sulabh swatchh bharat

शनिवार, 22 सितंबर 2018

adultcare-services-among-the-elderly-popular

बुजुर्गों के बीच 'अडल्टकेयर' सेवाएं लोकप्रिय

2 सप्ताह पहले
भारत भले ही दुनिया का सबसे  युवा देश है, लेकिन एक हकीकत यह भी है कि भारत में बुजुर्गों की आबादी उम्मीद से अधिक तेजी से बढ़ रही है। बुजुर्गों की संख्या 2050 तक बढ़कर 34 करोड़ तक पहुंचने की संभावना है, जो संयुक्त राष्ट्र के 31.68 करोड़ के अनुमान से अधिक है। यह एक स्पष्ट संकेत है कि भारत अनुमान से अधिक तेजी से बूढ़ा हो रहा है। इन अनुमानों ने स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न खड़ा किया है कि क्या हम तेजी से बढ़ रही बुजुर्गो की आबादी को गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा व समुचित देखभाल के लिए तैयार हैं?  बढ़ती उम्र न केवल शारीरिक, बल्कि मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करती है। इसीलिए विदेशों की तर्ज पर अडल्टकेय...
fasting-is-diabetes-precise-drug

उपवास है डायबिटीज की अचूक दवा

3 सप्ताह पहले
डायबिटीज के शिकार लोगों के लिए ब्लड शुगर और वजन को नियंत्रित रखना बेहद जरूरी होता है। इसके लिए डॉक्टर उन्हें संतुलित खानपान या डायटिंग की सलाह देते हैं। मगर ऑस्ट्रेलिया स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ ऑस्ट्रेलिया के विशेषज्ञों ने दावा किया है कि कैलोरी नियंत्रित करने वाली डाइट की जगह डायबिटीज को अन्य तरीके से भी नियंत्रित किया जा सकता है। उन्होंने हफ्ते में दो दिन उपवास रखने और पांच दिन सामान्य खानपान रखने का सुझाव दिया है। शोध में उन्होंने दावा किया है कि इस तरह से भी हफ्ते में उनकी कैलोरी की खपत 600 कैलोरी ही रहेगी। दुनिया में पहली बार हुए अपनी तरह के इस शोध में विशेषज्ञों ने दावा कि टाइप 2 डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए वजन बहुत...
most-given-medicine-is-antibiotics

सबसे ज्यादा दी जाने वाली दवा है एंटीबायोटिक्स

5 सप्ताह पहले
भारत सहित कई देशों में एंटीबायोटिक दवाओं की आपूर्ति बढ़ने से वैश्विक स्तर पर एंटीबायोटिक का असर बुरी तरह बेअसर होता जा रहा है। ऐसा एक शोध में सामने आया है, जिसमें कानून को बेहतर तरीके से तत्काल लागू करने की जरूरत बताई गई है। शोध में पाया गया है कि 2000 व 2010 के बीच एंटीबायोटिक्स का उपभोग वैश्विक रूप से बढ़ा है और यह 50 अरब से 70 अरब मानक इकाई हो गया है। इसके इस्तेमाल में वृद्धि में प्रमुख रूप से भारत, चीन, ब्राजील, रूस व दक्षिण अफ्रीका में हुई है। ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के इमानुएल एडेवुयी ने कहा कि एंटीबायोटिक दवाओं का अत्यधिक इस्तेमाल एंटीबायोटिक के प्रतिरोध के फैलाव व विकास को सुविधाजनक बन...
dragon-fruit-super-food

ड्रैगन फ्रूट यानी ‘सुपर फूड’

8 सप्ताह पहले
ड्रैगन फ्रूट कैक्टस प्रजाति के एक पौधे का फल है, जिसे ‘सुपर फूड’ भी कहा जाता है। क्योंकि इसमें कैंसर सहित कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता है और इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। ड्रैगन फ्रूट को पिताया और स्ट्रॉबेरी पेयर के नाम से भी जाना जाता है। इसका वानस्पतिक नाम हायलोसेरीयस उंडटस है। यह मुख्यतः उष्णकटिबंधीय क्षेत्र का पौधा है और इसकी उत्पत्ति मध्य और दक्षिणी अमेरिका माना जाता है। एनसायक्लोपीडिया ऑफ फ्रूट्स एंड नट्स के अनुसार ड्रैगन फ्रूट को पहली बार करीब 2300 वर्ष पूर्व प्री-कोलंबियन सेटलमेंट के दौरान देखा गया था। इसके बाद यूरोप के लोग इसका बीज ताइवान लेकर आए। वर्ष ...
herpes-is-associated-with-alzheimers

अल्जाइमर से जुड़ा है हर्पीस

8 सप्ताह पहले
वैज्ञानिकों को हर्पीस संक्रमण व अल्जाइमर बीमारी के जुड़े होने के साक्ष्य मिले हैं। साथ ही वैज्ञानिकों ने एंटीवायरल की संभावनाओं का भी पता लगाया है, जो न्यूडिजनरेटिव रोग के खतरे को कम करता है। इस शोध में जब गंभीर रूप से हर्पीस से संक्रमित लोगों का एंटीवायरल दवाओं के साथ इलाज किया गया तो डिमेंशिया (मनोभ्रम) का सापेक्ष खतरा 10 गुना कम हो गया। हर्पीस सिम्पेक्स वायरस (एचएसवी) ज्यादातर मानव को युवा काल में संक्रमित करता है या परिधीय तंत्रिका तंत्र के भीतर शरीर में जीवन भर निष्क्रिय रूप में बना रहता है। ऐसे बहुत से शोध हैं, जो हर्पीस व अल्जाइमर के संबंध को बताते हैं। मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के ताइवानी इपिडेमिओलाजिस्ट द्वा...
vitamin-d-in-indian-women

भारतीय महिलाओं में विटामिन-डी!

9 सप्ताह पहले
एम्स, सफदरजंग और फोर्टिस अस्पताल के डॉक्टरों द्वारा मिलकर किए गए शोध से पता चला है कि उत्तर भारत में रहने वाली करीब 69 फीसदी महिलाओं में विटामिन-डी की कमी है और करीब 26 फीसदी महिलाओं में विटामिन-डी की मात्रा पर्याप्त है। मात्र 5 फीसदी महिलाओं में ही सही मात्रा में विटामिन-डी पाया जाता है।   विटामिन-डी का वैसे तो सीधा संबंध धूप से है। सूर्य की किरणों से मिलने वाला विटामिन स्वस्थ हड्डियों के लिए ही नहीं, बल्कि शरीर के प्रतिरोधी तंत्र के लिए भी बहुत जरूरी है। चूंकि भारतीय महिलाएं ज़्यादातर घर के कामकाज में व्यस्त रहती हैं इस वजह से धूप का सेवन कम करती हैं। दूसरी वजह, महिलाओं में होने वाला हॉर्मोनल बदलाव है। मेनोपोज...
neem-compound-will-treat-breast-cancer

नीम यौगिक से होगा स्तन कैंसर का इलाज

10 सप्ताह पहले
हैदराबाद स्थित एनआईपीईआर के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि नीम के पत्तों और फूलों से प्राप्त एक रासायनिक यौगिक निंबोलाइड स्तन कैंसर के इलाज में कुशलतापूर्वक काम कर सकता है। वैज्ञानिक चंद्रयाह गोडुगु ने कहा कि वे आगे अनुसंधान करने और नैदानिक परीक्षण के वित्त पोषण के लिए जैव प्रौद्योगिकी विभाग, आयुष और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभागों और विभिन्न एजेंसियों के संपर्क में हैं। उन्होंने कहा कि उन्नत तकनीकी प्रक्रियाओं द्वारा इससे सस्ती एंटी-कैंसर दवा बनाई जा सकती है, क्योंकि नीम का पेड़ भारत में हर जगह पाया जाता है। अनुसंधान कार्यक्रम से जुड़े गोडुगु ने कहा, इसके ‘कैंसर विरोधी तत्वों के अलावा, यह एक आशाजनक केमोप्रेंटेंटिव ...
pancreatic-treatment-for-cancer-patients

कैंसर रोगियों के लिए पंचगव्य उपचार

12 सप्ताह पहले
कैंसर को दुनिया की सबसे लाइलाज बीमारी माना जाता है। इस भयानक बीमारी का पता जब मरीज को चलता है तब बहुत देर हो चुकी होती है। ज्यादातर कैंसर रोगियों का इलाज महंगा और बहुत कष्टदायक होता है। भारत में कैंसर के रोगियों को राहत देने और सस्ते इलाज के लिए लगातार नए-नए शोध हो रहे हैं और देशभर में कैंसर के इलाज के अस्पताल खुल रहे हैं। लेकिन हिंदुस्तान की प्राचीन इलाज पद्धति पंचगव्य और आयुर्वेदिक दवाओं से भी कैंसर रोगियों का सफल इलाज किया जा सकता है, इस बात की जानकारी बहुत कम लोगों को है। देश में कई पंचगव्य संस्थानों द्वारा कैंसर रोगियों पर शोध किया जा रहा है और इलाज के लिए नई नई दवाओं की खोज भी की जा रही है। दरअसल आयुर्वेद में पंचगव्य पद्धत...
in-a-few-hours-you-can-learn-new-things

कुछ घंटों में आप सीख सकते हैं नई चीज

14 सप्ताह पहले
शोध बताते हैं कि अगर हम किसी विषय को पहली बार पढ़ रहे हैं तो हम उसे पहली बार पढ़ने के बाद से अगले 20 घंटों में सबसे ज्यादा बेहतर याद कर पाते हैं। उस दौरान किसी नई जानकारी के प्रति दिमाग की गति बहुत तेज होती है, क्योंकि नई जानकारी को लेकर दिलचस्पी का स्तर और उसके प्रति दिमाग की प्रतिक्रिया की क्षमता बहुत ज्यादा होती है। 19वीं सदी के जर्मन दार्शनिक और मनोवैज्ञानिक हरमन एब्बिनगस इस अध्ययन को करने वाले वाले पहले शख्स थे कि दिमाग किसी नई जानकारी को किस तरह से इकट्ठा करता है। वे लर्निंग कर्व का आइडिया लेकर आए। लर्निंग कर्व का मतलब नए हुनर और उसे सीखने में लगने वाले समय के बीच संबंध से है। इसे ग्राफ में दिखाने के लिए आपको 'ज...
dangerous-addiction-to-smoke

धुएं की खतरनाक लत

16 सप्ताह पहले
भारत में 6.25 लाख से ज्यादा बच्चे रोजाना धूम्रपान करते हैं जो जन स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर चेतावनी है। एक वैश्विक अध्ययन में यह जानकारी सामने आई है। 'ग्लोबल टोबैको एटलस' के मुताबिक तंबाकू के सेवन से देश में हर हफ्ते 17,887 जानें जाती हैं। हालांकि ये आंकड़े मध्यम मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) वाले देशों में होने वाली औसत मौतों से कम है। ‘अमेरिकन कैंसर सोसायटी और वाइटल स्ट्रैटजीज’ द्वारा तैयार रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में धूम्रपान की आर्थिक लागत 18,18,691 मिलियन रुपए है। इसमें स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी प्रत्यक्ष लागत और असामयिक मौत व अस्वस्थता के कारण उत्पादकता नष्ट होने से जुड़ी अप्रत्यक्ष लागत शामिल है। रिपोर्ट में कहा गया कि हालांकि मध्य मानव विकास सूचकांक ...
free-chemotherapy-facility-in-10-districts

10 जिलों में मिलेगी फ्री कीमोथेरेपी सुविधा

18 सप्ताह पहले
महाराष्ट्र सरकार जून से 10 जिलों में मुफ्त कीमोथेरेपी  की सुविधा देने वाली है। पहले चरण में यह सुविधा नागपुर, गडचिरोली, पुणे, अमरावती, जलगांव, नासिक, वर्धा, सतारा, भंडारा और अकोला के जिला अस्पतालों में दी जाएगी। अगले महीने से मुंबई के टाटा अस्पताल में इन जिलों से फिजिशिन और नर्सों को तीन हफ्ते के लिए ट्रेनिंग दी जाएगी। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री दीपक सावंत ने बताया कि टाटा अस्पताल में मरीजों को कीमो का 6 हफ्तों का कोर्स कराया जाता है। इसके लिए उन्हें हर हफ्ते मुंबई आना पड़ता है। मरीजों को मुंबई तक आने में होने वाली समस्याएं खत्म करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जिला स्तर पर यह सुविधा मुफ्त में देने की योजना बनाई है। स्कीम के ए...
properties-of-ashwagandha-will-grow-in-organic-way

जैविक तरीके से बढ़ेगा अश्वगंधा का गुण

19 सप्ताह पहले
भारतीय, अफ्रीकी और यूनानी पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में तीन हजार से ज्यादा सालों से अश्वगंधा का उपयोग हो रहा है। भारतीय वैज्ञानिकों ने एक ताजा अध्ययन में पाया है कि जैविक तरीके से उत्पादन किया जाए तो अश्वगंधा के पौधे की जीवन दर और उसके औषधीय गुणों में बढ़ोत्तरी हो सकती है। शोध के दौरान सामान्य परिस्थितियों में उगाए गए अश्वगंधा की अपेक्षा वर्मी-कंपोस्ट से उपचारित अश्वगंधा की पत्तियों में विथेफैरिन-ए, विथेनोलाइड-ए और विथेनोन नाम के तीन विथेनोलाइड्स जैव-रसायनों की मात्रा लगभग 50 से 80 प्रतिशत ज्यादा पाई गई है। ये बायो केमिकल अश्वगंधा के गुणों में बढ़ोत्तरी के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं। अमृतसर स्थित गुरु नानक देव विश्वविद्यालय और जापान के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ एडवांस्ड इंड...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो