sulabh swatchh bharat

गुरुवार, 24 अगस्त 2017

 india-will-create-deep-sea-watercraft

गहरे समुद्र में जाने वाला वॉटरक्राफ्ट बनाएगा भारत

13 घंटे पहले
अंतरिक्ष में कामयाबी के झंडे गाड़ने के बाद अब भारतीय वैज्ञानिक समुद्र की गहराइयों को नापने की तैयारियों में जुट गए हैं। वैज्ञानिक एक ऐसा वीइकल बना रहे हैं, जिसके जरिए इंसान गहरे समुद्र में जा सके। बता दें कि हाल ही में इसरो के वैज्ञानिकों ने सबसे भारी रॉकेट जीएसएलवी-एमके3 लांच किया था, जिसमें इंसान को अंतरिक्ष में ले जाने की क्षमता है। ईएसएसओ- नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ ओशीन टेक्नॉलजी से जुड़े वैज्ञानिकों की एक टीम गहरे पानी में जा सकने वाले देश के पहले इंसानी वीइकल के शुरुआती डिजाइन के साथ तैयार हैं। इसमें तीन लोग सवार हो सकते हैं। इसके आने वाले पांच साल में तैयार होने की उम्मीद है। इसे बनाने में करीब 500 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसकी ...
 website-launch-in-honor-of-gallantry-award-winners

शौर्य पुरस्कार विजेताओं के सम्मान में वेबसाइट लांच

13 घंटे पहले
आजादी के बाद से शौर्य पुरस्कार पाने वालों के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक नई वेबसाइट लांच की। इस वेबसाइट में बहादुर पुरुषों, स्त्रियों, नागरिकों एवं सशस्त्र बल कर्मियों की प्रेरक कहानियां होंगी। पीएम ने इस वेबसाइट का जिक्र लाल किले से भाषण के दौरान भी किया। उन्होंने स्वाधीनता दिवस के अवसर पर इस वेबसाइट को लांच करने की घोषणा विभिन्न ट्वीट के जरिए दी। ट्वीट संदेशों की एक श्रृंखला के जरिये वेबसाइट http://gallantryawards.gov.in/ के शुभारंभ की घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह पोर्टल हमारे सैन्य-असैन्य दोनों ही क्षेत्रों के शूरवीर पुरुषों और महिलाओं की गाथाओं को संरक्षित रखेगा और उसे लोगो...
all-region-of-northeast-will-be-digital-in-five-months

पांच महीने में पूरा पूर्वोत्तर होगा डिजिटल

2 सप्ताह पहले
सारा देश डिजिटल तब होगा, जब पूर्वोत्तर भारत पूरी तरह से डिजिटलीकृत हो जाएगा। इस अवधारणा के साथ केंद्र ने अगले पांच साल में पूरे होने वाले डिजिटल-एनई (नार्थ-ईस्ट) विजन बनाया है। इसके तहत क्षेत्र के छह करोड़ परिवारों को राष्ट्रीय डिजिटल साक्षरता अभियान के अधीन डिजिटल शिक्षा देकर आत्मनिर्भर बनाया जाएगा। दस साल से अधिक पुराने आपराधिक मामलों की कानूनी समीक्षा की जाएगी। यह जानकारी गुवाहाटी में केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी और कानून व न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी। उन्होंने बताया कि इस सिलसिले में उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री सोनोवाल के साथ दो घंटे तक मैराथन बैठक की है। आईटी और कानून से जुड़े मुद्दों को लेकर हुई इस बैठक में कई महत्व...
uday-yojna-provides-relief-to-people

उदय से हुआ उजाला

3 सप्ताह पहले
उदय योजना ने देश को बिजली की बदहाली से उबारना शुरू कर दिया है। योजना के लागू होने के मात्र दो साल ही हुए हैं, लेकिन इतने कम समय में ही बिजली कटौती की समस्या आधी से भी कम रह गई है। इस योजना के चलते राज्यों की बिजली वितरण कंपनियों की आर्थिक बदहाली के दिन दूर हो चुके हैं। इसका असर यह हुआ है कि प्रति दिन बिजली कटौती के घंटे 19 से घटकर 7 तक पहुंच चुके हैं। उदय से फैला उजियारा देश में बिजली की जबरदस्त किल्लत और वितरण कंपनियों की आर्थिक बदहाली को सुधारने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने 5 नवंबर, 2015 को उदय योजना को लागू किया। इस योजना ने राज्यों की बिजली वितरण कंपनियों को कर्ज से उबरने का एक नया रास्ता दिखाया। आज ये कंपनियां अपने ऋणों को वित्त...
skill-development-of-rural-youth-in-manipur

ग्रामीण युवाओं का कौशल विकास

5 सप्ताह पहले
मौजूदा वित्तीय वर्ष में मणिपुर राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन ने 10518 उम्मीदवारों को प्रशिक्षित करने की योजना बनाई है। इस योजना के तहत दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना (डीडीयू-जीकेवाई) के कार्यान्वयन के लिए अपोलो मेडस्कील्स लिमिटेड के साथ एक समझौते ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है। इस एमओयू पर राज्य मिशन के निदेशक आर सुधान और अपोलो मेडस्कील्स के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एस श्रीधर और पंचायतीराज मंत्री थोंगम बिश्वजीत सिंह ने हस्ताक्षर किए। डीडीयू-जीकेवाई राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की कौशल क्रिया है, जो ग्रामीण युवाओं को आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहा है। यह योजना उन्हें मुफलिसी से उत्पादकता की तरफ ले जा रहा है। यह इंटर्नशिप और प्लेसमेंट के अवसरों की पहचान करने और स्नातक स्तर की पढ़ाई...
india-first-solar-train-running-in-the-country

देश में दौड़ी सोलर ट्रेन

5 सप्ताह पहले
भारत अब उन देशों की सूची में शामिल हो गया है, जहां रेलवे के परिचालन में सौर ऊर्जा की मदद ली जा रही है। भारतीय रेलवे की सोलर पॉवर सिस्टम की तकनीक पर आधारित पहली ट्रेन को रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने हरी झंडी दिखाई। इसे तकनीकी रूप से स्पेशल डीईएमयू (डीजल-इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट) ट्रेन कहा जा रहा है। इस ट्रेन में कुल 10 कोच (8 पैसेंजर और 2 मोटर) हैं। ट्रेन के 8 कोच की छतों पर 16 सोलर पैनल लगे हैं। सूरज की रोशनी से इस ट्रेन की छत पर लगे सोलर पैनल से 300 वॉट बिजली बनेगी और कोच में लगा बैटरी बैंक चार्ज होगा। इसी से ट्रेन की सभी लाइट, पंखे और इंफॉर्मेशन सिस्टम संचालित होगा। रेलवे का कहना है कि यह ट्रेन हर साल 21 हजार लीटर डीजल की बचत करेगी। रेलवे का कहना है कि अगले 6 महीने में ऐसे 24 कोच और मिल ...
competition-in-villages-for-make-smart

गांवों में स्मार्ट बनने की होड़

6 सप्ताह पहले
डिजिटल क्रांति के दौर में देश के गांवों का चेहरा भी तेजी से बदल रहा है। पिछड़ापन और गरीबी से आगे कैशलेस इकोनॉमी और ई-गवर्नेंस है अब इन गांवों की पहचान। अच्छी बात यह भी है कि एक तरफ जहां ऐसे कई गांव अलग-अलग सूबों में मॉडल गांव की तर्ज पर देखे और सराहे जा रहे हैं, वहीं इनकी सफलता से प्रेरणा पाकर आसपास के गांवों के बीच भी स्मार्ट होने की होड़ मची है।    देश का पहला कैशलेस गांव देशभर के शहरों, कस्बों और गांवों में नोटबंदी के दौरान बैंकों के बाहर लंबी-लंबी कतारें देखने को मिल रही थी, लेकिन गुजरात के एक गांव में सिर्फ एक एटीएम होने...
toilets-started-in-54-blocks-of-jagat-block-in-uttar-pradesh

जगत ब्लॉक के 54 गांव में बनने लगे शौचालय

6 सप्ताह पहले
उत्तर प्रदेश के बदायूं में खुले में शौच से मुक्ति दिलाने की कवायद कर रही सरकारी मशीनरी की मेहनत का नतीजा जगत ब्लॉक में दिखने लगा है। स्वच्छता की अलख जगाने निकली स्वच्छताग्रहियों की टीम की मेहनत से ब्लॉक के 54 गांवों में शौचालय बनने लगे हैं, तो बाकी बचे गांव में जाने की तैयारी भी शुरू कर दी गई है।  जिले का प्रशासनिक अमला स्वच्छ भारत मिशन अभियान में जुटा है। अब तक दर्जनों गांव एक के बाद एक ओडीएफ घोषित किए गए हैं।  बाकी की पहल अभी जारी है। बीते दिनों जिले का चार्ज संभालने के बाद सीडीओ शेषमणि पांडेय ने ओडीएफ की कवायद को और तेज किया तो जगत ब्लॉक इस चरण में ओडीएफ के लिए चिन्हित किया गया। जगत ब्लॉक को ओडीएफ कराने की कमान...
efforts-to-increase-earnings-of-farmers

