और ...
whom-lata-believed-was-her-model

जिन्हें लता ने माना अपना मॉडल

29 सप्ताह पहले
लाहौर से लगभग 45 किलोमीटर दूर एक जगह है कसूर। यहां 21 सितंबर, 1926 को बेहद गरीब परिवार में जन्मीं अल्लाह वसाई अपनी दो बहनों, ईदन बाई और हैदरी बांदी में सबसे छोटी थीं। मशहूर सूफी दार्शनिक बुल्ले शाह की मजार इसी शहर में है। शहर की आबोहवा कुछ ऐसी है या बुल्ले शाह की रुमानियत अब भी इसकी फिजाओं में घुली हुई है कि यहां से एक से एक बड़े फनकार निकले और हिंदुस्तान में मशहूर हुए। यहां ब्रिटिश हिंदुस्तान की बात हो रही है। हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के जाने-माने नाम और संगीत के पटियाले घराने से ताल्लुक रखने वाले उस्ताद बड़े गुलाम अली खान साहब और उनके भाई उस्ताद बरकत अली खान साहब यहीं से हैं। और तो और पाकिस्तान के मशहूर जर्नलिस्ट इरशाद अहमद ह...
mahatma-in-cinema

सिनेमा में महात्मा

45 सप्ताह पहले
फिल्म गांधी देखी है आपने? उसमें महात्मा गांधी की अंतिम यात्रा के सीन में तीन लाख लोग शामिल हुए हैं। फिल्म बनाने वालों ने 40,000 एक्स्ट्रा कलाकारों के लिए अखबारों में विज्ञापन दिया। जगह जगह पर्चे बांटे गए और 31 जनवरी 1982 के दिन शूटिंग के लिए पहुंचे तीन लाख से ज्यादा लोग। उनमें से सिर्फ 94,560 कलाकारों को ही पैसा दिया गया। बाकी अपनी खुशी से शामिल हुए और यह तब था जबकि उन्हीं लोगों को शूटिंग में शामिल किया गया जो सफेद कपड़ों में आए। यह सिनेमा का आकर्षण था या बापू के लिए भारत की दीवानगी, समझना दिलचस्प है। गांधी जी जनमानस के नेता थे। जनसंचार की पढ़ाई में पढ़ाया जाता है कि महात्मा गांधी से बड़ा कोई ‘मास कम्युनिकेटर’ यानी आ...
now-you-hand-over-your-colleagues

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

46 सप्ताह पहले
1964 में रिलीज हुई फिल्म ‘हकीकत’। यह देशभक्ति की भावना से भरी एक महान फिल्म तो थी ही, यह भारतीय फिल्म‍ इतिहास की पहली युद्ध विषय फिल्म भी थी। इस फिल्म ने रिलीज होने के बाद भारतीय सिनेमा की तस्वी‍र बदल गई। अलबत्ता फिल्म  निर्माता चेतन आनंद के लिए इस फिल्म को बनाने का सफर आसान नहीं रहा। चेतन आनंद देशभक्ति के साथ एक युद्ध विषय फिल्म बनाना चाहते थे। उस समय हिंदी सिनेमा में चॉकलेटी प्रेम कहानियों को बोलबाला था। किसी नए साहस के लिए संसाधन जुटाना आसान कार्य नहीं था। भारत-चीन युद्ध पर आधारित फिल्म ‘हकीकत’ के बारे में एन रघुरमन की प्रेरणादायक किताब ‘क्योंकि जीना इसी का नाम है’ में एक ...
hari-kaka-became-sanjeev

हरि काका बन गए संजीव

48 सप्ताह पहले
दिलीप कुमार हुए प्रभावित  1968 में रिलीज हुई 'राजा और रंक' की सफलता ने संजीव कुमार के पैर हिंदी फिल्मों में मजबूती से जमा दिए। संघर्ष (1968) में वे दिलीप कुमार के साथ छोटे-से रोल में नजर आए। छोटी सी भूमिका में उन्होंने बेहतरीन अभिनय कर अपनी छाप छोड़ी। दिलीप कुमार उनसे बेहद प्रभावित हुए। जवानी में बूढ़े का रोल संजीव कुमार उम्रदराज व्यक्ति की भूमिका निभाने में माहिर समझे जाते थे। 22 वर्ष की उम्र में ही उन्होंने एक नाटक में बूढ़े का रोल अदा किया था। कई फिल्मों में उन्होंने अपनी उम्र से अधिक उम्र वाले व्यक्ति के किरदार निभाए और काफी पसंद किए गए। गुलजार के साथ जोड़...
offbeat-films-of-two-thousand-seventeen

2017 की ऑफबीट फिल्में

50 सप्ताह पहले
वर्ष 2017 बॉलीवुड के लिए बदलावों से भरा रहा। जहां एक तरह इस साल कई बड़े स्टार्स की फिल्में फ्लॉप हुईं, वहीं छोटे बजट की फिल्मों ने कमाल कर दिया। माइंडलेस सिनेमा के साथ इस वर्ष कई ऐसी जबरदस्त कंटेंट वाली फिल्में आईं जिन्होंने 2017 को यादगार वर्ष बना दिया। इन्हीं फिल्मों से राजकुमार राव जैसे टैलेंटेड स्टार्स भी उभरकर आए। इन फिल्मों ने नॉन कॉमर्शियल फिल्मों को लेकर दर्शक को भी सोचने पर मजबूर कर दिया। इसके साथ ही बॉलीवुड में ऐसी फिल्मों को नया नजरिया देने के साथ-साथ नया ट्रेंड भी स्थापित किया। इस ट्रेंड में बॉलीवुड के कमर्शियल फिल्मों के सुपरस्टार एक्टर अक्षय कुमार भी जुड़ते दिखे। छोटे बजट से तैयार की गई इन फिल्मों ने 2017 मे...
a-kishor-many-afsane

एक किशोर कई अफसाने

51 सप्ताह पहले
महान अभिनेता एवं गायक केएल सहगल के गानों से प्रभावित किशोर कुमार उनकी ही तरह के गायक बनना चाहते थे। सहगल से मिलने की चाह लिए किशोर कुमार 18 वर्ष की उम्र मे मुंबई पहुंचे, लेकिन उनकी इच्छा पूरी नहीं हो पाई। उस समय तक उनके बड़े भाई अशोक कुमार बतौर अभिनेता अपनी पहचान बना चुके थे। भाई की इच्छा अशोक कुमार चाहते थे कि किशोर नायक के रूप में अपनी पहचान बनाएं, लेकिन खुद किशोर कुमार को अदाकारी की बजाय पार्श्व गायक बनने की चाह थी, जबकि उन्होंने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा कभी किसी से नहीं ली थी। बॉलीवुड में अशोक कुमार की पहचान के कारण उन्हें बतौर अभिनेता काम मिल रहा था। ओपी नैय्यर की तारीफ किशोर कुमार को अपने जीवन में वह दौर भी देखन...
short-film-big-message

शार्ट फिल्म, बिग मैसेज

54 सप्ताह पहले
इरा टाक इरा टाक द्वारा लिखित व निर्देशित शार्ट फिल्म 'इवन द चाइल्ड नोज' है, जिसमें एक छोटा बच्चा अपने चाचा को सफाई का सबक सिखाता है।  स्वच्छ भारत अभियान पर आधारित यह फिल्म यू ट्यूब पर उपलब्ध है। दो मिनट 23 सेकंड की इस फिल्म की इस फिल्म को सूचना और प्रसारण विभाग की तरफ से सर्टिफिकेट ऑफ  एक्सीलेंस से नवाजा गया है राखी रॉय  कोलकाता की राखी रॉय ने कई शॉर्ट...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो