sulabh swatchh bharat

शुक्रवार, 22 जून 2018

in-a-few-hours-you-can-learn-new-things

कुछ घंटों में आप सीख सकते हैं नई चीज

एक सप्ताह पहले
शोध बताते हैं कि अगर हम किसी विषय को पहली बार पढ़ रहे हैं तो हम उसे पहली बार पढ़ने के बाद से अगले 20 घंटों में सबसे ज्यादा बेहतर याद कर पाते हैं। उस दौरान किसी नई जानकारी के प्रति दिमाग की गति बहुत तेज होती है, क्योंकि नई जानकारी को लेकर दिलचस्पी का स्तर और उसके प्रति दिमाग की प्रतिक्रिया की क्षमता बहुत ज्यादा होती है। 19वीं सदी के जर्मन दार्शनिक और मनोवैज्ञानिक हरमन एब्बिनगस इस अध्ययन को करने वाले वाले पहले शख्स थे कि दिमाग किसी नई जानकारी को किस तरह से इकट्ठा करता है। वे लर्निंग कर्व का आइडिया लेकर आए। लर्निंग कर्व का मतलब नए हुनर और उसे सीखने में लगने वाले समय के बीच संबंध से है। इसे ग्राफ में दिखाने के लिए आपको 'ज...
dangerous-addiction-to-smoke

धुएं की खतरनाक लत

3 सप्ताह पहले
भारत में 6.25 लाख से ज्यादा बच्चे रोजाना धूम्रपान करते हैं जो जन स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर चेतावनी है। एक वैश्विक अध्ययन में यह जानकारी सामने आई है। 'ग्लोबल टोबैको एटलस' के मुताबिक तंबाकू के सेवन से देश में हर हफ्ते 17,887 जानें जाती हैं। हालांकि ये आंकड़े मध्यम मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) वाले देशों में होने वाली औसत मौतों से कम है। ‘अमेरिकन कैंसर सोसायटी और वाइटल स्ट्रैटजीज’ द्वारा तैयार रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में धूम्रपान की आर्थिक लागत 18,18,691 मिलियन रुपए है। इसमें स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी प्रत्यक्ष लागत और असामयिक मौत व अस्वस्थता के कारण उत्पादकता नष्ट होने से जुड़ी अप्रत्यक्ष लागत शामिल है। रिपोर्ट में कहा गया कि हालांकि मध्य मानव विकास सूचकांक ...
free-chemotherapy-facility-in-10-districts

10 जिलों में मिलेगी फ्री कीमोथेरेपी सुविधा

5 सप्ताह पहले
महाराष्ट्र सरकार जून से 10 जिलों में मुफ्त कीमोथेरेपी  की सुविधा देने वाली है। पहले चरण में यह सुविधा नागपुर, गडचिरोली, पुणे, अमरावती, जलगांव, नासिक, वर्धा, सतारा, भंडारा और अकोला के जिला अस्पतालों में दी जाएगी। अगले महीने से मुंबई के टाटा अस्पताल में इन जिलों से फिजिशिन और नर्सों को तीन हफ्ते के लिए ट्रेनिंग दी जाएगी। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री दीपक सावंत ने बताया कि टाटा अस्पताल में मरीजों को कीमो का 6 हफ्तों का कोर्स कराया जाता है। इसके लिए उन्हें हर हफ्ते मुंबई आना पड़ता है। मरीजों को मुंबई तक आने में होने वाली समस्याएं खत्म करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जिला स्तर पर यह सुविधा मुफ्त में देने की योजना बनाई है। स्कीम के ए...
properties-of-ashwagandha-will-grow-in-organic-way

जैविक तरीके से बढ़ेगा अश्वगंधा का गुण

6 सप्ताह पहले
भारतीय, अफ्रीकी और यूनानी पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में तीन हजार से ज्यादा सालों से अश्वगंधा का उपयोग हो रहा है। भारतीय वैज्ञानिकों ने एक ताजा अध्ययन में पाया है कि जैविक तरीके से उत्पादन किया जाए तो अश्वगंधा के पौधे की जीवन दर और उसके औषधीय गुणों में बढ़ोत्तरी हो सकती है। शोध के दौरान सामान्य परिस्थितियों में उगाए गए अश्वगंधा की अपेक्षा वर्मी-कंपोस्ट से उपचारित अश्वगंधा की पत्तियों में विथेफैरिन-ए, विथेनोलाइड-ए और विथेनोन नाम के तीन विथेनोलाइड्स जैव-रसायनों की मात्रा लगभग 50 से 80 प्रतिशत ज्यादा पाई गई है। ये बायो केमिकल अश्वगंधा के गुणों में बढ़ोत्तरी के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं। अमृतसर स्थित गुरु नानक देव विश्वविद्यालय और जापान के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ एडवांस्ड इंड...
mal-transplant-can-save-many-diseases

मल ट्रांसप्लांट बचा सकता है कई बीमारियों से

7 सप्ताह पहले
  मल ट्रांसप्लांट यानी एक व्यक्ति का मल दूसरे व्यक्ति के शरीर में डालना शायद मेडिकल प्रक्रियाओं में सबसे बदबूदार और अजीब प्रक्रिया होगी। जाहिर है इसे अंजाम देना भी उतना ही मुश्किल होता होगा। लेकिन सवाल है कि ऐसा किया ही क्यों जाता है? क्या इससे हमारे पाचन तंत्र को कोई फायदा हो सकता है? क्या इससे किसी की जिंदगी बचाई जा सकती है? ये प्रक्रिया सबित करती है कि जीवाणुओं की हमारे शरीर में बड़ी अहम भूमिका होती है। इनसे हमारी सेहत की दशा और दिशा जुड़ी होती है। हमारी आंत की दुनिया में अलग-अलग प्रजातियों के जीवाणु पाए जाते हैं और ये सभी एक दूसरे से जुड़े होते हैं। इनका संपर्क हमारे ऊतकों से भी होता है। जिस तरह हमारे पारिस्थितिकी तंत्र को दुरुस्त ...
keeping-the-wallet-for-health

सेहत के लिए बटुए को रखें संभालकर

8 सप्ताह पहले
  सवेरे नहाकर तैयार हुए, बाल ठीक किए, घड़ी पहनी, मोबाइल चेक किया और कंघी-पर्स रखकर दफ्तर या दुकान जाने के लिए तैयार। दुनिया के ज्यादातर पुरुषों की सुबह कुछ इसी तरह गुजरती है। मोबाइल फोन के अलावा इन सभी में एक और ऐसी चीज है, जिसे भूल जाएं तो दिन भर बड़ा अधूरा सा लगता है, वो है पर्स या बटुआ। इस पर्स में रुपए-पैसे, फोटो, क्रेडिट-डेबिट कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस और दूसरे जरूरी पहचान पत्र सहेजे जाते हैं। जाहिर है कि इतनी सारी चीज एक ही जगह पर रखी जाती हैं तो पर्स के जिम्मे काफी जिम्मेदारी भी होती है। इसी वजह से वह काफी मोटा भी हो जाता है। ...और ये पर्स कहां रखा जाता है तो ज्यादातर पीछे वाली ज...
to-avoid-malaria-stay-away-from-iron-supplements

मलेरिया से बचना है तो आयरन सप्लीमेंट से रहें दूर

9 सप्ताह पहले
वैज्ञानिकों ने पाया है कि कभी-कभी आयरन का सेवन करने से शरीर में मलेरिया संक्रमण को बढ़ावा मिल सकता है। मलेरिया से पीड़ित मरीजों और चूहों पर किए गए संयुक्त अध्ययन में पाया गया कि आयरन शरीर के अंदर फेररोपोर्थिन नामक प्रोटीन की मात्रा को प्रभावित करता है। अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) के अध्ययनकर्ताओं के अनुसार ये शोध मलेरिया का इलाज करने की प्रक्रिया को और मजबूत बनाएगा। आपको बता दें कि साल 2016 में दुनियाभर में 21 करोड़ 60 लाख लोग मलेरिया संक्रमण के शिकार बने। एनआईएच की एक वरिष्ठ अधिकारी ट्रेसी रोआल्ट ने बताया कि, हमारा अध्ययन एक पुराने रहस्य से पर्दा उठाता है। आयरन सप्पलीमेंट लेने से मलेरिया संक्रमण बढ़ सक...
a-disease-that-can-be-a-victim-of-genius

एक बीमारी जिसके शिकार बच्चे जीनियस भी हो सकते हैं!

11 सप्ताह पहले
ऑटिज्म... इस शब्द और इससे जुड़े गंभीर संदर्भ से ज्यादातर लोग अपरिचित ही हैं। दरअसल, ऑटिज्म एक बीमारी है। अगर आपने फिल्म ‘माई नेम इज खान’ देखी होगी, तो याद होगा कि इस फिल्म में शाहरुख खान को माइल्ड ऑटिज्म होता है। यह बीमारी 6 वर्ष की उम्र में ही पनपनी शुरू हो जाती है। ऑटिज्म पर ही आधारित एक डेली सोप 'आपकी अंतरा' भी लोगों के बीच काफी मशहूर हुआ था। इस सीरियल में ऑटिज्म से जूझ रही एक छोटी सी बच्ची की कहानी दिखाई गई थी। समय के साथ ऑटिज्म को लेकर मेडिकल साइंस के साथ समाज का रवैया भी बदला है, इस रोग को अब लोग सीधे-सीधे मंदबुद्धि या कमजोर मानसिक विकास के तौर पर देखने के बजाय मानसिक बनावट की एक विलक्षण स्थिति के तौर प...
tb-will-be-free-by-2030-india

2030 तक टीबी मुक्त होगा भारत!

13 सप्ताह पहले
उपचार के लिहाज से तपेदिक यानी टीबी के खिलाफ मेडिकल साइंस ने बहुत पहले यह साफ कर दिया था कि इस रोग का इलाज संभव है और इसे किसी सूरत में लाइलाज न समझा जाए। पर इस रोग का कहर अब भी जारी है। खासतौर पर उन देशों में जहां बड़ी संख्या में लोग गरीब हैं और अस्वास्थ्यकर स्थितियों में रहने पर विवश है। दुर्भाग्य से भारत भी उन देशों में शामिल है। टीबी की इसी चुनौती को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मांग की है कि तपेदिक यानी टीबी पर संयुक्त राष्ट्र की एक आम बैठक बुलाई जाए। उसे ऐसा करने के लिए मजबूर होना पड़ा है, क्योंकि इस बीमारी से सबसे ज्यादा जूझ रहे देश इससे निपटने के लिए पर्याप्त इच्छाशक्ति नहीं दिखा रहे। टीबी के खिलाफ लड़ाई तब तक नहीं ...
fdc-medicines-may-be-out-of-the-market

बाजार से बाहर हो सकती हैं एफडीसी वाली दवाएं

14 सप्ताह पहले
349 फिक्स डोज कॉम्बिनेशन (एफडीसी) दवाओं पर एक बार फिर तलवार लटक गई है। माना जा रहा है कि इन्हें एक बार फिर बाजार से बाहर किया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर भारत के ड्रग कंट्रोलर जनरल ने इनकी जांच के लिए एक समिति का गठन कर दिया है। सरकार ने 2016 में इन दवाओं को अवैज्ञानिक और सेहत के लिए खतरनाक मानते हुए इन पर बैन लगा दिया था। इस बैन के खिलाफ कई नामी दवा कंपनियां सुप्रीम कोर्ट में चली गई थीं। कोर्ट ने बैन को गलत मानते हुए इसे खारिज कर दिया था। इस मामले में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के पुनर्विचार याचिका दायर करने पर अदालत ने सरकार से इन दवाओं की जांच करने के लिए एक समिति गठित करने को कहा था। भारत के ड्रग कंट्रोलर जन...
health-care-program-for-women

महिलाओं के लिए स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम

15 सप्ताह पहले
सैन फ्रांसिस्कोः  एप्पल का लक्ष्य भारत और चीन में पिछले साल शुरू किए गए जागरूकता कार्यक्रम के लाभों का विस्तार 2020 तक 10 लाख से अधिक महिलाओं तक किया जाएगा, जिसमें महिला कामगारों को निजी स्वास्थ्य पर ध्यान देने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। प्रौद्योगिकी दिग्गज ने गुरुवार को यह बातें कही। 2017 में, एप्पल ने भारत और चीन के सप्लायर्स के साथ काम करनेवाली महिलाओं के विशेष स्वास्थ्य कार्यक्रम शुरू किया था।  यह कार्यक्रम महिलाओं पर ध्यान केंद्रित करता है, क्योंकि परिवारों और समुदायों पर उनका बाहरी प्रभाव पड़ता है और क्य...
cancer-will-end-up-with-cancer

थेरेपी से खत्म हो जाएगा कैंसर

16 सप्ताह पहले
कैंसर ट्यूमर को खत्म करने के लिए वैज्ञानिकों ने अब एक नई थेरेपी इजाद की है। ये नया उपचार कैंसर ठीक करने के लिए इस्तेमाल होने वाली दो थेरेपी को साथ जोड़कर तैयार किया गया है। वैज्ञानिकों ने शोध में पाया है कि इस नई तकनीक से ट्यूमर ज्यादा तेजी से कमजोर पड़ता है। किडनी में होने वाले कैंसर को ठीक करने के लिए आम तौर पर दो थेरेपी का इस्तेमाल होता है। एक को 'एंटी-एंजियोजेनिसिस' कहते हैं और दूसरी को 'इम्यूनोथेरेपी' कहा जाता है। एंटी-एंजियोजेनिसिस शरीर में कैंसर कोशिकोओं का रक्त नली बनाने से रोकती है, वहीं इम्यूनोथेरेपी शरीर को कैंसर से लड़ने के लिए इम्यून सिस्टम को मजबूती देती है। वैज्ञानिकों ने दोनों थेरेपी में पा...


Bringing smiles to every face hindi ad copy %281%29

ऑडियो