किसानों की कमाई बढ़ाने की कोशिश

7 सप्ताह पहले
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लक्ष्य 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करना है। इसके लिए सिंचाई से लेकर ऋण, बीज और खाद की उपलब्धता के लिए सरकार ने चरणबद्ध तरीके अपनाए हैं। पहला चरण कृषि पर लागत कम करने का है। दूसरा नई तकनीक को खेतों तक पहुंचाकर उत्पादकता में वृद्धि लाना है। तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण चरण उत्पाद के लिए उचित बाजार उपलब्ध कराना है। इसके लिए किसानों को बिचौलियों के चंगुल से मुक्त कराना जरुरी है। मध्य प्रदेश के मंदसौर से लेकर महाराष्ट्र तक फैले मौजूदा किसान आंदोलन के पीछे उपज की उचित कीमत नहीं मिल पाने की समस्या है। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह कहते हैं कि उत्पादक किसानों को मंडियों से सीधे जोड़ने की योजन...
concern-for-development-of-tribal-children

आदिवासी बच्चों के विकास की चिंता

7 सप्ताह पहले
यह शायद बहुत कम लोगों को पता है कि बिहार की मधुबनी पेंटिंग, आंध्र की कलमकारी, राजस्थान की फड़ की तरह दहाणु की वारली चित्रकला भी कलाओं में अपना स्थान रखती है। इस चित्रकला ने भी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है। इसी कारण यह क्षेत्र पर्यटन के नक्शे पर आ गया है, लेकिन इस तालुका के गांवों की तरफ जाने के बाद मालूम होता है कि भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई से मात्र 110 किलोमीटर की दूरी पर होने के बावजूद यह क्षेत्र कितना पिछड़ा हुआ है। यह पालघर जिले में है, जहां आदिवासी बहुतायत में हैं। सबसे दुखद स्थिति यह है कि यह आदिवासी बहुल इलाका आज भी बुनियादी सुविधाओं से दूर है जबकि इसकी गिनती औद्योगिक क्षेत्र के रूप में होती है। हालांकि सरकार की योजन...
suresh-prabhu-launches-safe-and-smart-rail-coaches

रेल कोच अब ज्यादा स्मार्ट और सेफ

8 सप्ताह पहले
भारतीय रेल आधुनिकता के साथ यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा के लिहाज से बीते तीन सालों से तेजी से नई पटरी पर दौड़ रही है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने हाल में ही आम जनता की रेल यात्रा को और सुखद बनाने के लिए एक मेगा प्रोजेक्ट लांच किया है। इसके तहत करीब 40 हजार पुराने कोचों का कायाकल्प किया जाएगा। सरकार के इस मिशन रेट्रो फिटमेंट प्रोजेक्ट के तहत भारतीय रेलवे अपनी रेल के कोचों का न सिर्फ इंटीरियर बदलेगी, बल्कि कई प्रकार की आवश्यक सुविधाएं और सेफ्टी फीचर्स भी प्रोवाइड करवाएगी। साथ ही एलईडी लाइट्स, ब्रांडेड फिटिंग्स, धुएं से ही बज उठने वाले अलार्म इस मिशन के तहत लगाए जाएंगे। इसे रेलवे कोच को आधुनिक बनाने का यह अभी तक का सबसे महत्वाकांक्...
noorjahan-use-solar-light-to-village-of-kanpur

नूरजहां का सौर प्रकाश

8 सप्ताह पहले
यह कहानी है नूरजहां की। ‘नूरजहां’ नाम का अर्थ ही है दुनिया को रोशन करना। इसी को चरितार्थ करते हुए कानपुर की नूरजहां नाम की एक महिला सौर ऊर्जा का प्रयोग कर पूरे गांव को रौशन कर रही है। नूरजहां पहली बार चर्चा में तब आईं जब प्रधानमंत्री मोदी ने इनका जिक्र नवंबर 2015 में अपनी ‘मन की बात’ में किया। प्रधानमंत्री अपने रेडियो आधारित कार्यक्रम ‘मन की बात’ में जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दे पर बात कर रहे थे और उन तमाम लोगों को नूरजहां के बारे में बताकर उदाहरण दे रहे थे। मोदी ने तब कहा था कि कानपुर में नूरजहां नाम की एक महिला हैं। टीवी पर देखने से नहीं लगता है कि उन्हें ज्यादा पढ़ने का सौभाग्य मिला ह...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो